Asianet News HindiAsianet News Hindi

नौसेना में शामिल हुआ INS विशाखापत्तनम, समुद्र में छिपकर हमला करने वालों को पाताल पहुंचाएगा

INS Visakhapatnam पर तैनात मिसाइल 70 KM दूर उड़ रहे फाइटर जेट को जमींदोज कर सकती है। इसके अलावा इस जंगी जहाज में और भी कई आधुनिक हथियार है। 

INS Visakhapatnam Joins Navy Missile Attack Make in india Make For the world
Author
Mumbai, First Published Nov 21, 2021, 1:01 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई। छिपकर हमला करने में सक्षम मिसाइल विध्वंसक आईएनएस विशाखापत्तनम (INS Visakhapatna) रविवार को भारतीय (Indian navy)में शामिल हो गया। इस शक्तिशाली युद्धपोत के कमीशनिंग समारोह के दौरान रक्षामंत्री राजनाथ सिंह मुख्य अतिथि रहे। यह युद्धपोत आधुनिक जरूरतों को ध्यान में रखते हुए युद्ध के लिए बनाया गया है। मुंबई के मझगांव डॉकयार्ड में बनाए गए INS  विशाखापत्तनम की सबसे खास बात है कि इसका 75 फीसदी हिस्सा पूरी तरह से स्वदेशी है। यह मिसाइल और पन्नडुब्बी रोधी रॉकेट से लैस है। आने वाले सालों में 35,000 करोड़ रुपए की लागत से इस श्रेणी के तीन और युद्धपोत बनाए जाएंगे। इस मौके पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath singh) ने कहा कि हम न केवल अपनी जरूरतों के लिए, बल्कि दुनिया की जरूरतों के लिए-मेक इन इंडिया (Make in india), मेक फॉर द वर्ल्ड (Make for the world) के लिए जहाज बनाएंगे।

 

ins


आधुनिक इलेक्ट्रॉनिक फाइटर टेक्निक से लैस
INS  विशाखापत्तनम 163 मीटर लंबा और 17 मीटर चौड़ा है। 7,400 टन वजनी यह युद्धपोत आधुनिक तकनीकों से लैस है। यह भारत में बना अब तक का सबसे लंबा विध्वंसक युद्धपोत है। इस पर 50 अधिकारी सहित करीब 300  नौसैनिक तैनात किए जा सकते हैं।  यह सतह से सतह और सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल, मध्यम और छोटी दूरी की बंदूकें, पनडुब्बी रोधी रॉकेट और आधुनिक इलेक्ट्रॉनिक फाइटर और कम्युनिकेशन सिस्टम सहित घातक हथियारों और सेंसर से लैस है। 

एक किमी गहराई में छिपे दुश्मनों को पाताल पहुंचा सकता है 
आईएनएस  विशाखापत्तनम के कई अलग-अलग ट्रायल किए गए हैं। इस जंगी युद्धपोत पर कई आधुनिक हथियार तैनात किए गए हैं। INS  विशाखापत्तनम पर स्वदेशी एंटी शिप ब्रह्मोस मिसाइल तैनात की गई है। यह बायोलॉजिकल और केमिकल हमलों के दौरान न सिर्फ अपना सीना चौड़ा करके खड़ा रह सकता है, बल्कि के अंदर एक किमी की गहराई में सबमरीन में छिपे दुश्मनों को पाताल में पहुंचा सकता है। इस पर तैनात मिसाइल 70 किमी की दूरी से हवा में उड़ रहे दुश्मन के फाइटर जेट को जमींदोज कर सकती है। छिपकर हमले करने वालों को ध्वस्त करने में यह अहम भूमिका निभाएगा। 

यह भी पढ़ें
Rajasthan Cabinet : गहलोत सरकार में दिखेगी जीजा-साले की जुगलबंदी, ऐसा होगा नया मंत्रिमंडल
Amitabh Bachchan ने पान मसाला कंपनी के खिलाफ लिया लीगल एक्शन, कॉन्ट्रैक्ट खत्म फिर भी चल रहा था विज्ञापन

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios