Asianet News HindiAsianet News Hindi

आखिर दिल्ली में क्या कर रहे हैं समीर वानखेड़े? किसी एजेंसी के तलब करने से इनकार, बोले - पर्सनल काम से आया हूं

NCB के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े सोमवार शाम दिल्ली पहुंचे। एयरपोर्ट पर उन्होंने किसी एजेंसी के तलब करने से इनकार करते हुए कहा कि वे पर्सनल काम से राष्ट्रीय राजधानी में आए हैं। 

Aryan Khan Deug Case, Sameer Wankhede in trouble, his father and sister gets emotional
Author
Mumbai, First Published Oct 25, 2021, 2:53 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई :  आर्यन खान ड्रग केस की जांच से चर्चा में आए NCB के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े (Sameer Wankhede) सोमवार शाम दिल्ली (delhi) पहुंचे। एयरपोर्ट पर उन्होंने इस बात से इनकार किया कि उन्हें किसी एजेंसी ने तलब किया है। उन्होंने कहा कि वह किसी काम के लिए राष्ट्रीय राजधानी में आए हैं और वह ड्रग्स मामले की जांच के साथ खड़े हैं। वानखेड़े ने कहा कि मुझ पर लगे सभी आरोप झूठे हैं। बता दें कि इससे पहले उन्हें स्पेशल NDPS कोर्ट से बड़ा झटका लगा है। कोर्ट ने इस केस में रिश्वत के आरोपों पर किसी कोर्ट की तरफ से एक्शन न लिए जाने का आदेश देने से इनकार कर दिया है। इधर NCB ने वानखेड़े के खिलाफ इंटरनल विजिलेंस जांच शुरू कर दी है। वानखेड़े पर एक गवाह ने शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को ड्रग केस में रिहा करने के लिए 25 करोड़ रुपए की डील करने का आरोप लगाया है। समीर वानखेड़े अपने पद पर बने रहेंगे या नहीं, अब इस पर भी संशय के बादल मंडरा रहे हैं।

समीर वानखेड़े पर शिकंजा
समीर वानखेड़े के खिलाफ चल रही इंटरनल विजिलेंस जांच की निगरानी खुद NCB के डिप्टी डायरेक्टर जनरल और एजेंसी के चीफ विजिलेंस ऑफिसर ज्ञानेश्वर सिंह रख रहे हैं। उनसे जब पूछा गया कि जांच के दौरान भी वानखेड़े अपने पद पर बने रहेंगें या नहीं? इस पर उन्होंने कहा कि हमने अभी-अभी जांच शुरू की है, इसलिए इस पर टिप्पणी करना जल्दबाजी होगी। सिंह ने कहा कि एक स्वतंत्र गवाह ने एफिडेविट के जरिए सोशल मीडिया पर कुछ तथ्यों को प्रसारित किया था, उसका संज्ञान लेते हुए महानिदेशक NCB ने विजिलेंस को जांच सौंपी है। तथ्यों और साक्ष्यों के आधार पर फैसला होगा।

क्या है नवाब मलिक के आरोप?
नवाब मलिक ने दावा किया है कि कोरोना के दौरान NCB के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े मालदीव में फिल्मी हस्तियों से वसूली कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान बॉलीवुड के कई एक्टर मालदीव में थे। उस समय समीर वानखेड़े भी वहीं थे। समीर पिछले साल दुबई भी गए थे। दोनों जगह समीर ने वसूली की है। मेरे पास इससे जुड़े फोटो भी हैं। मैं जल्द ही इनको रिलीज भी कर दूंगा। हम ये मांग करते हैं कि समीर वानखेडे इस पर सफाई दें कि क्या वो दुबई में थे, क्या वो और उनकी फैमिली उस समय मालदीव में थे, जब वहां फिल्म इंडस्ट्री के कई लोग भी छुट्टियां मना रहे थे।

समीर की बहन ने क्या कहा
एक टीवी चैनल से बातचीत में समीर वानखेड़े की बहन यास्मीन वानखेड़े ने कहा कि नवाब मलिक एक महिला के सोशल मीडिया एकाउंट से फोटो उठाकर उसे पब्लिक कर रहा हैं, जो संविधान के खिलाफ है और गैर-कानू्नी है। मलिक जी के अंदर इतना दिमाग तो होगा ही कि अगर हमें वसूली करना होता तो यहां से भी हो सकता था, उसके लिए मालदीव जाने की क्या जरूरत? उन्होंने कहा कि जिस फोटो में मेरा भाई (समीर वानखेड़े) है और मैं बैठी हूं, वो दुबई का नहीं है बल्कि मुंबई एयरपोर्ट का है। मैं परिवार के साथ बाहर जा रही थी तब मुझे ड्रॉप करने के लिए मेरा भाई गया था। उस वक्त थोड़ी तबीयत खराब हो गई थी। इसलिए वो टेंशन में दिख रहा है और वैकेशन पर मैं 4 दिन के लिए मालदीव (Maldives)गई थी। यास्मीन ने आगे कहा कि अगर आप ईमानदार होंगे तो आपकी पत्नी, बहन और बेटी को सोशल नेटवर्क से टारगेट किया जाएगा। इसके लिए आप तैयार रहिए, इस तरह का उदाहरण पेश कर रहे हैं। एक अनपढ़ आदमी के आरोपों का जवाब पढ़ा-लिखा तो नहीं ही देगा। 

समीर वानखेड़े के पिता का जवाब
वहीं, समीर वानखेड़े के पिता ज्ञानदेव वानखेड़े ने कहा कि मेरा बेटा 2004 में IB में UPSC से सेलेक्ट हुआ था। 4 साल आईबी में काम किया, उसके बाद 2008 में फिर UPSC देकर IRS बना, 2008 में जब से वह मुंबई आया, तभी से हर काम उसने अच्छी तरह किया और 15 साल तक किसी ने उंगली नहीं उठाई। लेकिन, दुख इस बात का है कि अच्छा काम करने के बावजूद नवाब मलिक आरोप लगा रहे हैं। मेरे बेटे पर गुंडों ने भी हमले किए लेकिन मेरा बेटा रुका नहीं और रुकेगा भी नहीं। नवाब मलिक को इतनी अच्छी पोस्ट मिली है, उसका इस्तेमाल गरीबों की भलाई के लिए करो, मेरा बेटा अच्छा काम कर रहा है और उसको हेल्प करने के बजाय वह मेरे परिवार पर कीचड़ उछाल रहे हैं, यह कैसी राजनीति है?

गुरुवार को नवाब मलिक ने क्या कहा
गौरतलब है कि महाराष्ट्र सरकार के अल्पसंख्यक मंत्री नवाब मलिक और NCB अधिकारी समीर वानखेड़े की लड़ाई गुरुवार को बयानबाजी से धमकाने पर आ गई। नवाब मलिक गुरुवार को पुणे में थे, जहां उन्होंने समीर वानखेड़े को जेल भेजने तक की धमकी दे डाली। उन्होंने वानखेड़े को चैलेंज करते हुए कहा था कि सालभर में तुम्हारी नौकरी जाएगी, तू हमें जेल में डालने की भाषा बोल रहा था, तुम्हें जेल में देखे बिना इस देश की जनता रुकेगी नहीं, ये मेरा चैलेंज हैं। कितने बोगस सबूत हैं, इसका बाप बोगस था, ये खुद बोगस है, इसके घर के लोग भी बोगस हैं, ये बोगस सबूतों का पर्दाफाश हम करेंगे, इसका जेल जाना निश्चित है।

समीर वानखेड़े ने क्या कहा
वहीं, नवाब मलिक के इस बयान पर समीर वानखेड़े ने कहा कि वे बड़े नेता हैं और मैं सामान्य सरकारी नौकर हूं। मुझे देश के राष्ट्रपति से वर्दी मिली है। किसी के कुछ बोलने से वह नहीं जा सकती। मैं ड्रग्स के खिलाफ सफाई अभियान चला रहा हूं। क्या इसलिए मेरी वर्दी उतारी जाएगी? मेरा राजनीति से कोई संबंध नहीं है। मैं मेरा काम कर रहा हूं, मुझे जो टास्क दिया गया है, उसे पूरा कर रहा हूं। जिन्हें मेरी वर्दी उतारनी है, उन्हें बधाई देना चाहता हूं। देखता हूं वो क्या करते हैं।

क्या है क्रूज ड्रग्स पार्टी मामला
नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) की टीम ने 2 अक्टूबर को मुंबई से गोवा जा रहे लग्जरी क्रूज शिप पर छापेमारी की थी। NCB का दावा था कि क्रूज पर ड्रग्स पार्टी होने वाली थी। उसी क्रूज पर बॉलीवुड किंग शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान भी मौजूद थे। NCB ने आर्यन को भी गिरफ्तार कर लिया था। 3 अक्टूबर को किला रोड कोर्ट से आर्यन को 4 अक्टूबर तक के लिए रिमांड पर एनसीबी के हवाले किया गया था। फिर ये रिमांड अवधि 7 अक्टूबर तक बढ़ा दी गई थी। इसके बाद 7 अक्टूबर को आर्यन खान की पेशी हुई और उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। तभी से जमानत याचिकाएं खारिज होने की वजह से आर्यन मुंबई की आर्थर रोड जेल में बंद हैं। इस दौरान दो विवादित गवाहों मनीष भानुशाली और किरण गोसावी को लेकर भी NCB की किरकिरी हुई। किरण गोसावी वो गवाह है, जिसकी तस्वीरें आर्यन का हाथ पकड़कर ले जाते हुए वायरल हो गईं थी। फिलहाल वो फरार है। उसके खिलाफ कई आपराधिक मामले दर्ज हैं।

नवाब मलिक क्यों कर रहे बयानबाजी ?
आर्यन खान की गिरफ्तारी के बाद नवाब मलिक ने क्रूज ड्रग्स केस में बीजेपी कार्यकर्ता मनीष भानुशाली और केपी गोस्वामी के रोल पर सवाल खड़े किए थे। उन्होंने क्रूज पर पड़ी रेड को फर्जी तक करार दिया था। नवाब मलिक ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा था कि NCB ने जैसे उनके दामाद को फंसाया था। उसी तरह आर्यन खान को को क्रूज ड्रग्स केस में फंसाया गया है। इस मामले को लेकर महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक ने एक बार फिर नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) पर निशाना साधा था। मलिक ने आरोप लगाते हुए कहा था कि NCB के गवाह फिक्स्ड हैं। फिक्स्ड गवाहों के जरिए ही एनसीबी फर्जी मामले बनाती है। इसके बाद मंत्री नवाब मलिक ने नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े की वकील बहन जैसमीन वानखेड़े और फ्लेचर पटेल नाम के एक शख्स की तस्वीर दिखाकर आरोप लगाया था कि फ्लेचर पटेल वैसे तो जैसमीन वानखेड़े का मुंह बोला भाई है लेकिन वो एनसीबी के कई मामलों में पंच विटनेस क्यों होता है। 

नवाब मलिक के दामाद का मामला
बात पिछले साल की है। अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मौत के बाद बॉलीवुड (Bollywood) में नशे और ड्रग्स की बात सामने आई थी। उस वक्त नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने कई कलाकारों से सवाल जवाब किए थे। पूछताछ में एक संदिग्ध ने नवाब मलिक के दामाद समीर खान का नाम लिया था। उसी के आधार पर NCB ने 13 जनवरी को उन्हें पूछताछ के लिए अपने दफ्तर बुलाया था। वहां समीर खान से घंटों लंबी पूछताछ की गई थी। इसके बाद समीर को गिरफ्तार कर लिया गया था। समीर की गिरफ्तारी के बाद एक विदेशी नागरिक और शाहिस्ता फर्नीचरवाला को भी गिरफ्तार कर लिया गया था। 8 महीने बाद किसी तरह समीर खान इस केस में जमानत मिली। 10 जुलाई 2021 को  NCB ने समीर खान के साथ-साथ करण सेजनानी, राहिला, शाहिस्ता फर्नीचरवाला, मुच्छड़ पानवाला के मालिकों में से एक रामकुमार तिवारी और अनुज केशवानी के खिलाफ 1000 पेज की चार्जशीट दाखिल की थी। अपने दामाद की गिरफ्तारी को लेकर नवाब मलिक काफी परेशान रहे थे। तब भी उन्होंने NCB पर उनके दामाद को फर्जी केस में फंसाने का आरोप लगाया था।

इसे भी पढ़ें-हिमाचल उपचुनाव: सिद्धू और कन्हैया कुमार से लग रहा डर, जानें दोनों को बुलाने से क्यों कतरा रहे कांग्रेसी..

इसे भी पढ़ें-प्रियंका बोलीं-UP में 10 लाख तक मुफ्त इलाज, जवाब मिला-छत्तीसगढ़ में भी गंगाजल उठाकर वादे किए गए थे

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios