Asianet News HindiAsianet News Hindi

मप्र के धार में 304 करोड़ में बने बांध में लीकेज: 11 गांव को खाली कराने के आदेश, देखें टूट रहे डैम का वीडियो

गुरुवार को बांध में लीकेज होने की जानकारी मिलने के बाद कई गांवों में अलर्ट जारी किया गया था। बांध का जलस्तर 295 मीटर के करीब पहुंच गया है। बांध में लीकेज होने से कई रास्तों को बंद कर दिया गया है। 

dhar news leakage in dam on karam river alert people of 11 villages pwt
Author
Dhar, First Published Aug 12, 2022, 12:55 PM IST

धार. मध्यप्रदेश के कई जिलों में हो रही भारी बारिश के कारण नादि, नाले और बांधों का जलस्तर बढ़ गया है। इसी बीच धार जिले के धामनोद के कोठिडा गांव में बना मिट्टी का बांध टूटने की खबर है। गुरुवार को बांध में लीकेज होने की जानकारी मिलने के बाद कई गांवों में अलर्ट जारी किया गया था। इस मामले को प्रशासन और जन संसाधन विभाग ने गंभीरता से लेते हुए पानी का लीकेज रोकने के लिए कार्रवाई भी शुरू कर दी थी। बताया जा रहा है कि  इसमें वर्तमान में करीब 295 मीटर के जल स्तर पहुंत गया है। 

जानकारी के अनुसार, गुजरी के पास भारूडपूरा नवनिर्मित डेम के फूटने का दावा किया गया है। वहीं, बांध में लीकेज की खबर मिलने के बाद इंदौर मुंबई मार्ग, धामनोद से मानपुर तक पूरी तरह से किया बंद कर दिया गया है। वहीं, महेश्वर से धामनोद बड़वी की तरफ जाने वाले रास्ते को भी बंद कर दिया गया है। प्रशाशन ने गुजरी, काकड़दा, मक्सी, मेलखेड़ी, गड़ी, कांकरिया, नयापुरा, बड़वी, खराडी समेत 11 गांव के निचले हिस्सों को खाली कराने के दिए निर्देश दिए हैं। 

सामने आया डैम का वीडियो
शुक्रवार को सभी गांव को खाली करवाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। बांध के लीकेज होने का वीडियो भी सोशल मीडिया में वायरल हो गया है। वीडियो में दिखाई दे रहा है कि किस तरह से बांध से मिट्टी कट-कट नीचे गिर रही है। गुरुवार से ही पानी का लीकेज रोकने के लिए प्रशासन लगातार कोशिश कर रहा है। लीकेज के जानकारी मिलने के बाद ही कलेक्टर औऱ एसपी मौके पर पहुंचकर मुआयना किया है उसके बाद बांध के आस-पास बने गांवों को खाली कराने को कहा गया है।  

304 करोड़ में बना है बांध
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मिट्टी के इस बांध का निर्माण करने के लिए करीब 304 करोड़ रुपए खर्च किए गए थे। हालांकि विधायक ने घटिया निर्माण का आरोप लगाया है। कोठीदा में कारम मध्यम सिंचाई परियोजना के तहत इका निर्माण किया गया था। वहीं, ग्रामीणों ने आरोप लगाया था कि अधिकारियों ने बांध के लिए गलत सर्वे किया था। किसानों को भरोसा दिया गया था कि इस बांध के निर्माण से सिंचाई की बेहतर सुविधा मिलेगी।

यहां देखें वीडियो

इसे भी पढ़ें- मासूम बेटी को लेकर ससुराल पहुंचा था डॉक्टर, सुबह पत्नी ने खोला कमरे का गेट तो मच गया हडकंप
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios