Asianet News HindiAsianet News Hindi

Kangana Ranaut पर भड़कीं राजनीतिक हस्तियां, नवाब मलिक ने वापस मांगा पद्मश्री, तो लालू की बेटी इससे आगे निकलीं

आजादी को भीख बताने वाले कंगना के बयान पर कई नेताओं ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। महाराष्ट्र सरकार में मंत्री और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के नेता नवाब मलिक ने निशाना साधते हुए शुक्रवार को कहा कि ऐसा लगता है जैसे कंगना नशा करने के बाद बोल रही थीं। उन्होंने स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान किया। केंद्र सरकार को तुरंत उनका पद्मश्री वापस ले लेना चाहिए।

kangana ranaut statement nawab malik demands take back padma shri,lalu yadav daughter rohini said fake jhansi queen stb
Author
Mumbai, First Published Nov 12, 2021, 2:57 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई : अपने बयानों को लेकर अक्सर सुर्खियों में रहने वाली बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत (Kangana Ranaut) एक बार फिर राजनीतिक दलों के निशाने पर हैं। आजादी को भीख बताने वाले कंगना के बयान पर कई नेताओं ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। महाराष्ट्र सरकार में मंत्री और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के नेता नवाब मलिक (nawab malik) ने निशाना साधते हुए शुक्रवार को कहा कि ऐसा लगता है जैसे कंगना नशा करने के बाद बोल रही थीं। उन्होंने स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान किया। केंद्र सरकार को तुरंत उनका पद्मश्री वापस ले लेना चाहिए।

नवाब मलिक ने क्या कहा
नवाब मलिक ने कहा कि कंगना मलाणा क्रीम लेकर बोल रहीं हैं। मलाणा क्रीम का डोज ज्यादा हो गया है इसलिए उल-जुलूल की बातें कर रहीं हैं। हम उनके बयान की कड़ी निंदा करते हैं। हम केंद्र सरकार से मांग करते हैं कि केंद्र सरकार कंगनाका पद्मश्री वापस ले और उन पर मुकदमा करते हुए उन्हें गिरफ्तार करे। उन्होंने स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान किया है।

शिवसेना ने भी वापस मांगा पुरस्कार
कंगना के बयान के बाद कांग्रेस (congress) और शिवसेना (shivsena) ने भी एक्ट्रेस के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। शिवेसना सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) ने कहा है कि कंगना ने देश का अपमान किया है। उनके सभी राष्ट्रीय पुरस्कार वापस लिए जाएं। राउत ने कहा कि भाजपा (BJP) कंगना के बयान पर अपनी स्थिति स्पष्ट करे। वहीं, कांग्रेस नेता और पूर्व सांसद संजय निरुपम (Sanjay Nirupam) ने भी एक्ट्रेस के बयान की आलोचना की है। निरुपम ने कहा है कि कंगना को बयान के लिए देश से माफी मांगनी चाहिए।

AAP ने दर्ज कराई शिकायत
आम आदमी पार्टी (AAP) नेता प्रीति शर्मा मेनन ने मुंबई में कंगना के खिलाफ शिकायत भी दर्ज कराई है। प्रीति ने मुंबई पुलिस के सामने एक शिकायत दर्ज कराई है। जिसमें पुलिस से कंगना रनौत पर उनके देशद्रोही और भड़काऊ बयानों के लिए कार्रवाई का अनुरोध किया है। कंगना के खिलाफ देशद्रोह की धारा 124ए, 504 और 505 के तहत FIR दर्ज करने की मांग की गई है।

लालू यादव की बेटी रोहिणी ने बताया देशद्रोही
वहीं लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) की बेटी रोहिणा आचार्या (Rohini Acharya) ने भी कंगना रनौत पर हमला बोला है।
रोहिणी ने ट्विटर पर एक्ट्रेस का नाम लिए बिना एक के बाद एक कई ट्वीट किए है। उन्होंने लिखा है कि शहीदों की जान जिसे भीख लगती है फर्जी झांसी की रानी तू देशद्रोही लगती है। एक और ट्वीट में उन्होंने कहा कि एक नया इतिहास लिखा जाएगा, आजादी को भीख बता कर, अंधभक्तों के पप्पा का गुणगान किया जाएगा..। उन्होंने लिखा, ये माफी वीर सावरकर के वंशज हैं, आजादी को भी भीख बताकर पद्मश्री अवॉर्ड पा लेते हैं..।

जीतन राम मांझी भी बोल चुके हैं हमला
रोहिणी आचार्या से पहले बिहार (bihar) के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी (Jitan Ram Manjhi) ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी थी। उन्होंने ने भी पद्मश्री सम्मान वापस लेने की मांग की थी। जीतन राम मांझी ने ट्वीट कर लिखा था कि महामहिम रामनाथ कोविंद (Ram Nath Kovind) अविलंब कंगना रनौत से पद्म श्री सम्मान वापिस लेना चाहिए। नहीं तो दुनिया ये समझेगी कि गांधी, नेहरू, भगत सिंह, पटेल, कलाम, मुखर्जी, सावरकर सब के सब ने भीख मांगी तो आजादी मिली। लानत है ऐसे कंगना पर।

वरुण गांधी ने भी दी है प्रतिक्रिया
बता दें कि कंगना रनौत के बयान पर देश के कई राज्यों में बवाल मचा है। बीजेपी सांसद वरुण गांधी (varun gandhi) ने भी कड़ी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा है कि कभी महात्मा गांधी जी के त्याग और तपस्या का अपमान, कभी उनके हत्यारे का सम्मान और अब शहीद मंगल पांडेय से लेकर रानी लक्ष्मीबाई, भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, नेताजी सुभाष चंद्र बोस और लाखों स्वतंत्रता सेनानियों की कुर्बानियों का तिरस्कार। इस सोच को मैं पागलपन कहूं या फिर देशद्रोह?

क्या कहा है कंगना ने ?
एक राष्ट्रीय मीडिया नेटवर्क के वार्षिक शिखर समिट में कंगना गेस्ट स्पीकर थीं। इस दौरान उन्होंने भारत के स्वतंत्रता संग्राम के बारे में सावरकर, लक्ष्मीबाई और नेताजी बोस को याद करते हुए कहा कि ये लोग जानते थे कि खून बहेगा, लेकिन यह हिंदुस्तानी खून नहीं होना चाहिए। वे इसे जानते थे। बेशक, उन्हें एक पुरस्कार दिया जाना चाहिए। वह आजादी नहीं थी, वो भीख थी। हमें 2014 में असली आजादी मिली है। उनके इस बयान को लेकर राजनीतिक दलों, सामाजिक संगठनों, फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोगों, लेखकों ने कड़ी आपत्ति दर्ज कराई है। इसे तमाम लोगो ने आजादी के आंदोलन और स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान बताया है।

इसे भी पढ़ें-Kangana Ranaut का फिर विवादित बयान: वरुण गांधी के ट्वीट पर लिखा-आजादी महात्मा गांधी के कटोरे में भीख में मिली

इसे भी पढ़ें-Kangana Ranaut के 'भिक्षा में मिली आजादी' वाले बयान पर बवाल, आप ने की देशद्रोह का केस दर्ज करने की मांग

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios