Asianet News HindiAsianet News Hindi

जलियांवाला बाग पर राहुल गांधी ने छेड़ी Politics, तो twitter के जरिये सामने लाई गई 2010 की कहानी

जलियांवाला बाग स्मारक(Jallianwala Bagh) के रिनोवेशन को लेकर राहुल गांधी ने tweet करते हुए इसे शहीदों का अपमान बताया है। इसके जवाब में modibharosa पेज ने इसे एक नया प्रोपेगंड करार दिया है।
 

A new propaganda created about renovation of Jallianwala Bagh memorial
Author
New Delhi, First Published Aug 31, 2021, 3:28 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. जलियांवाला बाग (Jallianwala Bagh) स्मारक का रिनोवेशन कांग्रेस को रास नहीं आया है। राहुल गांधी ने इसे शहीदों का अपमान बताया है। राहुल गांधी ने एक tweet करके लिखा-जलियांवाला बाग के शहीदों का ऐसा अपमान वही कर सकता है, जो शहादत का मतलब नहीं जानता। मैं एक शहीद का बेटा हूं। शहीदों का अपमान किसी कीमत पर सहन नहीं करूंगा। हम इस अभद्र क्रूरता के खिलाफ हैं।

 

 

राहुल गांधी को मिला जवाब-यह एक नया प्रोपेगंडा
tweeter पर modibharosa पेजा पर जलियांवाला बाग को लेकर शुरू हुई राजनीति पर लिखा गया कि जलियांवाला बाग के रिनोवेशन( renovation) पर एक नया प्रोपेगंडा बनाया गया है। एक लाइट साउंड शो ।light-&-sound show) पहली बार 2010 में शुरू किया गया था। इसका उद्घाटना एके एंटनी(तत्कालीन रक्षा मंत्री) ने किया था। लेकिन यह कुछ साल बाद ही बंद हो गया था। जलियांवाला बाग का खराब रखरखाव उसके महत्व को खत्म कर रहा था।

मोदी ने किया था उद्घाटन
जलियांवाला बाग के रिनोवेशन का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये किया था। प्रधानमंत्री ने इस स्मारक में निर्मित संग्रहालय दीर्घाओं का भी उद्घाटन किया था। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा था कि पंजाब की वीर भूमि और पंजाब की मिट्टी को मेरा प्रणाम। पीएम ने कहा- जलियाबाग वो स्थान है जिसने देश के कई क्रांतिकारियों को देश के लिए मर मिटने की प्रेरणा दी।

यह भी पढ़ें-जलियांवाला बाग के नया परिसर का शुभारंभ, PM मोदी ने कहा- यहां से कई क्रांतिकारियों को मर मिटने की प्रेरणा मिली

यह हुआ है बदलाव
जलियांवाला बाग में लंबे समय से बेकार पड़ी और कम उपयोग वाली इमारतों को रिनोवेट करके चार संग्रहालय दीर्घाएं(museum galleries) तैयार की गई हैं। ये दीर्घाएं उस अवधि के दौरान पंजाब में घटित विभिन्‍न घटनाओं के विशेष ऐतिहासिक महत्‍व को दर्शाती हैं। इन घटनाओं को दिखाने के लिए audio-visual technology के माध्यम से प्रस्तुति दी जाएगी इसमें। मैपिंग और 3डी चित्रण के साथ-साथ कला एवं मूर्तिकला भी स्थापित होगी।

यह भी पढ़ें-कश्मीर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का जश्न, लालचौक पर निकली शोभायात्रा... दिखी सबसे अलग छटा

साउंड एंड लाइट शो होगा आकर्षण
13 अप्रैल, 1919 को घटित विभिन्‍न घटनाओं को दर्शाने के लिए एक साउंड एंड लाइट शो की व्‍यवस्‍था की गई है। इस परिसर में विकास से जुड़ी कई पहल की गई हैं। पंजाब की स्थानीय स्थापत्य शैली के अनुरूप धरोहर संबंधी विस्तृत पुनर्निर्माण कार्य किए गए हैं। शहीदी कुएं की मरम्मत की गई है और नवविकसित उत्तम संरचना के साथ इसका पुनर्निर्माण किया गया है। 

यह भी पढ़ें-PM जन-धन योजना के 7 साल: मोदी ने tweet करके कहा-भारत के विकास पथ को हमेशा के लिए बदल दिया है


 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios