Asianet News HindiAsianet News Hindi

डेंगू बुखार क्या है और यह कैसे होता है?

डेंगू देश भर में फैला हुआ है। इस वर्ष COVID-19 महामारी लॉकडाउन के कारण, डेंगू के प्रति जागरूकता अभियान, रैली, इत्यादि देश में आयोजित नहीं की जा रही हैं, लेकिन ऑनलाइन के माध्यम से इसके बारे में जागरूकता फैलाई जा सकती है। डेंगू बुखार एक मच्छर जनित बीमारी है जो फ्लू जैसी गंभीर बीमारी को जन्म दे सकती है।  

what is dengue fever, mosquito borne disease caused by any one of four closely related dengue virus kpv
Author
Bhopal, First Published Jul 17, 2020, 5:06 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हेल्थ डेस्क। डेंगू देश भर में फैला हुआ है। इस वर्ष COVID-19 महामारी लॉकडाउन के कारण, डेंगू के प्रति जागरूकता अभियान, रैली, इत्यादि देश में आयोजित नहीं की जा रही हैं, लेकिन ऑनलाइन के माध्यम से इसके बारे में जागरूकता फैलाई जा सकती है। डेंगू बुखार एक मच्छर जनित बीमारी है जो फ्लू जैसी गंभीर बीमारी को जन्म दे सकती है।  भारत में 13 अक्टूबर 2019 तक डेंगू बुखार के 67,000 से अधिक मामले सामने आए हैं। कर्नाटक राज्य में लगभग 12,756 मामले सामने आए हैं।  मानसून के मौसम के कारण, कुछ राज्यों में बारिश होने से डेंगू के फैलने की अधिक आशंका होती है।

डेंगू बुखार के लक्षण क्या हैं?
जब डेंगू बुखार ज्यादा गंभीर नहीं होता है तो बच्चों या किशोर में मुश्किल से इसके लक्षण दिखाई देते हैं. यदि लक्षण होते भी हैं, तो यह संक्रमित मच्छर द्वारा काटे जाने के चार से सात दिनों तक रहते हैं।सरदर्द, जोड़ों या मांसपेशियों में दर्द, जी मिचलाना, उल्टी आना, ग्रंथियों में सूजन आना, आंखों में दर्द होना रैश आना।ज्यादातर लोग एक या एक सप्ताह के भीतर ठीक हो जाते हैं. लेकिन कुछ मामलों में, लक्षण बिगड़ जाते हैं और जीवन के लिए खतरा बन जाते हैं और डेंगू के ये गंभीर कारण होते हैं. इस स्थिति में, रक्त वाहिकाएं क्षतिग्रस्त हो जाती हैं या रिसने लगती हैं. रक्तप्रवाह से प्लेटलेट्स गिर जाते हैं. डेंगू के गंभीर होने पर कुछ लक्षण हैं जो बुखार के दौरान होते हैं जैसे पेट में तेज़ दर्द होना, मूत्र, मल या उल्टी में ब्लड आना, थकान होना, बेचैनी होना, सांस लेने में दिक्कत का होना, मसूड़ों या नाक से रक्तस्राव होना।

डेंगू बुखार कैसे होता है?
डेंगू बुखार मच्छरों द्वारा फैले हुए चार प्रकार के डेंगू वायरस के कारण होता है. सभी वायरस एडीज एजिप्टी  या एडीस एल्बोपिक्टस  मच्छर के रूप में ज्ञात मच्छर प्रजातियों के माध्यम से फैलते हैं. आपको बता दें कि डेंगू वायरस में चार अलग-अलग सेरोटाइप (DEN-1, DEN-2, DEN-3 और DEN-4) शामिल हैं।  वे जीनस फ्लेवीवायरस, फैमिली फ्लेविविरिडे से संबंधित हैं।  एडीज एजिप्टी मच्छर अफ्रीका में उत्पन्न हुआ, लेकिन दुनिया भर के उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में भी पाया जाता है. जब एक मच्छर डेंगू वायरस से संक्रमित होता है और एक व्यक्ति को काटता है, तो वायरस मच्छर में प्रवेश करता है. जब यह संक्रमित मच्छर किसी अन्य व्यक्ति को काटता है, तो वायरस व्यक्ति के रक्तप्रवाह में प्रवेश कर जाता है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios