Asianet News HindiAsianet News Hindi

पाकिस्तान की नापाक करतूत, दो भारतीयों को गिरफ्तार करने का किया दावा, बताया आतंकी

पाकिस्तान ने बहावलपुर में पुलिस द्वारा दो भारतीयों को गिरफ्तार करने का दावा किया है।पाकिस्तान में अवैध तरीके से घुसने के आरोप में वहां की पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।  पुलिस ने कहा है कि जांच में दोनों के पास जरूरी कागजात नहीं पाए गए, जिसके बाद इन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

Pakistan's nefarious act, claimed to have arrested two Indians, told terrorists
Author
New Delhi, First Published Nov 19, 2019, 10:09 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. पाकिस्तान भारत को घेरने के लिए अक्सर नापाक हरकतों को अंजाम देता है। इसी क्रम में पाकिस्तान ने बहावलपुर में पुलिस द्वारा दो भारतीयों को गिरफ्तार करने का दावा किया है। न्यूज एजेंसी पीटीआई ने जियो न्यूज के हवाले से एक रिपोर्ट में बताया है कि इन्हें पाकिस्तान में अवैध तरीके से घुसने के आरोप में वहां की पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।  पुलिस ने कहा है कि जांच में दोनों के पास जरूरी कागजात नहीं पाए गए, जिसके बाद इन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। दोनों की गिरफ्तारी पंजाब प्रांत के बहावलपुर में हुई है।

पाक का आरोप, करने आए थे आतंकी हमला

पाकिस्तान की पुलिस ने गिरफ्तार दोनों भारतीयों के खिलाफ केस दर्ज किया है। पाकिस्तान की ओर से दावा किया जा रहा है कि इनमें से एक मध्य प्रदेश के रहने वाले प्रशांत और दूसरा तेलंगाना निवासी दुरमीलाल है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इसमें से एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर है। वहीं, पाकिस्तानी पुलिस ने आरोप लगाया है कि 'आतंकी हमला' करने के लिए पाकिस्तान भेजा गया था। 

इससे पहले भी किया था दावा 

 इससे पहले अगस्त में पाकिस्तान के पंजाब प्रांत की पुलिस ने डेरा गाजी खान शहर में एक "भारतीय जासूस" को गिरफ्तार करने का दावा किया था और उसे एक प्रमुख खुफिया एजेंसी को सौंप दिया था। पाकिस्तान का दावा है कि उसने राजू लक्ष्मण नाम के भारतीय को बलूचिस्तान प्रांत के पास से गिरफ्तार किया गया था। पाकिस्तान का दावा है कि उसने भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को भी यहां से गिरफ्तार किया था। भारतीय नौसेना के रिटायर्ड अधिकारी जाधव को अप्रैल 2017 में एक पाकिस्तानी सैन्य अदालत ने "जासूसी और आतंकवाद" के आरोप में मौत की सजा सुनाई थी, जिसके बाद भारत ने अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) में उनकी सजा-ए मौत पर रोक लगाने की मांग की थी।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios