Asianet News HindiAsianet News Hindi

9वीं क्लास के छात्रों ने टीचर को पेड़ से बांधा, क्लर्क-चपरासी को भी जमकर पीटा, देखें SHOCKING VIDEO

झारखंड के दुमका जिले में छात्रों ने सरकारी स्कूल के टीचर, कलर्क और चपरासी को बंधक बना लिया और जमकर उसकी पिटाई की। छात्रों का आरोप है कि टीचर ने प्रैक्टिकल में कम नंबर दिए जिस कारण से 10 बच्चे फेल हो गए। 

dumka news students tied teacher to a tree, beat up clerk and peon pwt
Author
First Published Aug 31, 2022, 4:03 PM IST

दुमका. झारखंड के दुमका जिले से एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। टीचर द्वारा छात्रों की पिटाई के कई मामले आपने सुनें होंगे लेकिन यहां कम नंबर आने पर छात्रों ने शिक्षक की पिटाई की है। दुमका के एक सरकारी स्कूल में प्रैक्टिकल एग्जाम में कम नंबर दिए जाने से नाराज नौवीं कक्षा के छात्रों ने स्कूल के शिक्षक और क्लर्क की पेड़ से बांधकर पिटाई गई। इतना ही नहीं पिटाई का वीडियो बनाया और उसे वायरल भी कर दिया।

 

छात्रों का आरोप जानबूझकर कम दिए नंबर
नौवीं कक्षा में पढ़ने वाले छात्रों ने शिक्षक और कर्मचारी को पीटा उन्होंने आरोप लगाया है कि टीचर ने जानबूझकर उन्हें कम नंबर दिए, जिसकी वजह से वे फेल हो गए। इसी बात से नाराज छात्रों ने टीचर, क्लर्क और चपरासी को स्कूल के ही आम के पेड़ में रस्सी से बांधा और जमकर पीटा। छात्रों ने इस पूरी घटना का फेसबुक लाइव भी किया है। वीडियो सामने आने के बाद डीडीसी ने मामले की जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही है।

प्रैक्टिकल में कम नंबर देने से फेल हो गए थे 11 छात्र 
झारखंड एकेडमिक काउंसिल ने 26 अगस्त को 9वीं क्लास का रिजल्ट जारी किया था, जिसमें अनुसूचित जनजाति आवासीय उच्च विद्यालय गोपीकांदर के 11 छात्र फेल हो गए। इसी से गुस्साए छात्र ग्रुप बनाकर स्कूल के टीचर कुमार सुमन और क्लर्क सोनेराम चौड़े के पास पहुंचे और प्रैक्टिकल में दिए गए नंबर की पूछताछ करने लगे। वे पेपर दिखाए जाने की जिद कर रहे थे। पेपर दिखाने से इनकार किए जाने पर छात्र बेकाबू हो गए और दोनों के साथ धक्का-मुक्की करने लगे। चपरासी ने मामले को शांत कराने की कोशिश वे लेकिन छात्रों ने उसे भी बंधक बना लिया। 

क्या कहते हैं अधिकारी
दुमका के उप विकास आयुक्त (DDC) ने कहा कि इसकी जांच जिला कल्याण पदाधिकारी और गोपीकांदर के बीडीओ करेंगे। स्टूडेंट्स के आरोप की भी जांच की जाएगी।​​​​ डीडीसी ने कहा कि कारण कुछ भी हो लेकिन शिक्षक और अन्य लोगों की पिटाई करने का मामला गंभीर है। उन्होंने कहा कि इसमें दोषी छात्रों को चिन्हित किया जा रहा है, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

इसे भी पढ़ें- रायपुर से बचेगी झारखंड की सत्ता: विधायकों को भेजी गई महंगी शराब, 2 दिनों के लिए बुक है आलीशान रिसॉर्ट

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios