Asianet News HindiAsianet News Hindi

महिलाओं को कुत्तों से कटवाते हैं, तालिबान की शिकार महिला ने कहा- उन्होंने मेरी आंखें निकाल ली

खटेरा दिल्ली में हैं। उन्होंने बताया कि एक हमले में उसकी आंखें निकाल ली गई थीं। खटेरा के खिलाफ उनके पिता और एक तालिबानी लड़ाने ने क्रूरता दिखाई थी। 

victim of Taliban violence says her eyes were gouged out
Author
New Delhi, First Published Aug 18, 2021, 9:31 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. तालिबान के कब्जे के बाद अफगानिस्तान में महिला अधिकारों को लेकर चर्चा जोरों पर हैं। उनके खिलाफ हो रही हिंसा की खबरें लगातार आ रही हैं। ऐसे में तालिबान की क्रूरता की शिकार एक महिला ने बताया कि उसे महिलाओं के भविष्य को लेकर डर है, क्योंकि आतंकी महिलाओं को कुत्तों से कटवाते हैं। 

जब तालिबान लड़ाकों ने 33 साल की खटेरा को निशाना बनाया तब वे गर्भवती थीं। उन्होंने कहा कि उन्होंने उसकी आंखें फोड़ दी थीं। वह कहती हैं कि वह भाग्यशाली हैं कि जिंदा है। तालिबान लड़ाके महिलाओं को कुत्तों से कटवाते हैं।

महिला की निकाल ली गई थीं आंखें 
खटेरा दिल्ली में हैं। उन्होंने बताया कि एक हमले में उसकी आंखें निकाल ली गई थीं। खटेरा के खिलाफ उनके पिता और एक तालिबानी लड़ाने ने क्रूरता दिखाई थी। उन्होंने बताया कि पिछले साल अफगानिस्तान के गजनी प्रांत में तालिबान ने उसके शरीर के ऊपरी हिस्से में आठ बार गोली मारी गई थी।

काबुल में कब्जे के बाद क्रूरता: ढक दी मॉडल की तस्वीर, महिलाओं को नौकरी पर जाने से मना किया, घर-घर तलाशी

'मैं भाग्यशाली थी कि मैं बच गई'
उन्होंने कहा कि मैं भाग्यशाली थी जो बच गई। उन्होंने बताया कि वह किसी काम से घर जा रही थी, तभी तीन तालिबान लड़ाकों ने उन्हें घेर लिया। उन्होंने उनकी आईडी चेक करने के बाद गोली मारना शुरू कर दिया।

उन्होंने बताया कि कभी-कभी हमारे शरीर को कुत्तों को खिलाया जाता है। मैं भाग्यशाली था कि मैं इससे बच गया। तालिबान की नजर में महिलाएं जिंदा नहीं है। बल्कि मांस हैं।

मौत की दहशत के बीच चौंकाने वाला वीडियो, कब्जा करने के एक दिन बाद मस्ती करते नजर आए तालिबानी लड़ाके

अब दिल्ली में रह रही हैं खटेरा
खटेरा अब अपने बच्चे और पति के साथ दिल्ली में रह रही है। वे इस बात से परेशान हैं कि अफगानिस्तान में महिलाओं का भविष्य क्या होगा? 

खटेरा ने कहा, तालिबान महिलाओं को पुरुष डॉक्टरों के पास जाने की परमीशन नहीं देता है। महिलाओं को पढ़ने और काम करने नहीं देता। तो फिर एक महिला के लिए क्या बचा है? मरने के लिए छोड़ दिया?

वे सिर्फ महिलाओं को मारने नहीं है बल्कि जानवरों से उनके शरीर को कटवाते हैं। तालिबान ने हाल ही में घोषणा की थी कि वे महिला अधिकारों की रक्षा करेंगे। लेकिन उन्होंने यह भी संकेत दिया है कि वे महिलाओं को नौकरी नहीं करने देंगे। 

FLASHBACK: जब जर्नलिस्ट के सवाल पर हंसने लगे तालिबान लड़ाके; महिलाओं के सवाल पर ऐसा होता है बर्ताव

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios