Asianet News HindiAsianet News Hindi

अब Jammu-Kashmir कांग्रेस में इस्तीफे का दौर: आजाद खेमे के चार पूर्व मंत्रियों समेत 7 सीनियर लीडर्स का इस्तीफा

कांग्रेस से इस्तीफा देने वाले अधिकतर नेता पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद के करीबी बताए जा रहे हैं। 

Jammu Kashmir Congress, many senior leaders of Ghulam Nabi Azad camp sent resignation to Party Chief Sonia Gandhi, DVG
Author
Jammu, First Published Nov 17, 2021, 4:19 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

जम्मू। पंजाब, गोवा के बाद अब केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में कांग्रेस (Congress) नेताओं ने नाराजगी जताते हुए सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) को अपना इस्तीफा भेज दिया है। इस्तीफा देने वालों में चार पूर्व मंत्री और तीन विधायक शामिल हैं। इन लोगों ने आरोप लगाया है कि पार्टी संबंधित मामलों में इनको अपनी बात कहने का मौका नहीं दिया जा रहा है। 

इन्होंने दिया है इस्तीफा

कांग्रेस की जम्मू-कश्मीर यूनिट से इस्तीफा देने वाले नेताओं में चार पूर्व मंत्री जीएम सरूरी, जुगल किशोर, विकार रसूल और डॉ. मनोहल लाल के नाम शामिल हैं। जबकि तीन पूर्व विधायकों गुलाब नबी मोंगा, नरेश गुप्ता और अमीन भट्ट ने भी अपना इस्तीफा भेज दिया है। 

इस्तीफा देने वाले पूर्व सीएम गुलाम नबी आजाद के खास

कांग्रेस से इस्तीफा देने वाले अधिकतर नेता पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद के करीबी बताए जा रहे हैं। इन नेताओं ने सोनिया गांधी के अलावा पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रदेश प्रभारी रजनी पाटिल को भी इस्तीफे की प्रतियां भेजी हैं। अभी कुछ दिनों पहले ही पूर्व सीएम गुलाम नबी आजाद ने राज्य का दौरा किया था। 

प्रदेश अध्यक्ष पर साधा है बागी नेताओं ने निशाना

कांग्रेस अध्यक्ष को इस्तीफा भेजने वाले नेताओं ने प्रदेश अध्यक्ष गुलाम अहमद मीर पर निशाना साधा है। इनका आरोप है कि मीर पार्टी में कार्यकर्ताओं की न तो सुन रहे न ही संगठन के लिए काम ही कर रहे हैं। मीर के अध्यक्ष रहते पार्टी ही बहुत दयनीय स्थिति की तरफ बढ़ रही है और पार्टी के बहुत सारे नेता इस्तीफा देकर दूसरे दलों में शामिल हो गए, लेकिन कुछ ने खामोश रहने का फैसला किया है। नाराज नेताओं ने यह आरोप भी लगाया कि जम्मू-कश्मीर प्रदेश कांग्रेस के कामकाज पर कुछ नेताओं पे कब्जा जमा रखा है।
इस्तीफा देने वाले नेताओं ने कहा है कि उन्होंने अपने मुद्दों की तरफ पार्टी आलाकमान का ध्यान आकर्षित करने का प्रयास किया था लेकिन उन्हें समय नहीं दिया गया। वे करीब एक साल से पार्टी नेतृत्व से मिलने का समय मांग रहे थे, पर उन्हें समय नहीं दिया गया। अब इस्तीफा देने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है। 

यह भी पढ़ें:

Haiderpora encounter: मारे गए आमिर के पिता बोले-आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई का इनाम मेरे बेकसूर बेटे को मारकर दिया

West Bengal विधानसभा में केंद्र के विरोध में एक और प्रस्ताव: BSF jurisdiction बढ़ाने के खिलाफ बिल पेश

China बना दुनिया का सबसे अमीर देश: America से 30 बिलियन डॉलर अधिक, India से नौ गुना संपत्ति ज्यादा

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios