मध्य एशिया से कनेक्टिविटी के प्रॉमिस के बीच NSA डोभाल ने अफगानिस्तान से ऑपरेट हो रहे आतंकवाद पर कही बड़ी बात

| Dec 06 2022, 12:56 PM IST

मध्य एशिया से कनेक्टिविटी के प्रॉमिस के बीच NSA डोभाल ने अफगानिस्तान से ऑपरेट हो रहे आतंकवाद पर कही बड़ी बात
मध्य एशिया से कनेक्टिविटी के प्रॉमिस के बीच NSA डोभाल ने अफगानिस्तान से ऑपरेट हो रहे आतंकवाद पर कही बड़ी बात
Share this Article
  • FB
  • TW
  • Linkdin
  • Email

सार

 NSA अजित डोभाल ने मंगलवार को मध्य एशियाई क्षेत्र के अपने समकक्षों की मेजबानी करते हुए कहा कि वित्तीय सहायता(terror financing) आतंकवाद की 'जिंदगी' है और आतंक के वित्तपोषण का मुकाबला करने के लिए अधिक प्रायोरिटी दी जानी चाहिए। 

नई दिल्ली. राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल(NSA Ajit Doval) ने मंगलवार को मध्य एशियाई क्षेत्र के अपने समकक्षों(counterparts from the Central Asian region) की मेजबानी करते हुए कहा कि वित्तीय सहायता(terror financing) आतंकवाद की 'जिंदगी' है और आतंक के वित्तपोषण का मुकाबला करने के लिए अधिक प्रायोरिटी दी जानी चाहिए। उन्होंने रीजनल सिक्योरिटी चैलेंज का सामना करने के लिए एक कॉमन फ्रेमवर्क विकसित करने पर जोर दिया।

NSA डोभाल ने ये बातें भी कहीं
राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की भारत-मध्य एशिया बैठक की शुरुआत के मौके पर अपने संबोधन में डोभाल ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों को आतंकवादी गतिविधियों में शामिल संस्थाओं या लोगों को किसी भी प्रकार की सहायता प्रदान करने से बचना चाहिए और आतंकवाद-रोधी समझौतों में निहित दायित्वों को पूरा करना चाहिए।

Subscribe to get breaking news alerts

चीन के बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (BRI) की बढ़ती आलोचना के बीच, डोभाल ने यह भी कहा कि कनेक्टिविटी प्रोजेक्ट्स को देशों की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान करना चाहिए। मध्य एशिया को भारत का विस्तारित पड़ोस-extended neighbourhood बताते हुए, डोभाल ने कहा कि नई दिल्ली(यानी भारत सरकार) इस क्षेत्र को सर्वोच्च प्राथमिकता देती है, अफगानिस्तान को जोड़ना हम सभी से संबंधित एक महत्वपूर्ण मुद्दा है।

डोभाल ने अफगानिस्तान सहित क्षेत्र में आतंकवाद की चुनौतियों से निपटने के लिए एक सामान्य रूपरेखा विकसित करने और जनवरी में पहले भारत-मध्य एशिया शिखर सम्मेलन में लिए गए निर्णय के साथ समग्र सुरक्षा सहयोग को मजबूत करने के तरीकों पर ध्यान देने के साथ सम्मेलन की मेजबानी की। अपने संक्षिप्त संबोधन में डोभाल ने बड़े पैमाने पर आतंकवाद की चुनौती, अफगानिस्तान की स्थिति और रीजनल कनेक्टिविटी प्रोजेक्ट्स के महत्व पर ध्यान केंद्रित किया।

अफगान भूमि पर आतंकवाद की बढ़ती भूमिका पर चिंता
जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा जैसे पाकिस्तान मूल के आतंकवादी समूहों सहित अन्य आतंकवादी गतिविधियों के लिए अफगान भूमि के उपयोग पर भारत की बढ़ती चिंता के बीच उन्होंने कहा, "आतंकवाद का वित्तपोषण(inancing of terrorism) इसकी जीवनदायिनी(lifeblood)है और आतंकवाद के वित्तपोषण का मुकाबला करना हम सभी के लिए एक कॉमन प्रायोरिटी होनी चाहिए।" कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, ताजिकिस्तान और उज्बेकिस्तान के एनएसए सम्मेलन में भाग ले रहे हैं, जबकि तुर्कमेनिस्तान का प्रतिनिधित्व भारत में उसके राजदूत द्वारा किया जा रहा है।

मध्य एशियाई देशों के साथ भारत की कनेक्टिविटी 
डोभाल ने कहा, "अफगानिस्तान हम सभी के लिए एक महत्वपूर्ण मुद्दा है। तात्कालिक प्राथमिकताओं और आगे बढ़ने के संबंध में भारत की चिंताएं और उद्देश्य मेज पर मौजूद हम में से कई लोगों के समान हैं।" डोभाल ने कहा कि मध्य एशियाई देशों के साथ कनेक्टिविटी भारत के लिए एक प्रमुख प्राथमिकता बनी हुई है और नई दिल्ली इस क्षेत्र में सहयोग, निवेश और कनेक्टिविटी बनाने के लिए तैयार है।

बता दें कि डोभाल ने जनवरी में पहले भारत-मध्य एशिया आभासी शिखर सम्मेलन का भी उल्लेख किया, जिसकी मेजबानी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की थी। डोभाल ने कहा, "आपकी उपस्थिति हमारे सामंजस्य का प्रमाण है और यह चर्चाओं को समृद्ध करेगी। मध्य एशिया हमारा विस्तारित पड़ोस है, जिसके साथ हमारे सभ्यतागत संबंध हैं और हम इस क्षेत्र को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हैं।" उन्होंने कहा, "जनवरी की बैठक में हमारे नेताओं ने क्षेत्र में सुरक्षा संबंधी विकास पर चर्चा करने के लिए सुरक्षा परिषदों के सचिवों की नियमित बैठक बुलाने पर सहमति व्यक्त की।"

अन्य देशों ने कही ये बातें
सुरक्षा परिषद के ताजिकिस्तान के सचिव ने कहा कि क्षेत्र में सुरक्षा के लिए खतरे बढ़ रहे हैं और नई चुनौतियां और खतरे सामने आ रहे हैं। उन्होंने कहा, "इनमें साइबर अपराध, साइबर आतंकवाद और पर्यावरण, जैविक खतरे शामिल हैं।"

बैठक में अफगानिस्तान में सुरक्षा की स्थिति और उस देश में उभरती गतिशीलता पर विचार-विमर्श किया गया। कई मध्य एशियाई देश अफगानिस्तान के साथ भूमि सीमा शेयर करते हैं और पिछले साल अगस्त में काबुल में तालिबान द्वारा सत्ता पर कब्जा करने के बाद से उनकी चिंताएं हैं। यह पता चला है कि भारत और मध्य एशियाई देशों में आतंकवाद का मुकाबला करने और कट्टरता के खतरे के दृष्टिकोण में समानताएं हैं। ईरान में चाबहार बंदरगाह को अंतर्राष्ट्रीय उत्तर-दक्षिण परिवहन गलियारे का हिस्सा बनाने सहित कनेक्टिविटी को बढ़ावा देना चर्चाओं का हिस्सा था। चाबहार ऊर्जा संपन्न ईरान के दक्षिणी तट पर सिस्तान-बलूचिस्तान प्रांत में स्थित है।

यह भी पढ़ें
बचपन में देखा था सुंदर लड़की को मारकर रेप करने और लाश खाने का ख्वाब, फिर उसकी पब्लिसिटी भी करता रहा
क्या भारत में आएगी Covid19 की एक और लहर, क्यों संक्रमण रोकने में फेल हुआ चीन, पढ़िए रिपोर्ट