नई दिल्ली. जम्मू कश्मीर के नगरोटा में सुरक्षाबलों ने बड़ी आतंकी साजिश को नाकाम करते हुए चार आतंकियों को ढेर कर दिया था। अब इस मुठभेड़ को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने समीक्षा बैठक की। इस बैठक में गृह मंत्री अमित शाह और एनएसए अजीत डोभाल भी थे। समाचार एजेंसी एएनआई ने सरकारी सूत्रों के हवाले से बताया कि आतंकी 26-11 की बरसी पर बड़े हमले की साजिश रच रहे थे।

इस दौरान पीएम मोदी ने कहा, पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद से जुड़े 4 आतंकवादियों की मौत और उनके पास बड़ी मात्रा में हथियारों और विस्फोटकों का मिलना इश बात का संकेत देती है कि एक बार फिर तबाही मचाने की आतंकवादियों की साजिश को नाकाम कर दिया गया है। 

सुरक्षाबलों ने अत्यंत बहादुरी का परिचय दिया
उन्होंने कहा, हमारे सुरक्षाबलों ने एक बार फिर अत्यंत बहादुरी और प्रोफेशनलिज्म का प्रदर्शन किया है। उनकी सतर्कता ने, जम्मू कश्मीर में जमीनी स्तर पर लोकतंत्र पर निशाना साधने वालीं नापाक साजिशों को विफल कर दिया। 


तलाशी के दौरान हुई थी मुठभेड़ 
दरअसल, जम्मू कश्मीर के नगरोटा में गुरुवार सुबह सुरक्षाबलों ने 5 बजे चेकिंग के दौरान एक ट्रक को रोका था। ट्रक रोकने के बाद ट्रक चालक वहां से भाग गया। ट्रक की तलाशी ली गई और उसी दौरान पुलिस पर फायरिंग हुई जिसके बाद जवाबी कार्रवाई शुरू हुई। मुठभेड़ 3 घंटे चली। मुठभेड़ के दौरान 4 आतंकी मारे गए और हमारे 2 पुलिसकर्मी घायल हुए।

सुरक्षाबलों ने ट्रक को उड़ा दिया
आतंकी जिस ट्रक से जा रहे थे, उसमें भारी मात्रा में गोला- बारूद ले जा रहे थे। आंतकी ट्रक में गोला-बारूद लेकर जम्मू से श्रीनगर जा रहे थे। सुरक्षाबलों ने नगरोटा स्थित टोल प्लाजा पर उन्हें रोका और सरेंडर करने के लिए कहा। सुरक्षाबलों ने जवाबी कार्रवाई में ट्रक को ही उड़ा दिया। जम्मू-श्रीनगर हाईवे ऐहतियातन बंद कर दिया गया है।

पाकिस्तान से आए थे आतंकी
जम्मू- कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा, जैश के चारों आतंकियों ने बुधवार रात सांबा में अंतरराष्ट्रीय सीमा से घुसपैठ की थी। वे जम्मू श्रीनगर नेशनल हाईवे पर एक ट्रक से जा रहे थे।