Asianet News Hindi

शौचालय में बन रहा बच्चों के लिए मिड डे मील, मंत्री बोलीं- इसमें दिक्कत क्या

मध्यप्रदेश की मंत्री का बेतुका सा बयान फिर सुर्खियों में है।  आंगनबाड़ी शौचालय का इस्तेमाल मिड डे मिल का खाना बनाने को लेकर किया जा रहा है। इस पर मंत्री इमरती देवी ने कहा- अगर टॉयलेट सीट और स्टोव के विभाजन है, तो शौचालय में खाना पकाने पर कोई दिक्कत नहीं है।

MP minister imarti devi has no problem preparing mid day meal in toilet
Author
Bhopal, First Published Jul 25, 2019, 9:35 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

भोपाल. मध्यप्रदेश की मंत्री का बेतुका सा बयान फिर सुर्खियों में है।  आंगनबाड़ी शौचालय का इस्तेमाल मिड डे मिल का खाना बनाने को लेकर किया जा रहा है। इस पर मंत्री इमरती देवी ने कहा- अगर टॉयलेट सीट और स्टोव के विभाजन है, तो शौचालय में खाना पकाने पर कोई दिक्कत नहीं है। आज कल तो हमारे घरों में भी अटैच बाथरूम होते हैं।  बता दें, मध्य प्रदेश के करेरा आंगनबाड़ी केंद्र पर बच्चों के मिड डे मिल का खाना बनाने के लिए शौचालय का इस्तेमाल किया जा रहा है। मंत्री इमरती देवी ने कहा- आपके रिश्तेदार आपके घर में यह कहते हुए खाना खाने से मना कर दें, कि आपके घर अटैच बाथरूम है।  जिस टॉयलेट सीट पर बर्तन रखे जा रहे थे। उसका इस्तेमाल नहीं किया जाता है। हालांकि इस मामले में जांच के आदेश दे दिए गए हैं।


शौचालय में एलपीजी सिलेंडर और मिट्टी के चुल्हें हैं

कॉम्पैक्ट रसोई सह शौचालय में खाना बनाने के लिए एलपीजी सिलेंडर और मिट्टी के चूल्हे दोनों रखे गए है। खाना पकाने के बर्तन सहित कुछ वस्तुओं को टॉयलेट सीट के ऊपर रखा गया था। अधिकारियों का कहना है कि एक स्वयं सहायता समूह ने शौचालय का नियंत्रण ले लिया था। वह फिलहाल काम चलाऊ तौर पर इसका उपयोग रसोईघर के रूप में कर रहे थे।

दोषियों के खिलाफ कार्रवाई
अब जब मामले ने तूल पकड़ा तो आंगनबाड़ी सुपरवाइजर और इसमे शामिल कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। आंगनवाड़ी केंद्र भारतीय गांवो में बुनियादी स्वास्थ्य की देखभाल करता है। यह पब्लिक हेल्थ सर्विस पॉलिसी का हिस्सा है। 

इससे पहले भी विवादों में आ चुकी हैं इमरती देवी
सरकार बनने के कुछ दिन बाद 26 जनवरी गणतंत्र दिवस कार्यक्रम के दौरान भी वह अपना भाषण नहीं पढ़ पाईं थी। वह जब भाषण पढ़ने आईं तो उसे पढ़ने में अटकने लगी थी। जिसका एक वीडियो भी सामने आया था।  उस वक्त वह ग्वालियर में गणतंत्र दिवस के मौके पर एक समारोह में स्पीच दे रही थीं। उन्होंने अपना भाषण कलेक्टर को पढ़ने को दे दिया था।


 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios