नई दिल्ली. भारत में कोरोना संक्रमण के तेजी से केस बढ़े हैं। अमेरिका के बाद भारत में सबसे अधिक मामले सामने आए हैं। इसे देखते हुए केंद्र सरकार ने 1 मई से 18 साल से ऊपर के सभी लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाने का ऐलान किया है। अभी तक सिर्फ 45 साल से ऊपर या गंभीर बीमारों को ही वैक्सीन लगाई जा रही थी। इसी बीच अपोलो हॉस्पिटल की मैनेजेनिंग डायरेक्टर(MD) डॉ. सुनीता रेड्डी का अनुमान है कि भारत में सितंबर तक आधी आबादी को वैक्सीन लग जाएगी। डॉ. रेड्डी का यह बयान लोगों के लिए सुकूनभरा है, जो वैक्सीनेशन को लेकर संशय में थे। डॉ. रेड्डी का आकलन है कि सितंबर तक भारत की 55% आबादी इम्यून हो सकेगी। डॉ. रेड्डी का मानना है कि राज्य सरकारें निजी सेक्टर के साथ मिलकर अच्छा काम कर रही हैं।
 

यह भी पढ़ें-मप्र में COVID की स्पीड पर ब्रेक, पर दूसरी जगह आउट ऑफ कंट्रोल, एक दिन में रिकॉर्ड 2.94 लाख केस, 2,020 मौतें

यह भी जानें
भारत में वैक्सीनेशन की शुरुआत 16 जनवरी, 2021 से हुई थी। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के अनुसार, भारत में मंगलवार तक कोरोना वायरस के लिए कुल 27,10,53,392 सैंपल टेस्ट किए जा चुके हैं, जिनमें से 16,39,357 सैंपल कल टेस्ट किए गए।
 

यह भी पढ़ें-हल्की-फुल्की एक्सरसाइज आपको कोरोना संक्रमण से बचा सकती है, जानिए अमेरिकी रिसर्च का दावा 

फिलहाल यह है भारत की स्थिति
भारत में कोरोना की दूसरी लहर ने हाहाकार की स्थिति पैदा कर दी है। महाराष्ट्र, उत्तरप्रदेश दिल्ली, कर्नाटक, केरल, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, राजस्थान, गुजरात और तमिलनाडु आदि कुछ ऐसे राज्य हैं, जहां सबसे अधिक केस आ रहे हैं। भारत में अब तक के रिकॉर्ड 2,94,115 नए केस सामने आए हैं। अब तक 1,56,09,004 केस सामने आ चुके हैं। इस समय देश में 21,50,119 एक्टिव केस हैं। एक दिन में 1,66,520 लोग रिकवर हुए। अब तक 1,32,69,863 लोग रिकवर हो चुके हैं। पिछले 24 घंटे में 2,020 लोगों की मौत हो चुकी है। अब तक 1,82,570 लोगों की मौत हो चुकी है। 

यह भी पढ़ें-दुनिया में दूसरा सबसे संक्रमित देश बना भारत, लेकिन इम्यूनिटी पावर बेहतर, दूसरे देशों की तुलना में मौतें कम

यह भी पढ़ें-राहत की खबर: कोरोना के अलग-अलग म्यूटेंट के खिलाफ असर करती है भारत बायोटेक की COVAXIN: ICMR स्ट