नई दिल्ली. शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के कार्यकर्ताओं ने मंगलवार को नई दिल्ली स्थित तीन मूर्ति पर पाकिस्तान में सिख समुदाय के लोगों पर हो रहे अत्याचार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के दौरान दल के एक कार्यकर्ता ने कहा कि पाकिस्तान में हमारे समुदाय की कई लड़कियों का अपहरण कर उनका जबरन धर्म परिवर्तन किया जा रहा है। हमारी मांग हैं कि उन्हें रिहा किया जाए। इन प्रदर्शनों में महिला विंग की कई कार्यकर्ता भी शामिल हुईं। ये सभी पाकिस्तान स्थित पंजा साहिब के हेड ग्रंथी की 17 वर्षीय अगवा बेटी को तुरंत उसके घरवालों को सौंपने की मांग कर रहे थे। 

शिअद ने सोमवार को भी नई दिल्ली स्थित पाकिस्तान हाई कमीशन के सामने प्रदर्शन किया था। प्रदर्शनकारियों ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ नारेबाजी कर पाकिस्तान हाई कमीशन को इस संबंध में ज्ञापन भी सौंपा। ज्ञापन सौंपने के बाद शिरोमणि अकाली दल की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष हरमीत सिंह कालका ने मीडिया में कहा कि पाकिस्तान में सिखों की बेटियां अगवा की जा रही हैं। पहले ननकाणा साहिब और अब पंजा साहिब गुरुद्वारा साहिब के हेड ग्रंथी की बेटी अगवा की गई है। पाकिस्तान द्वारा यह संदेश देने का प्रयास किया गया कि सिख लड़कियां स्वयं धर्म परिवर्तन कर रही हैं।

95 फीसदी सिख पाकिस्तान छोड़ चुके हैं

प्रदर्शन के दौरान शिअद के कार्यकर्ताओं ने कहा कि पाकिस्तान के नापाक इरादों की वजह से 95 फीसदी सिख पाकिस्तान छोड़ चुके हैं। इस मौके पर दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने भी कहा कि हेड ग्रंथी की बेटी को तुरंत रिहा कर उनके परिवार के पास भेज दिया जाए। लड़की के पिता ने रो-रोकर दुनिया को अपनी आप-बीती सुनाई, लड़की की भी वीडियो डाली गई है कि उसका धर्म परिवर्तन करा दिया गया है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की सरकार राक्षसी रूप धारण कर चुकी है।