Asianet News HindiAsianet News Hindi

MONSOON: भोपाल में नहीं थम रही बारिश, केरल कर्नाटक में हाल बेहाल

देश भर में नहीं थम रहा है बारिश का दौर। इस बीच मंगलवार सुबह तक राजधानी में 1001.1 मिमी. बरसात हो चुकी है। जो सामान्य से 314.3 मिमी अधिक है।

heavy rainfall across the country
Author
Bhopal, First Published Aug 15, 2019, 12:48 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

भोपाल: मानसून सीजन राजधानी में अपने चरम पर है। बुधवार सुबह तक राजधानी में 1001.1 मिमी. बरसात हो चुकी है जो सामान्य से 314.3 मिमी अधिक है। पूरे सीजन का कोटा पूरा होने में अब सिर्फ 9 सेमी बरसात ही बची है। मानसून सीजन का अभी डेढ़ माह शेष है। बुधवार को रात भर हुई बारिश के कारण शहर का तापमान भी सामान्य से ठंडा रहा। मौसम वैज्ञानिकों ने गुरुवार को राजधानी सहित प्रदेश के कई स्थानों पर तेज बौछारें पड़ने की संभावना जताई है। देश के कई हिस्सों में बारिश तबाही मचा रही है। केरल में 88 लोग मारे गए, कर्नाटक में 54, महाराष्ट्र में 49 और गुजरात में 31 लोग मारे गए। उत्तर प्रदेश से दो बारिश से संबंधित मौतें हुई।

मौसम विभाग के मुताबिक, मानसून ट्रफ इस समय दिल्ली के करीब चल रहा है। लिहाजा, अगले कई दिन तक बारिश की संभावना बनी रहेगी। अगले सप्ताह से मौसम फिर करवट ले सकता है। गुरूवार को दिन भर बादल छाए रहने का अनुमान है। 

केरल

केरल में मलप्पुरम और वायनाड बारिश से बुरी तरह प्रभावित जिलों में से हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार, 88 लोगों ने अपनी जान गंवाई थी, जबकि 44 लोगों के लापता होने की सूचना है। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए, मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन कोझीकोड, मलप्पुरम और वायनाड इलाकों का जायजा लेने पहुंचे। केंद्र सरकार ने केरल सरकार को प्रारंभिक सहायता के रूप में 52 करोड़ दिए हैं। मौसम विभाग ने मलप्पुरम और कोझीकोड के लिए रेड अलर्ट जारी किया है।

कर्नाटक

कर्नाटक में बाढ़ से 40,000 से अधिक घर क्षतिग्रस्त हो गए हैं, जबकि 2,000 से अधिक गांव प्रभावित हुए हैं। बैंगलोर में अगले पांच दिनों के लिए अलर्ट जारी किया गया है। पिछले सात दिनों में, भारतीय नौसेना ने महाराष्ट्र, गोवा और कर्नाटक के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों से 14,000 से अधिक लोगों को 'वर्षा राहत' अभियान के तहत बचाया। मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करने और सहायता के रूप में 10,000 करोड़ रुपये जारी करने का अनुरोध किया।

ओडिशा

ओडिशा में पिछले सप्ताह से भारी वर्षा हो रही है। मंगलवार को राज्य के कुछ हिस्सों में बाढ़ जैसी स्थिति देखी गई। अगले दो दिनों में और अधिक बारिश होने का अनुमान है। ओडिशा में लगातार बारिश के कारण राज्य के पश्चिमी हिस्सों में ट्रेन सेवाएं प्रभावित हुई हैं। बौध, बोलनगीर, कालाहांडी, कंधमाल और सोनेपुर जिलों में कुछ स्थानों पर पटरियों पर पानी भरा रहा।

महाराष्ट्र

 बाढ़ संबंधित घटनाओं के कारण, नौ दिनों में पांच पश्चिमी महाराष्ट्र के जिलों में मरने वालों की संख्या बढ़ कर 49 हो गई। भारतीय वायु सेना ने कोल्हापुर जिले में बाढ़ प्रभावित कुरुंदवाड़ गांव में बचाव अभियान चलाया। एनडीआरएफ द्वारा शिरोल और कोल्हापुर के सबसे ज्यादा प्रभावित जिलों में बचाव अभियान चलाया जा रहा है। मौसम विभाग ने बुधवार को राज्य के पुणे, कोल्हापुर और सतारा जिलों के क्षेत्रों में अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश की आशंका जताई है। 


 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios