Asianet News HindiAsianet News Hindi

जमशेदपुर की शिक्षिका शिप्रा को मिलेगा राष्ट्रीय शिक्षक का पुरस्कार, 5 सितंबर को राष्ट्रपति देंगी पुरस्कार

देश में राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार 2022 की घोषणा शुक्रवार के दिन कर दी गई है। इसमें झारखंड की एकमात्र शिक्षिका शिप्रा मिश्रा का चयन किया गया है। उनको 5 सितंबर को टीचर्स डे के दिन राष्ट्रपति  द्रौपदी मुर्मू द्वारा पुरस्कृत  किया  जाएगा। 

jamshedpur news jharkhand teacher shipra mishra selected for national teacher award 2022 asc
Author
Jamshedpur, First Published Aug 26, 2022, 12:18 PM IST

जमशेदपुर( झारखंड): केंद्र की ओर से राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार 2022 की घोषणा कर दी गई है। इसमें झारखंड की एकमात्र शिक्षिका शिप्रा मिश्रा का चयन किया गया है। शिप्रा को 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के दिन देश की राजधानी दिल्ली में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू पुरस्कृत करेंगी। शिप्रा मिश्रा पूर्वी सिंहभूम जिले के जमशेदपुर स्थित टाटा वर्कर्स यूनियन प्लस टू हाई स्कूल कदमा की विज्ञान की शिक्षिका है। उन्हें यह पुरस्कार मिलने की घोषणा मात्र से पूरे स्कूल में खुशी की लहर है इसके साथ ही जमशेदपुर के लोग भी शिप्रा को राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार मिला गर्व की बात बता रहे हैं। बता दे कि इनके साथ ही देश भर में कुल 46 शिक्षकों का  सम्मान किया जाएगा।

राज्य सरकार की ओर से तीन नाम भेजे गए थे
राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार के लिए राज्य सरकार की ओर से झारखंड के 3 शिक्षकों का नाम भेजा गया था जिसमें सिर्फ शिप्रा मिश्रा का चयन हुआ। यह लगातार दूसरा साल है, जब जमशेदपुर के सरकारी स्कूल से इस पुरस्कार के लिए किसी शिक्षक का चयन हुआ है पिछले वर्ष हिंदुस्तान मित्र मंडल मध्य विद्यालय के शिक्षक मनोज सिंह को यह पुरस्कार मिला था। शिप्रा मिश्रा मूल रूप से बिहार के पूर्णिया की रहने वाली है।

स्वच्छता- इनोवेशन से मिला सम्मान
कदमा टाटा वर्कर्स यूनियन प्लस टू हाई स्कूल की शिक्षिका शिप्रा मिश्रा का राष्ट्रीय पुरस्कार के लिए चयनित होने की मुख्य वजह शिक्षण व स्वच्छता के क्षेत्र में उनका इनोवेशन है। उनके कई विद्यार्थियों ने भी विज्ञान प्रदर्शनी में पुरस्कार जीता है। छात्रा नेहा सरदार द्वारा बनाए गए स्मार्ट विलेज के मॉडल को विज्ञान प्रदर्शनी में राज्य स्तरीय पुरस्कार मिला था। हाल ही में आईएसएम धनबाद में सरकारी स्कूलों की श्रेणी में टाटा वर्कर्स यूनियन प्लस टू हाई स्कूल कदमा के छात्रों द्वारा बनाए गए ऑटोमेटिक क्लीन टॉयलेट के प्रोजेक्ट को ओवरऑल श्रेणी के पुरस्कार के लिए चयनित किया गया था। इसके साथ ही राष्ट्रीय स्तर पर स्वच्छता पुरस्कार के लिए इस स्कूल का चयन हो चुका है।

इस तरह रहा इनका कॅरियर
शिप्रा मिश्रा ने जमशेदपुर के बिस्टुपुर के बेल्डीह चर्च स्कूल से अपना शिक्षण कार्य शुरु किया था। वर्ष 2009 में विज्ञान की शिक्षिका के रूप में योगदान दिया था। उन्होंने फिर जेपीएससी द्वारा शिक्षक नियुक्ति परीक्षा में सफलता पाई। जमशेदपुर हाईस्कूल बिष्टुपुर में विज्ञान शिक्षिका के रूप में वर्ष 2010 में पढ़ाना शुरू किया। 2016 में शिप्रा मिश्रा का टाटा वर्कर्स यूनियन उच्च विद्यालय कदमा में स्थानांतरण किया गया।

यह भी पढ़े- प्रेम प्रकाश के घर एके47 और कारतूस मिलने का मामला: सार्जेंट मेजर और जवानों से ईडी करेगी पूछताछ

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios