Asianet News Hindi

भोपाल में नाइट कर्फ्यू में सख्ती, घर में ही मनानी होगी होली, कुछ ऐसे नियमों का करना होगा पालन

पिछले 7 दिन में जिस तरह से मध्य प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ी है, उससे संक्रमण दर में 2.1% की वृद्धि हुई है। 17 मार्च को यह दर 5.2% थी, जो 24 मार्च को बढ़कर 7.3% तक पहुंच गई है। यानी टेस्ट बढ़ने के साथ पॉजिटिव मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है। इसकी वजह यह सामने आई है कि संक्रमित मरीज के संपर्क में आने वालों को ट्रेस करने में लापरवाही हो रही है।

Night curfew in Bhopal, Holi will be celebrated at home, some such rules will have to be followed asa
Author
Bhopal, First Published Mar 26, 2021, 6:48 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

भोपाल (Madhya Pradesh) । भोपाल में अब कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए और सख्ती की गई है। इसके लिए नाइट कर्फ्यू शुरू कर दी गई है, जिसे शुक्रवार की रात से ही लागू कर दिया गया है। नई व्यवस्था के तहत भोपाल में होली समेत दूसरे त्योहारों पर सार्वजनिक आयोजन पर रोक लगा दी गई है। अब लोग सिर्फ घर पर रहकर ही त्योहार मना सकते हैं। होली पर सोमवार के दिन प्रशासन ने अघोषित लॉकडाउन कर दिया है। जो आदेश जारी हुआ है, उसके अनुसार सोमवार को सभी दफ्तर, दुकानें और मार्केट पूरी तरह से बंद रहेंगे। बेवजह आने-जाने पर पाबंदी रहेगी। रात का कर्फ्यू भी अब रात 10 बजे की जगह 9 बजे ही शुरू हो जाएगा।

ये है नई गाइडलाइन
-सभी तरह के त्यौहार सिर्फ घर में रहकर परिवार के सदस्यों के साथ मनाने की अनुमति रहेगी। 
-सार्वजनिक रूप से कोई कार्यक्रम नहीं किया जाएगा।
-होली पर सभी कार्यालय और प्रतिष्ठान बंद रहेंगे।
-भोपाल में हर रविवार को लॉकडाउन रहेगा। 
-शादी में सिर्फ 50 लोग ही शामिल हो सकते हैं। इसके लिए पहले से अनुमति लेनी होगी।
-शवयात्रा में अधिकतम 20 और मृत्युभोज में सिर्फ 50 लोग ही शामिल हो सकते हैं।
-खाने की होम डिलीवरी भी रात 10 बजे तक ही हो सकेगी।
-जिम, स्वीमिंग पूल, सिनेमाघर पूरी तरह से बंद रहेंगे।
-सभी पिकनिक स्पॉट आगामी आदेश तक बंद रहेंगे।
-अब नाइट कर्फ्यू रात 10 बजे की जगह रात 9 बजे से लागू होगा।
-रात 9 बजे से सुबह 6 बजे तक दुकानें और अन्य दूसरे व्यवसायिक प्रतिष्ठान बंद रखने होंगे।

48 घंटे में 18 लोगों की मौत
आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटे में 2091 नए केस मिले हैं, जबकि 23 मार्च को यह आंकड़ा 1885 था। वहीं, 48 घंटे में 18 लोग जान गंवा चुके हैं। यही वजह है कि भोपाल, इंदौर और जबलपुर के अलावा छोटे शहरों में प्रशासन अब ज्यादा सख्ती कर रहा है।

इन तीन शहरों से 60 प्रतिशत केस 
प्रदेश में सबसे ज्यादा केस वाले शहर भोपाल, इंदौर और जबलपुर में हालात बिगड़ते जा रहे हैं। राज्य में 60% केस सिर्फ इन तीन शहरों में दर्ज किए गए। भोपाल में कोरोना की रफ्तार बढ़ने के साथ एक्टिव केस में तेजी से वृद्धि हो रही है। यहां एक सप्ताह में 45% एक्टिव केस बढ़ गए हैं। यदि मार्च महीने के 24 दिन के आंकड़े देखें तो अब तक 5 गुना वृद्धि हो चुकी है। भोपाल में 1 मार्च को एक्टिव केस 556 थे, जो 24 मार्च को बढ़कर 3195 हो चुके हैं।

संक्रमण दर में 2.1% की बढ़ोत्तरी
पिछले 7 दिन में जिस तरह से मध्य प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ी है, उससे संक्रमण दर में 2.1% की वृद्धि हुई है। 17 मार्च को यह दर 5.2% थी, जो 24 मार्च को बढ़कर 7.3% तक पहुंच गई है। यानी टेस्ट बढ़ने के साथ पॉजिटिव मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है। इसकी वजह यह सामने आई है कि संक्रमित मरीज के संपर्क में आने वालों को ट्रेस करने में लापरवाही हो रही है।
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios