Asianet News HindiAsianet News Hindi

Modi पहले PM, जिन्होंने आदिवासी युवाओं की प्रतिभा और देशभक्ति को माना : अर्जुन मुंडा

जनजातीय मंत्री (Tribal Minister) अर्जुन मुंडा (Arjun Munda) ने शुक्रवार को कहा कि मोदी पहले प्रधानमंत्री हैं, जिन्होंने आदिवासी युवाओं की देशभक्ति को माना है। वे उत्तराखंड के देहरादून स्थित एक आदिवासी स्कूल के कार्यक्रम में पहुंचे थे।

Narendra Modi Arjun Munda Tribal school dehradun
Author
Dehradun, First Published Nov 12, 2021, 9:18 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

देहरादून। केंद्रीय जनजातीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने शुक्रवार को उत्तराखंड के झझरा स्थित ITITI ट्राइबल स्कूल का दौरा किया। यहां पूर्व सांसद तरुण विजय, विधायक सहदेव पुंडीर और स्कूल के ट्रस्टी राकेश इनेराई ने उनका स्वागत किया। केंद्रीय मंत्री ने स्कूल में स्थापित बिरसा मुंडा की प्रतिमा को श्रद्धांजलि अर्पित की। हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिरसा मुंडा जयंती (15 नवंबर) को आदिवासी गौरव दिवस घोषित किया है।
मुंडा ने इस जनजातीय स्कूल की प्रशंसा करते हुए कहा कि यह स्कूल पिछले 20 वर्षों से बेहतरीन कार्य करते हुए युवाओं को सशक्त बना रहा है। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आदिवासी युवाओं की प्रतिभा और देशभक्ति को माना है और बिरसा मुंडा के जन्मदिन को आदिवासी गौरव दिवस के रूप में घोषित किया है। यह आदिवासी गौरव और सम्मान को बढ़ाता है। भाजपा नेता मधु नेगी, स्कूल कोऑर्डिनेटर रुक्मिनी रावत, रूपेश कुमार, आकाशदीप डोभाल, मनीष और आरती ने केंद्रीय मंत्री को धन्यवाद दिया। 

15 को भोपाल में मोदी जनजातीय गौरव दिवस का करेंगे शुभारंभ 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 15 नवंबर के भोपाल में जनजातीय गौरव दिवस कार्यक्रम में आ रहे हैं। उनकी सभा की तैयारियों तेजी से जारी हैं। मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को इसकी तैयारियों का जायजा लिया। शिवराज ने सभा स्थल, मंच, विशिष्ट व्यक्तियों के लिए बैठने की व्यवस्था, आमंत्रित जनजातीय समुदाय की बैठक व्यवस्था ,सुरक्षा व्यवस्था,पेयजल सहित अन्य बुनियादी जरूरतों को पूरा करते हुए सभी तैयारियां पूर्ण करने के निर्देश दिए। इस कार्यक्रम में जनजातीय मंत्री मुंडा भी शामिल होंगे। 

यह भी पढ़ें
यहां है देश का एकमात्र ट्राइबल म्यूजियम,देश-विदेश से आते हैं लोग,आदिवासी संस्कृति की दिखती है झलक,जानें खासियत
जनजातीय गौरव दिवस महासम्मेलन: 5 हजार बसों से लाए जाएंगे 2 लाख आदिवासी, खाने-पीने, ठहरने पर 13 करोड़ होंगे खर्च

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios