Asianet News Hindi

फ्रांस के विरोध के जरिये धार्मिक भावनाएं भड़काने वाले कांग्रेस MLA आरिफ मसूद के तीन साथी अरेस्ट

फ्रांस में पैगम्बर मोहम्मद साहब का कार्टून दिखाने पर एक टीचर की हत्या को वहां के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों ने इसे इस्लामिक आतंकवाद की घटना बताया था। इसके बाद दुनियाभर में मुस्लिम समाज ने आपत्ति जताई थी। भोपाल में फ्रांस के खिलाफ हजारों की भीड़ जुटाकर प्रदर्शन करने वाले कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। पुलिस ने मसूद सहित 7 लोगों के खिलाफ धार्मिक भावनाएं भड़काने का केस दर्ज किया है। इस मामले में सोमवार को पुलिस ने 3 लोगों को अरेस्ट कर लिया। मसूद की गिरफ्तारी होना बाकी है।

Protest case against France in Bhopal, three associates of MLA Arif Masood arrested kpa
Author
Bhopal, First Published Nov 9, 2020, 2:38 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

भोपाल, मध्य प्रदेश. फ्रांस के विरोध की आड़ में धार्मिक भावनाएं भड़काने के आरोपी कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद के तीन साथियों को सोमवार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। बता दें कि पेरिस के पास कॉन्फ्लांस सेन्ट होनोरिन इलाके में 16 अक्टूबर को एक हमलावर ने टीचर की हत्या कर दी थी। टीचर ने क्लास में पैगम्बर मोहम्मद साहब का कार्टून दिखाया था। हमलावर इसी बात से गुस्से में था। हालांकि बाद में हमलावर को मार गिराया गया था। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों ने इसे इस्लामिक आतंकवाद की घटना बताया था। इसके विरोध में मुस्लिम देशों में फ्रांस के खिलाफ प्रदर्शन हो रहे थे। लेकिन भोपाल में कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने इकबाल मैदान मे प्रदर्शन कर लिया था। यही नहीं, मसूद ने अपने भाषण में धार्मिक भावनाओं उकसाने का भी काम किया था। तलैया पुलिस ने इस मामले में मसूद सहित 7 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया था। सोमवार को पुलिस ने तीन गिरफ्तारियां कर लीं।

मसूद को नहीं मिली अग्रिम जमानत
तलैया थाने के टीआई डीपी सिंह ने बताया कि इस मामले में वाफना कॉलोनी बैरसिया रोड से 42 साल के नईम खां, हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी करोंद निवासी 40 साल के अब्दुल नईम और कांग्रेस नगर टीला जमालपुरा में रहने वाले 41 साल के मोहम्मद इकराम हाशमी को गिरफ्तार कर लिया गया है। इस बीच गिरफ्तारी से बचने के लिए जिला न्यायालय पहुंचे मसूद की अग्रिम जमानत याचिका खारिज की जा चुकी है। माना जा रहा है कि मसूद हाई कोर्ट जा सकते हैं।

पुलिस ने मसूद सहित 7 लोगों पर पहले धारा 144 के उल्लंघन का केस दर्ज किया था, लेकिन बाद में मुख्यमंत्री की नाराजगी के बाद धार्मिक भावनाएं भड़काने की धाराएं भी जोड़ी गईं। मसूद अभी इलेक्शन के सिलसिले में बिहार में हैं। मसूद ने कहा था कि केंद्र और राज्य की हिंदूवादी सरकार के मंत्री फ्रांस के कृत्य का समर्थन कर रहे हैं। सरकार ने फ्रांस का विरोध नहीं किया, तो हम हिंदुस्तान की ईंट से ईंट बजा देंगे। उल्लेखनीय है कि इसके बाद मसूद की मुश्किलें बढ़ गई हैं। प्रशासन ने बड़े तालाब के कैचमेंट एरिया में बने मसूद के कॉलेज पर बुलडोजर चलवा दिया था।

यह पी पढ़ें

फिल्मी स्टाइल में बाइक सवारों ने कार को घेरा, जैसे ही युवती ने विंडो खोली, कर दिया शूट

12 साल की सरिता की दर्दभरी कहानी पढ़कर हैरान हुए सोनू सूद, फौरन किया वीडियो कॉल 

खतरनाक ड्राइविंग: मां खुश थी कि बेटा कुछ बनकर घर लौटेगा, इन दो लड़कियों ने खून के आंसू रुला दिए

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios