Asianet News Hindi

इन 4 कारणों से नेता प्रतिपक्ष के पद से अधीर रंजन चौधरी को हटा सकती है कांग्रेस

लोकसभा में कांग्रेस पार्टी के नेता के रूप में अपने दो साल के लंबे कार्यकाल में अधीर रंजन चौधरी पर तृणमूल कांग्रेस से जुड़े विपक्षी दलों के साथ कोई बैठक नहीं करने का आरोप है। 

why Congress may drop Adhir Ranjan Chowdhury as LoP pwa
Author
New Delhi, First Published Jul 4, 2021, 3:31 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. लोकसभा के मानसून सत्र से पहले कांग्रेस बड़ा फैसला कर सकती है। इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के अनुसार, कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष अधीर रंजन चौधरी को हटा सकती है।  कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी पश्चिम बंगाल के बहरामपुर से सांसद हैं। वह विधानसभा चुनाव में पश्चिम बंगाल में कांग्रेस का चेहरा थे और राज्य कांग्रेस के प्रमुख हैं।

इसे भी पढ़ें- फिर बाहर आया राफेल का जिन्न, राहुल गांधी ने फोटो शेयर कर लिखा- चोर की दाढ़ी

रिपोर्ट के अनुसार, चौधरी को हटाने के कदम को कांग्रेस द्वारा तृणमूल कांग्रेस के साथ बेहतर संबंध बनाना और संसद में भाजपा और मोदी सरकार को घरने के लिए एक साथ आने के रूप में देखा जा रहा है। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में जहां कांग्रेस ने विधानसभा चुनावों में वाम दलों के साथ गठबंधन कर तृणमूल के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी, वहीं, केंद्रीय नेतृत्व ने मुख्य रूप से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर हमला करने से परहेज किया था। ममता की जीत पर उन्हें बधाई भी दी थी। अधीर रंजन चौधरी, ममता बनर्जी के कट्टर विरोधी हैं। 

कौन से वो कारण हैं जिस कारण से अधीर रंजन चौधरी को हटाया जा सकता है
लोकसभा में कांग्रेस पार्टी के नेता के रूप में अपने दो साल के लंबे कार्यकाल में अधीर रंजन चौधरी पर तृणमूल कांग्रेस से जुड़े विपक्षी दलों के साथ कोई बैठक नहीं करने का आरोप है। टीएमसी के एक वरिष्ठ नेता के अनुसार “चौधरी सदन में अन्य नेताओं को भेजकर कांग्रेस के स्डैंड के बारे में जानकारी देते हैं। हमने कभी एक साथ बैठक नहीं की। एक अन्य विपक्षी नेता ने कहा 16वीं लोकसभा में जब मल्लिकार्जुन खड़गे सदन में नेता प्रतिपक्ष और ज्योतिरादित्य सिंधिया मुख्य सचेतक थे तब विपक्ष का समन्वय बहुत बेहतर था।

इसे भी पढ़ें-  राफेल सौदे की फ्रांस में जांच: कांग्रेस ने कहा- राहुल गांधी सही सबित हुए, जेपीसी जांच की मांग

2021 के पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों में, अभिषेक सिंघवी (बंगाल से सांसद) और प्रदीप भट्टाचार्य (पूर्व प्रदेश कांग्रेस कमेटी या पीसीसी प्रमुख) जैसे राज्य के नेताओं सहित कांग्रेस के कई नेताओं ने कांग्रेस और तृणमूल के बीच गठबंधन का समर्थन किया था, लेकिन अधीर रंजन चौधरी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के कट्टर विरोधी माने जाते हैं और उन्होंने ऐसी किसी भी योजना का विरोध किया था।

कई मौकों पर, तृणमूल कांग्रेस ने वर्तमान लोकसभा में कांग्रेस और इसके विपरीत बुलाई गई बैठकों को छोड़ दिया। दूसरी सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी को कांग्रेस संसदीय दल कार्यालय में राहुल गांधी की अध्यक्षता में हुई विपक्षी बैठक में आमंत्रित नहीं किया गया था। कांग्रेस के विरोध कार्यक्रम में कभी तृणमूल नजर नहीं आती तो इसी तरह, तृणमूल के नेतृत्व में विरोध प्रदर्शनों में कांग्रेस की बहुत कम भागीदारी देखी गई है। 

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, पांच बार की पूर्व सांसद, जब भी संसद आती थीं तो राजनीतिक लाइनों से हटकर नेता उनसे शिष्टाचार भेंट करते थे। हालांकि, चौधरी कभी नहीं आए और न ही ममता बनर्जी से मिले।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios