Asianet News Hindi

'सुल्ली डील' App पर मुस्लिम लड़कियों की कथित नीलामी से बवाल, PAK मीडिया DAWN ने संघ पर किया घटिया कॉमेन्ट

Sulli Deals ऐप के जरिए 80 से अधिक मुस्लिम महिलाओं की कथित तौर पर नीलामी के मामले को लेकर पाकिस्तानी मीडिया ने मोदी सरकार की आलोचना की है।  DAWN ने एक लेख प्रकाशित किया है, जिसमें भारत में मुस्लिमों के निए कठिन समय बताया है।

Pakistani media condemns Modi government in Sulli Deals case kpa
Author
New Delhi, First Published Jul 13, 2021, 11:30 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. पिछले दिनों Sulli Deals ऐप ने 80 से अधिक मुस्लिम महिलाओं की नीलामी करने के लिए फोटो अपलोड किए थे। इस मामले को लेकर 7 जुलाई को दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने आपत्ति जताकर प्रशासन को नोटिस जारी किया था। अब दिल्ली की साइबर पुलिस जांच कर रही है। ट्विटर पर सामने आए इस मामले ने बवाल मचाया हुआ है। मंगलवार को रितेझ झा नामक एक शख्स के आसपास ट्रेंड्स चलते रहे। जांच में सामने आया है कि इस शख्स का नाम ऑनलाइन यौन अपराधों में पहले भी सामने आ चुका है।

DAWN ने की मोदी सरकार की आलोचना
13 जुलाई को पाकिस्तान के प्रमुख मीडिया ग्रुप DAWN ने इसे लेकर संपादकीय प्रकाशित की है। इसमें मोदी सरकार की आलोचना की गई है। लेख में कहा गया कि नरेंद्र मोदी के समय में मुसलमानों के लिए कठिन समय रहा है। संघ परिवार के 'गुंडे'  मुसलमानों को मारते हैं और मोदी सरकार उन्हें रोकन में नाकाम है।

लेख में कहा गया कि बेशक दुनियाभर में महिलाओं को ऑनलाइन दुर्व्यवहार का सामना करना पड़ता है, लेकिन इस मामले में स्त्री द्वेष और इस्लामोफोबिया एक जहरीले मिश्रण के तौर पर सामने आया है। साइबर स्पेस महिलाओं के लिए एक खतरनाक जगह बन गई है। अगर भारत सरकार अभी भी धर्मनिरपेक्षता का पालन करती है, तो इस बीमार स्टंट के पीछे के लोगों पर कार्रवाई करना चाहिए। लेख में कहा गया कि भारत में कैबिनेट के सदस्यों के साथ मुख्यमंत्रियों ने भी मुस्लिम विरोधी निंदनीय बयान जारी किए हैं।

आखिर ये क्या बला है सुल्‍ली डील्‍स?
बता दें कि 'सुल्‍ली' एक भद्दा शब्द है, जिसे मुस्लिम महिलाओं के बेइज्जत करने इस्तेमाल किया जाता है। 'सुल्‍ली डील्‍स' गिटहब पर मौजूद एक ऐप है। इसे जब ओपन करते हैं, तो ‘Find your Sulli Deal of the Day’ दिखता है। इसमें रैंडमली मुस्लिम महिलाओं की फोटो दिखती हैं। हालांकि विवाद के बाद  GitHub ने इसे  हटा दिया है। इस ऐप के फोटो ट्वीटर पर शेयर किए जा रहे थे।

यह भी पढ़ें
'ग्रेवयार्ड ऑफ एम्पायर' बन चुके अफगानिस्तान में सबकुछ ठीक न करना 'महाशक्ति' की विफलता

 

 pic.twitter.com/mL874mSovU

 

pic.twitter.com/thK8vP4fXx

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios