नई दिल्ली. भारत में अगले साल फरवरी तक कम से कम आधी आबादी कोरोना से संक्रमित हो सकती है। यानी तब तक कम से कम 65 करोड़ भारतीय कोरोना से संक्रमित हो चुके होंगे। यह हम नहीं कह रहे और न ही कोई अंतरराष्ट्रीय संस्था। यह अनुमान है भारत सरकार की तरफ से बनाए गए विशेषज्ञों के पैनल का। पैनल के एक अहम सदस्य ने सोमवार को जानकारी दी। हालांकि, पैनल का यह भी कहना है कि इतनी बड़ी आबादी के संक्रमित होने से महामारी की रफ्तार थमने में मदद मिलेगी।

मध्य सितंबर के बाद से संक्रमण के नए मामलों में कमी
भारत में अब तक कोरोना संक्रमण के 75.5 लाख मामलों की पुष्टि हो चुकी है। इस मामले में भारत सिर्फ अमेरिका से पीछे है। हालांकि, देश में मध्य सितंबर के बाद से कोरोना संक्रमण के मामलों में गिरावट देखी जा रही है। पिछले 1 महीनों से रोजाना औसतन 61,390 केस सामने आ रहे हैं।

'फिलहाल देश की करीब 30 प्रतिशत आबादी कोरोना से संक्रमित'
सरकारी पैनल के सदस्य और आईआईटी कानुपर के प्रफेसर मणिंद्र अग्रवाल ने न्यूज एजेंसी रॉयटर्स को बताया, 'हमारे गणितीय मॉडल का आकलन है कि फिलहाल देश की करीब 30 प्रतिशत आबादी संक्रमित हो चुकी है और फरवरी तक यह आंकड़ा 50 प्रतिशत तक पहुंच जाएगा।'

सीरो सर्वे के मुताबिक, सितंबर तक 14 प्रतिशत आबादी संक्रमित
कमिटी का आकलन है कि सरकार की तरफ से कराए गए सीरो सर्वे में जिस हद तक संक्रमण का अनुमान लगाया गया है, असल में संक्रमण का स्तर उससे कहीं बहुत ज्यादा हो सकता है। सीरो सर्वे के मुताबिक सितंबर तक भारत की करीब 14 प्रतिशत आबादी कोरोना से संक्रमित हो चुकी थी। मगर कमिटी के मुताबिक यह आंकड़ा करीब 30 प्रतिशत है।