Asianet News HindiAsianet News Hindi

अब विदेशी भाषा में बात करेंगे झारखंड के बच्चे, सरकारी स्कूलों में शुरू की योजना, सिखा रहे ये लैंग्वेज

झारखंड मे प्रदेश सरकार के प्रयासों के चलते अब सरकारी स्कूलों मे जर्मन भाषा सिखाई जाएगी। हालाकि यह सुविधा सिर्फ तीन ही स्कूलों में शुरू की गई है। यह सुविधा कोलकाता के इंस्टीट्यूट के साथ कॉन्ट्रे्क्ट साइन किया है। बच्चों सीखेंगे विदेशी भाषा।

ranchi news jharkhand government school student now will learn German language initiative asc
Author
First Published Sep 9, 2022, 8:31 PM IST

रांची (झारखंड). झारखंड के सरकारी स्कूलों में अब बच्चों को जर्मन भाषा सिखाया जाएगा। सरकार ने फिलहाल रांची के तीन सरकारी स्कूलों में जर्मन भाषा की क्लासेज शुरू की है। रांची के पांडरा हाई स्कूल, तेतरी हाई स्कूल और बरियातू स्थित जीएमएस हाई स्कूल में इसकी शुरुआत की गई है। आगे राज्यभर के स्कूलों में जर्मन भाषा की पढ़ाई की योजना है।  अब सरकारी स्कूल के बच्चे विदेशी भाषा में बात करते नजर आएंगे। 

कोलकाता के इंस्टीटयूट के साथ कॉन्ट्रेक्ट
जानकारी के अनुसार राज्य सरकार ने कोलकाता स्थित मैक्स मूलर इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट के साथ एक कॉन्ट्रैक्ट साइन किया है। जिसके तहत तीन महीने के लिए बच्चों को हफ्ता में एक दिन जर्मन भाषा बोलना सिखाया जाएगा। विदेशी भाषा सीखने की ललक बच्चों में भी साफ तौर पर देखने को मिल रही है। जर्मन क्लासेज को लेकर बच्चें काफी उत्साहित नजर आ रहे हैं। 

बच्चों को मिलेगा रोजगार
बच्चों को जर्मन भाषा सिखाने वाली शिक्षिका का कहना है कि ग्लोबलाइजेशन की वजह से अब पूरी दुनिया एक दूसरे से कनेक्टेड है। दूसरे देशों के लोग हमारे देश आते हैं। कोई बेहतर इलाज के लिए आता है, तो कोई घूमने आते हैं। ऐसे में इन मुसाफिरों को ऐसे लोग चाहिए होते हैं जो उनकी भाषा समझ सके। ऐसे में सरकारी स्कूल के बच्चे यदि फर्राटेदार अंग्रेजी और विदेशी भाषा बोलने लगे तो उन्हें आगे चलकर रोजगार के अवसर मिलेंगे।

शिक्षा मंत्री बोले- स्कूलों में विदेशी भाषा पढ़ाई जाए, काफी दिनों से कर रहे थे प्रयास
राज्य के शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो का कहना है कि लंबे समय से हमारी कोशिश थी की हमारे स्कूल के बच्चे अलग से विदेशी भाषा सीखें। हालांकि कोरोना माहामारी के कारण दो साल तक सारे शिक्षण संस्थान बंद थे। अब कोरोना की रफ्तार धीमी हुई तो वापस सारे संस्थान खुल गये हैं। हमारी सरकार बच्चों को विदेश भी भेज रही है। साथ ही विदेशी भाषा भी सीखा रही है। ये कोशिश है कि राज्य के सारे सरकारी स्कूल में विदेशी भाषा की पढ़ाई शुरू कराई जाए।

यह भी पढ़े- ऐसा क्या हुआ कि मंदिर में शादी कर रहा दूल्हा, पुलिस देख पत्नी को छोड़ भागने लगा, जानिए पूरा मामला

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios