Asianet News Hindi

UP Politics: पीएम मोदी के खास एके शर्मा की बीजेपी संगठन में एंट्री, बनाए गए प्रदेश उपाध्यक्ष

कोविड काल में एमएलसी एके शर्मा काफी सक्रिय रहे। जब कोविड की दूसरी लहर में यूपी सरकार की किरकिरी शुरू हो गई तो पीएमओ के आदेश पर पूर्वांचल विशेषकर पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस की कमान शर्मा ने संभाली। उन्होंने अस्पतालों में बेड से लेकर आक्सीजन की व्यवस्था तक अपनी भूमिका निभाई।

Ex Bureaucrat AK Sharma big entry in BJP organisation, Appointed BJP State Vice President DHA
Author
Lucknow, First Published Jun 19, 2021, 4:39 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

लखनऊ। यूपी में आंतरिक सियासी घमासान के बीच बीजेपी संगठन का विस्तार किया गया है। पीएम मोदी के खास पूर्व आईएएस अधिकारी एके शर्मा को अब संगठन में समायोजित कर लिया गया है। एमएलसी एके शर्मा को बीजेपी का प्रदेश उपाध्यक्ष बनाया गया है। 

यूपी संगठन में होने लगा है बदलाव

बीजेपी की यूपी प्रदेश टीम में एके शर्मा के अलावा दो नए चेहरे और शामिल किए गए हैं। लखनऊ की अर्चना मिश्रा और बुलंदशहर के अमित बाल्मिकी को प्रदेश मंत्री बनाया गया है।

एके शर्मा को लेकर ठन गई थी केंद्र और राज्य सरकार में

दरअसल, कोरोना काल के पहले ही यूपी की राजनीति में एके शर्मा की एंट्री कराई गई थी। मोदी के खास अधिकारियों में रहे गुजरात कैडर के अधिकारी एके शर्मा पीएमओ में भी रहे हैं। अपने रिटायरमेंट के ढाई साल पहले ही वीआरएस लेकर वह सक्रिय राजनीति में आ गए। यूपी के मउ जिले के रहने वाले एके शर्मा को बीजेपी ने सीधे एमएलसी बना दिया। 

यह भी पढ़ेंः ऑटो ड्राइवर्स को फ्री में तीन-तीन लीटर पेट्रोल बांट दिया इस पंप ने, पेट्रोल पंप मालिक न नेता है न बिजनेसमैन

कोरोना काल में पूर्वांचल विशेषकर बनारस में कोविड नियंत्रण में लगे रहे

कोविड काल में एमएलसी एके शर्मा काफी सक्रिय रहे। जब कोविड की दूसरी लहर में यूपी सरकार की किरकिरी शुरू हो गई तो पीएमओ के आदेश पर पूर्वांचल विशेषकर पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस की कमान शर्मा ने संभाली। उन्होंने अस्पतालों में बेड से लेकर आक्सीजन की व्यवस्था तक अपनी भूमिका निभाई।

डिप्टी सीएम बनाए जाने की थी संभावना

कोविड काल के बाद यूपी सरकार के नए कैबिनेट विस्तार में उनको महत्वपूर्ण मंत्री पद या डिप्टी सीएम बनाए जाने की बात कही जाने लगी थी। बताया जा रहा था कि खुद पीएम मोदी ने इसके लिए निर्देश दिया था। लेकिन यूपी में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ राज्यमंत्री के अतिरिक्त उनको कोई दूसरा पद देने को राजी न हुए। इसको लेकर केंद्र और राज्य सरकार में काफी दिनों तक तनातनी भी रही। 

यह भी पढ़ेंः चेन्नई के चार शेरों में डेल्टा वेरिएंट की पुष्टि, दो शेरों की मौत, अभी भी आठ शेर पाॅजिटिव

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios