नई दिल्ली. चुनाव आयोग ने पांच राज्यों पश्चिम बंगाल, असम, केरल, तमिलनाडु और पुडुचेरी में विधानसभा चुनाव 2021 की तारीखों का ऐलान कर दिया है। पांच राज्यों में से केरल, तमिलनाडु और पुडुचेरी में एक चरण में मतदान होंगे, वहीं असम में 3 और पश्चिम बंगाल में 8 चरणों में मतदान होगा। सभी राज्यों के नतीजे एक साथ 2 मई को आएंगे। जिन 5 राज्यों में चुनाव हैं, उनमें से दो राज्यों यानी असम और तमिलनाडु में भाजपा या उसके सहयोगी की सरकार है। असम में भाजपा पूर्ण बहुमत में है। हालांकि, तमिलनाडु में एआईएडीएमके की सरकार है, लेकिन भाजपा सहयोगी पार्टी है और इस साल भी दोनों ने साथ चुनाव लड़ने का ऐलान किया है। तमिलनाडु में भाजपा ने लोकसभा चुनाव भी एआईएडीएमके के साथ ही लड़ा था। 

अपडेट्स

असम : तीन चरण में चुनाव होगा 
पहला चरण- 27 मार्च  
दूसरा चरण- 1 अप्रैल
तीसरा चरण- 6 अप्रैल
नतीजे- 2 मई

Assam Assembly Election: 3 चरणों 27 मार्च,1 और 6 अप्रैल को मतदान होगा, 2 मई को आएंगे नतीजे

केरल: एक चरण में चुनाव होगा
मतदान- 6 अप्रैल
नतीजे- 2 मई

Kerala Assembly Election : केरल में 6 अप्रैल को होगा मतदान, 2 मई को आएंगे विधानसभा चुनाव नतीजे

तमिलनाडु: एक चरण में चुनाव होगा
मतदान- 6 अप्रैल
नतीजे- 2 मई

Tamil Nadu-Puducherry Election: दोनों राज्यों में 6 अप्रैल को होगा मतदान, 2 मई को आएंगे नतीजे

पुडुचेरी: एक चरण में चुनाव होगा 
मतदान की तारीख- 6 अप्रैल
नतीजे- 2 मई

पश्चिम बंगाल: 8 चरणों में चुनाव होंगे 
पहला चरण- 27 मार्च
दूसरा चरण- 1 अप्रैल
तीसरा चरण- 6 अप्रैल
चौथा चरण-  10 अप्रैल
पांचवां चरण- 17 अप्रैल
छठवां चरण- 22 अप्रैल
सातवां चरण- 26 अप्रैल
आंठवां चरण- 29 अप्रैल 
नतीजे- 2 मई

West Bengal election: 27 मार्च से 8 चरणों में होंगा विधानसभा चुनाव के लिए मतदान, 2 मई को आएंगे नतीजे

 

पांचों राज्यों में कब तक राज्य सरकारों का कार्यकाल है?

कोरोना महामारी में चुनाव के लिए दिशानिर्देश। इन्हें सभी व्यक्तियों को मानना होगा।

1- हर व्यक्ति को चुनाव संबंधी गतिविधि के दौरान फेस मास्क पहनता है।
2- चुनाव के लिए उपयोग किए जाने वाले हॉल / कमरे / परिसर के गेट पर थर्मल स्कैनिंग की जाएगी की जाएगी। गेट पर ही सैनिटाइजर की व्यवस्था होगी। 
3- COVID-19 दिशानिर्देशों के अनुसार सोशल डेस्टेंसिंग का पालन करना होगा।  
4- जहां तक हो बड़े हॉल की पहचान की जानी चाहिए और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाना चाहिए।  
5- मतदान के दौरान पर्याप्त संख्या में गाड़ियां जुटाई जाएंगी। कर्मचारियों, सुरक्षा कर्मियों को COVID-19 दिशानिर्देशों का पालन करना होगा। 

त्योहार और परीक्षा वाले दिन वोटिंग नहीं होगी

चुनाव आयोग के मुताबिक, पांचों राज्यों में त्योहार और परीक्षा वाले दिन वोटिंग नहीं होगी। चुनाव से संबंधित जानकारी के लिए टोल फ्री नंबर होगा। 1950 पर कॉल कर जानकारी ली जा सकती है। पश्चिम बंगाल में विवेक दुबे, एमके दास केरल में दीपक मिश्रा, तमिनलाडु में धर्मेंद्र कुमार असम में अशोक कुमार पुलिस पर्यवेक्षक होंगे।

पांचों राज्यों में विधानसभा सीटों के अंतर्गत एससी और एसटी की रिजर्व सीट

ऑनलाइन जमा होगी सिक्योरिटी मनी

सिक्योरिटी मनी (जमानत की राशि) ऑनलाइन जमा की जाएगी। सभी पांच राज्यों में सीआरपीएफ तैनात की जाएगी। चारों राज्यों में मतदान केंद्रों की संख्या बढ़ाई गई है। सभी चुनाव अधिकारियों को वैक्सीन लगाई जाएगी। मतदान का समय 1 घंटा बढ़ाया गया। 

डोर टू डोर कैंपेन में ज्यादा से ज्यादा 5 लोग

डोर टू डोर कैंपेन में 5 से ज्यादा लोग नहीं हो सकते हैं। यानी उम्मीदवार सहित 5 लोगों को घर के अंदर जाकर प्रचार करने का अधिकार होगा। वहीं नामांकन की ऑनलाइन सुविधा होगी। चुनाव में कोरोना गाइडलाइन का पालन होगा। चुनाव आयोग के अधिकारी भी फ्रंटलाइन वॉरियर्स हैं। कोरोना के दौरान बिहार में सफलतापूर्वक चुनाव हुए। 5 राज्यों में कुल 824 विधानसभा सीटों पर मतदान होगा। 18 करोड़ से ज्यादा मतदाता वोट डालेंगे। तमिलनाडु में 66 हजार मतदान केंद्र होंगे। असम में 33 हजार, पश्चिम बंगाल में 1 लाख 1 हजार 915 मतदान केंद्र होंगे। 

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा विज्ञान भवन पहुंचे। उन्होंने कहा कि आज पश्चिम बंगाल, केरल, असम, तमिलनाडु और पुडुचेरी में विधानसभा चुनाव को लेकर जानकारी देंगे। उन्होंने कहा, कोरोना को ध्यान में रखते हुए चुनाव होंगे। मतदाता की सुरक्षा का ध्यान रखा जाएगा।
 

 

बुधवार को हुई अहम बैठक 
प बंगाल, असम, केरल , तमिलनाडु और पुडुचेरी में अप्रैल मई में चुनाव होना है। इससे पहले बुधवार को चुनाव आयोग की अहम बैठक हुई। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में इन राज्यों में चुनाव की तारीखों पर चर्चा हुई।

राज्यों की स्थिति 

प बंगाल : विधानसभा में कुल सीटें: 294 , बहुमत के लिए जरूरी: 148

2016 के नतीजे

पार्टी सीटें  वोट %
टीएमसी 211 45.6
कांग्रेस 44 12.4
सीपीआई 26 20.1
भाजपा 3 10.1
आरसीपी 3 1.7
निर्दलीय 1 2.2
अन्य 6 7.7

 

असम : कुल विधानसभा सीटें : 126
बहुमत के लिए- 64

 

पार्टी सीटें  वोट %
भाजपा 60 29.8%
कांग्रेस 26 31.3%
एजीपी 14 20.1
एआईयूडीएफ 13 13.2%
बीओपीएफ 12 4%
निर्दलीय 1 11.2%

 

केरल: कुल विधानसभा सीटें : 140
बहुमत के लिए- 71

पार्टी सीटें वोट%
सीपीआई (एम) 58 26.7%
कांग्रेस 22 23.8%
सीपीआई 19  8.2%
आईएमएल 18 7.4%
निर्दलीय 6    5.3%
अन्य 17  28.6%

             
पुडुचेरी : कुल सीटें : 30 
बहुमत के लिए- 16

पार्टी   सीटें वोट%
कांग्रेस 15 31.1%
एआईएनआरसी 8 28.6 %
AIADMK 4 17.1%
DMK   2 9%
निर्दलीय 1 8%

 

तमिलनाडु : कुल सीटें : 232
बहुमत के लिए - 117

पार्टी     सीटें     वोट%
AIADMK 134 41.3%
DMK 89 32.1%
कांग्रेस   8 6.5%
आईएमएल 1 0.7%