इंदौर. इस शख्स को 'क्राइम पेट्रोल' सीरियल देखने का बड़ा शौक है। लेकिन एक दिन अचानक कोई सीन देखकर उसके अंदर का शातिर दिमाग जाग उठा। इसने अपने अपहरण की झूठी कहानी रच डाली, ताकि उसके ऊपर चढ़ा कर्ज चुकता हो जाए। लेकिन कहते हैं कि बदमाश कितना भी शातिर हो, एक गलती उसे सलाखों के पीछे पहुंचा देती है। इसके साथ भी ऐसा ही हुआ।

किराने का सामान लेने निकला और हो गया गायब..
यह शख्स मनोज पिता कुंवर पाल सिंह(30) इंदौर में न्यू हरसिद्धि नगर खजराना एरिया में रहता है। एएसपी शैलेंद्र सिंह चौहान ने बताया कि 11 अक्टूबर को भारती चौधरी ने पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई कि उनका पति मनोज 10 अक्टूबर से गायब है। वो किराने का सामान लेने घर से निकला था। 13 अक्टूबर को भारती ने पुलिस को आकर फिर बताया कि मनोज के मोबाइल से उसकी भाभी रीना चौधरी को कुछ फोटो और वीडियो वाट्सऐप किए गए हैं। रीना गाजियाबाद में रहती है। इसमें मनोज के हाथ-पैर और मुंह बंधा हुआ है। यह वीडियो-फोटोज मनोज के ही मोबाइल से खींचे गए थे। पुलिस ने उस नंबर पर कॉल किया, तो मनोज ने ही बात की। मनोज ने बताया कि उसका अपहरण हो गया है।


मोबाइल को टाइमर पर सेट करके खींचे फोटो..

मनोज ने बताया कि बदमाश 4 लाख रुपए की फिरौती मांग रहे हैं। मनोज ने बताया कि बदमाश कह रहे हैं कि वो अपने भाई से कहकर अकाउंट में पैसे डलवाए। ऐसा नहीं किया तो वे मनोज को मार डालेंगे। जब पुलिस ने पड़ताल की, तो मालूम चला कि मनोज ने दिल्ली, मथुरा और जयपुर में एटीएम से पैसे निकाले हैं। पुलिस को कुछ शक हुआ और पड़ताल करते हुए जयपुर पहुंची। वहां मनोज एक होटल में मिल गया। मनोज ने कबूला कि उस पर डेढ़ लाख रुपए का कर्जा है। इसी कर्ज को चुकाने उसने अपहरण की झूठी कहानी रची थी। अपने मोबाइल को टाइमर पर सेट करके खुद ही फोटो-वीडियो खींचे थे।