Asianet News Hindi

भारत ने पाकिस्तान सरकार को दी नसीहतः सच जाने बगैर नहीं बोलना चाहिए, भारत के खिलाफ दुष्प्रचार करने से बचे

2 जून को बोकारो पुलिस ने छह किलोग्राम एक पीले रंग का पदार्थ बरामद किया था। आशंका जताई गई थी कि पीले रंग का बरामद पदार्थ यूरेनियम है। पुलिस ने सात लोगों को इस सिलसिले में अरेस्ट भी किया था।

India warned Pakistan: Ministry of external affairs told not to spread misinformation on Bokaro case DHA
Author
New Delhi, First Published Jun 10, 2021, 7:48 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली। एटाॅमिक एनर्जी डिपार्टमेंट मुंबई ने बोकारो में बरामद अज्ञात सामग्री के यूरेनियम या कोई अन्य रेडियोएक्टिव पदार्थ होने से इनकार कर दिया है। सीज किए गए अज्ञात पदार्थ के रेडियोएक्टिव नेचर होने की बात को खारिज कर दिया गया है। भारत सरकार के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि कुछ मीडिया रिपोर्ट्स को सत्यापित किए बगैर ही पाकिस्तान ने बोकारो में बरामद अज्ञात पदार्थ को यूरेनियम बताकर पूरे विश्व में भारत के खिलाफ दुष्प्रचार करने की कोशिश की है। पाकिस्तान को गलत तथ्यों पर कोई बात करने से बचना चाहिए। 

 

यह भी पढ़ें: अमेरिका में TikTok, CamScanner सहित 9 चाइनीज ऐप्स पर लगा बैन हटा, बिडेन प्रशासन ने रद किया ट्रंप का आदेश

छह किलोग्राम पीले रंग का कोई पदार्थ हुआ था बरामद

2 जून को बोकारो पुलिस ने छह किलोग्राम एक पीले रंग का पदार्थ बरामद किया था। आशंका जताई गई थी कि पीले रंग का बरामद पदार्थ यूरेनियम है। पुलिस ने सात लोगों को इस सिलसिले में अरेस्ट भी किया था। आरोपियों को एटाॅमिक एनर्जी एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया था।

यह भी पढ़ें: कोरोना को मात देने गेमचेंजर रेमेडी बनेगा मोनोक्लोनल एंटीबाडी काॅकटेल, दिल्ली में 12 घंटे में ठीक हुआ पेशेंट

डिपार्टमेंट ऑफ एटामिक एनर्जी मुंबई ने किया खारिज

बोकारो में बरामद पीले रंग के पदार्थ का मुंबई बेस्ट डिपार्टमेंट ऑफ एटामिक एनर्जी ने परीक्षण किया। परीक्षण के बाद डीएई ने स्पष्ट किया कि बरामद पदार्थ यूरेनियम नहीं है। न ही इस पदार्थ का नेचर ही रेडियोएक्टिव है। वैज्ञानिकों ने बताया कि बरामद पदार्थ स्वास्थ्य के लिए हानिकारक भी नहीं है। 

पुलिस फिर भी करेगी जांच

बोकारो पुलिस ने पदार्थ के यूरेनियम नहीं होने की बात साफ होने पर भी जांच को जारी रखने का निर्णय लिया है। पुलिस के अनुसार बरामद पदार्थ के पैकेट पर ‘मेड इन यूएसए’ लिखा था। वह यह पता लगाएगी कि आखिर किसी चीज को यूरेनियम कहकर क्यों ब्रांडिंग की जा रही है। 
एसपी बोकारो चंदन कुमार झा ने कहा कि अभी अधिकारिक तौर पर डीएई मुंबई या यूरेनियम कारपोरेशन आॅफ इंडिया की रिपोर्ट का इंतजार है। इसके बाद ही अगला फैसला लिया जाएगा। 

यह भी पढ़ें: भारत के पास दिसंबर तक 200 करोड़ डोज कोविड-19 वैक्सीन होगाः जेपी नड्डा

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios