Asianet News HindiAsianet News Hindi

आतंकवादियों को पैसा मुहैया करा रहे ड्रग्स माफिया और गो-तस्करों पर कसेगी नकेल, J&K के डीजीपी ने कही ये बड़ी बात

जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) दिलबाग सिंह ने एक चौंकाने वाली बात कही है। उन्होंने कहा कि मादक पदार्थ(drug menace) एक बड़े खतरे के रूप में उभरा है, क्योंकि इस गैर कानूनी धंधे से बनाया जा रहे धन का इस्तेमाल आतंकवादी गतिविधियों में किया जा रहा है।

Shocking news, Money made from drug trade used in terror activities in JK kpa
Author
First Published Nov 18, 2022, 7:06 AM IST

जम्मू. जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) दिलबाग सिंह ने एक चौंकाने वाली बात कही है। उन्होंने कहा कि मादक पदार्थ(drug menace) एक बड़े खतरे के रूप में उभरा है, क्योंकि इस गैर कानूनी धंधे से बनाया जा रहे धन का इस्तेमाल आतंकवादी गतिविधियों में किया जा रहा है। उन्होंने पुलिस विभाग से नशीले पदार्थों के मामलों की जांच में तेजी लाने और ज्यादा से ज्यादा अपराधियों को सजा दिलवाने पर जोर दिया।

जानिए और क्या बोले जम्मू कश्मीर के DGP
जम्मू-कश्मीर के DGP दिलबाग सिंह इस वर्ष जम्मू जोन के लिए इस साल के टार्गेट और गोल्स( targets and goals) निर्धारित करने के लिए रिव्यू मीटिंग ले रहे थे। यहां पुलिस मुख्यालय में अधिकारियों की बैठक की अध्यक्षता करने के बाद डीजीपी ने यह बात कही। सीनियर आफिसर ने अपने विभाग को नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सबस्टेंस एक्ट, 1985 और गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम, 2008 के मामलों पर एक मिशन मोड पर काम करने के लिए कहा। अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई पर जोर देते हुए दिलबाग सिंह ने अधिकारियों को जम्मू में नशीली दवाओं की खेती को नष्ट करने और नशीले पदार्थों की बिक्री से अर्जित संपत्तियों को जब्त करने का निर्देश दिया।

डीजीपी ने अपने अधिकारियों को अधिक से अधिक जांच अधिकारियों की पहचान करने और मामलों की बढ़ती संख्या से निपटने के लिए उन्हें ट्रेनिंग करने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि जांचकर्ताओं को खुद को सर्वश्रेष्ठ जांच कौशल( best probe skills) से लैस करने और यूएपीए, नशीले पदार्थों और अन्य संवेदनशील मामलों के तहत सजा सुनिश्चित करने के लिए हर आवश्यक उपाय करने की जरूरत है। डीजीपी ने अधिकारियों को कम से कम समय में लंबित मामलों को उनकी संवेदनशीलता के आधार पर निपटाने की बात भी कही।

दिलबाग सिंह ने गायों और अन्य मवेशियों की तस्करी को संगठित अपराध बताया और अधिकारियों से दोषियों की पहचान करने और उन्हें पकड़ने के लिए और प्रयास करने को कहा। डीजीपी ने अधिकारियों को आश्वासन दिया कि पुलिस मुख्यालय जांच की गुणवत्ता में सुधार के लिए आवश्यक हर संभव सहायता के लिए तैयार है। 

यह भी पढ़ें
इस वजह से की गई थी पुल उड़ाने की साजिशः राजस्थान एटीएस की पकड़ में आए आरोपियो ने बताया सब कुछ, ये है सच...
तीसरी बेटी होने पर पिता ने एक को बेचा, विरोध पर पत्नी का किया ऐसा हाल, SSP को आपबीती बता छलके पीड़िता के आंसू

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios