नई दिल्ली. सरकार की तरफ से पोर्टल Champions.gov.in को लॉन्च किया गया। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा, यह पोर्टल सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (MSME) क्षेत्र के लिए है। यह शिकायत निवारण, उद्यमी प्रतिभा का दोहन करना और नए व्यावसायिक अवसरों की खोज पर फोकस करेगा। 

रेहड़ी वालों के लिए पहली बार लोन की व्यवस्था
पीएम मोदी ने कहा, देश में पहली बार सरकार ने रेहड़ी-पटरी वालों और ठेले पर सामान बेचने वालों के रोजगार के लिए लोन की व्यवस्था की है। पीएम स्वनिधि योजना से 50 लाख से अधिक लोगों को लाभ मिलेगा। इससे ये लोग कोरोना संकट के समय अपने कारोबार को नए सिरे से खड़ा कर आत्मनिर्भर भारत अभियान को गति देंगे।

हर स्थिति में उत्सवों ने कठिन परिस्थितियों से निकाला है

मुझे करीब तीन साल पहले भी SPIC-MACAY के अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित करने का अवसर मिला था। तब मैंने आपसे वीडियो लिंक के माध्यम से बात की थी। आज भी ऐसा संयोग है कि आप सभी मुझसे वीडियो माध्यम से ही जुड़े हैं। हमारे गायकों, गीतकारों, कलाकारों ने देश का मनोबल बढ़ाने के लिए देश को जागरूक करने के लिए इस लड़ाई में जोश फूंकने के लिए एक रचनात्मक अभियान खड़ा कर दिया है। बीते दिनों ऐसे कितने ही संगीतमय प्रयोग हमने देखे और सुने हैं। कोई भी आपदा हो, विपदा-विपत्ति रही हो, हर स्थिति में उत्सवों ने मानव सभ्यता को कठिन परिस्थितियों से बाहर निकलने में मदद की है। हमारे देश में तो हर मौसम के लिए, हर ऋतु के लिए अलग-अलग उत्सव, अलग अलग गीत, संगीत और लोकगीत रहे हैं।

- पीएम मोदी ने कहा, शिवत्व का मतलब है आत्म कल्याण। शिवत्व का मतलब है मानवता का कल्याण। शिवत्व का मतलब है मानवता की सेवा। इसलिए, हमारे यहां संगीत केवल अपने सुख का ही नहीं, बल्कि साधना और सेवा का भी माध्यम रहा है, संगीत की साधना, तपस्या का रूप रही है। जिस तरह संगीत में एक सामंजस्य की जरूरत होती है, एक अनुशासन की जरूरत होती है, उसी तरह के सामंजस्य, संयम और अनुशासन से ही देश का प्रत्येक नागरिक आज इस महामारी से लड़ रहा है।

- पीएम मोदी ने कहा, हमारे शास्त्रों में तो कहा गया है- न नादेन बिना गीतं, न नादेन बिना स्वर। न नादेन बिना ज्ञानम् न नादेन बिना शिव। अर्थात, नाद के बिना गीत संगीत और स्वर सिद्ध नहीं होते, और नादयोग के बिना ज्ञान और शिवत्व की प्राप्ति नहीं होती।

एमएसएमई सेक्टर में नई जान फूंकी गई
पीएम मोदी ने कहा, आत्मनिर्भर भारत अभियान को गति देने के लिए हमने न केवल MSMEs सेक्टर की परिभाषा बदली है, बल्कि इसमें नई जान फूंकने के लिए कई प्रस्तावों को भी मंजूरी दी है। इससे संकटग्रस्त छोटे और मध्यम उद्योगों को लाभ मिलेगा, साथ ही रोजगार के अपार अवसर सृजित होंगे।

अन्नदाताओं के हक में बड़े फैसले
उन्होंने कहा, 'जय किसान' के मंत्र को आगे बढ़ाते हुए कैबिनेट ने अन्नदाताओं के हक में बड़े फैसले किए हैं। इनमें खरीफ की 14 फसलों के लिए लागत का कम से कम डेढ़ गुना एमएसपी देना सुनिश्चित किया गया है। साथ ही 3 लाख रुपए तक के शॉर्ट टर्म लोन चुकाने की अवधि भी बढ़ा दी गई है।

वन स्टॉप सलूशन
पोर्टल Champions.gov.in लॉन्चिंग के वक्त पीएम मोदी के साथ MSME मंत्री नितिन गडकरी भी मौजूद रहे। यह पोर्टल अपने नाम की तरह ही एमएसएमई की छोटी-छोटी इकाइयों की हर तरह से मदद कर उन्हें चैंपियन बनाएगा। चैंपियन्स पोर्टल को एमएसएमई का वन स्टॉप सलूशन माना जा रहा है।

- यह पोर्टल टेक्नॉलजी पर आधारित मैनेजमेंट इन्फॉर्मेशन सिस्टम है। साथ ही ये पोर्टल सेक्टर की प्रशासनिक बाधाओं को दूर कर हर चुनौती को अवसर में बदलने का जरिया बन सकता है।