श्रीनगर. श्रीनगर हाईवे पर रामबन के केला मोड़ पर बंद रास्ते को खोलने में जुटे सीमा सड़क संगठन (BRO) ने 60 घंटे में बैली ब्रिज को तैयार कर दिया है। इस पुल पर लोड रन ट्रायल भी किया गया है, जो कि सफल रहा है। ये पुल पिछले एक सप्ताह से बंद पड़ा था। यातायात इस वजह से इस रूट पर प्रभावित थे, जिसके चलते इसे जल्द से जल्द बनवाना ज्यादा जरूरी थी। ऐसे में इसका बेड़ा BRO ने उठाया और वो इसमें सफल भी हुए। 72 घंटे का मांगा था समय...

इस पुल को बनाने में खास बात तो ये है कि BRO ने इसे बनाने के लिए 72 घंटे का वक्त मांगा था, लेकिन उन्होंने इसे महज 60 घंटे में ही पूरी तैयार कर दिया। बता दें, ये रास्ता भूस्खलन के चलते क्षतिग्रस्त हो गया था और पिछले रविवार से ही इस रास्ते पर आवागमन रुक गया था, जिसके चलते घाटी से संपर्क टूट गया था। इसके बाद नेशनल हाईवे ऑथोरिटी ऑफ इंडिया रास्ते को खोलने की में जुटी लेकिन, कई दिनों की कोशिश के बाद राजमार्ग प्राधिकरण ने भी जल्द निर्माण कर पाने से हाथ खड़े कर दिए और कम से कम 20  दिन में इसे तैयार कर पाने की बात कही। 

BRO ने उठाया बेड़ा

NHAI ने अपनी कोशिश में असफल होने के बाद घाटी से संपर्क जोड़ने के लिए बीआरओ की मदद लेने का फैसला किया, जिसके बाद बीआरओ ने इसका बेड़ा उठाया। इस दौरान जल्द यातायात शुरू करने के लिए बैली पुल बनाना शुरू किया गया। शुरुआत में बीआरओ ने कहा था कि 72 घंटे में इसे तैयार कर दिया जाएगा लेकिन 60 घंटे में ही बीआरओ के इंजीनियर्स ने पुल को खड़ा कर दिया। 

यह भी पढ़ें:  TMC विधायकों की 'गुंडागर्दी', वेक्सीनेशन प्रोग्राम में उड़ाई नियमों की धज्जियां, जबरन लगवाई वैक्सीन

पुल पर हुआ सफल लोड ट्रायल रन

पहले ये संभावना जताई जा रही थी कि पुल शनिवार शाम तक तैयार हो पाएगा और उसमी समय इसका ट्रायल रन किया जा सकेगा, लेकिन शुक्रवार को ही पुल का अधिकांश काम पूरा हो चुका था और शनिवाप दोपहर को पुल का निर्माण पूरा हो गया। दोपहर के बाद बीआरओ ने पुल के ऊपर ट्रायल रन भी कर दिया। इस नए तैयार पुल के ऊपर बीआरओ के चीफ प्रोजेक्ट इंजीनियर ब्रिगेडियर आईके जग्गी का वाहन गुजरा और उसके पीछे निर्माण में लगी जेसीबी और दूसरे वाहन गुजरे। बिग्रेडियर जग्गी ने बताया कि शाम तक इस पर यातायात शुरू कर दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें:  किसानों को वैक्सीन के नेगेटिव असर का डर, स्वास्थ्यकर्मियों को सेंटर से भगाया, साथ ही की ये मांग भी