Asianet News HindiAsianet News Hindi

Yudh Abhyas: साथ मिलकर दुश्मनों को धूल चटाने के तौर-तरीके सीखेंगी दुनिया की 2 महाशक्तियों की सेनाएं

दुनिया की 2 सबसे शक्तिशाली सेना भारत और अमेरिका दुश्मनों को धूल चटाने एक साथ युद्धाभ्यास करेंगी। भारतीय सेना की टुकड़ी भारत-अमेरिका संयुक्त सैन्य अभ्यास "पूर्व युद्ध अभ्यास 2021" के 17वें संस्करण के लिए पहुंच चुकी है।
 

Indian and the US army will commence  joint military exercise Yudh Abhyas at Alaska from 15 October
Author
New Delhi, First Published Oct 14, 2021, 11:51 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. भारतीय सेना अमेरिका के अलास्का में अमेरिकी सेना के साथ युद्धाभ्यास(Yudh Abhyas) करने पहुंच चुकी है। दुनिया की सबसे शक्तिशाली सेना में शुमार भारतीय सेना की टुकड़ी भारत-अमेरिका संयुक्त सैन्य अभ्यास "पूर्व युद्ध अभ्यास 2021" के 17वें संस्करण के लिए पहुंच चुकी है। यह युद्ध अभ्यास 15 से 29 अक्टूबर 2021 तक संयुक्त बेस एल्मेंडॉर्फ रिचर्डसन, अलास्का (USA) में आयोजित किया जाएगा।

यह भी पढ़ें-LAC पर Tension: भारत और चीन के बीच 13वें दौर की बैठक में भी नहीं सुलझा विवाद; पीछे हटने को राजी नहीं चीन

350 जवान करेंगे युद्ध अभ्यास
भारतीय सेना की टुकड़ी में इन्फैंट्री बटालियन ग्रुप के 350 जवान शामिल हैं। 14 दिवसीय अभ्यास में भाग लेने के लिए यह दल 14 अक्टूबर को अलास्का के लिए उड़ान में सवार हुआ था। यह अभ्यास भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका के बीच सबसे बड़ा चल रहा संयुक्त सैन्य प्रशिक्षण और रक्षा सहयोग प्रयास माना जा रहा है।

यह भी पढ़ें-Drugs माफिया और आतंकवादियों के मददगारों के बाद अब NIA की खालिस्तानी संगठन 'SFJ' पर नकेल कसने की तैयारी

फरवरी में बीकानेर में हुआ था युद्ध अभ्यास
संयुक्त अभ्यास दोनों देशों के बीच बारी-बारी से आयोजित किया जाता है। युद्ध अभ्यास का अंतिम संस्करण फरवरी 2021 में राजस्थान के बीकानेर में महाजन फील्ड फायरिंग रेंज में आयोजित किया गया था। भारतीय सेना के प्रवक्ता कर्नल सुधीर चमोली के अनुसार, युद्ध अभ्यास अभ्यास दोनों देशों के बीच विकसित सैन्य सहयोग में एक और कदम है। अभ्यास दो सेनाओं के बीच समझ, सहयोग और अंतःक्रियाशीलता विकसित करना चाहता है। युद्ध अभ्यास अभ्यास ठंडी जलवायु परिस्थितियों में संयुक्त हथियारों के युद्धाभ्यास पर ध्यान केंद्रित करेगा और मुख्य रूप से एक दूसरे से सामरिक स्तर के अभ्यास और सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करने की सुविधा प्रदान करेगा।

यह भी पढ़ें-Jammu and Kashmir: कश्मीरों पंडितों पर हमले का बदला; त्राल में जैश-ए-मोहम्मद का टॉप कमांडर शाम सोफी ढेर

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios