Asianet News HindiAsianet News Hindi

पाकिस्तानी आतंकी संगठन से जुड़ा है चाकूबाजी करने वाला जबीउल्लाह, मोबाइल की जांच में मिली अहम जानकारी

कर्नाटक के गृह मंत्री अरागा ज्ञानेंद्र (Araga Jnanendra) ने कहा है कि शिवमोग्गा में राजस्थानी युवक को चाकू मारने का आरोपी मोहम्मद जबीउल्लाह पाकिस्तानी आतंकी संगठन से जुड़ा हुआ है।
 

Youth who stabbed man in Shivamogga has links with terror outfits Karnataka Home Minister vva
Author
First Published Sep 3, 2022, 6:40 PM IST

शिवमोग्गा (कर्नाटक)। कर्नाटक के गृह मंत्री अरागा ज्ञानेंद्र (Araga Jnanendra) ने शनिवार को कहा कि शिवमोग्गा में 15 अगस्त को एक राजस्थानी युवक को चाकू मारने के आरोप में गिरफ्तार किए गए चार लोगों में से एक का संबंध पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठनों से है।

दरअसल, शिवमोग्गा में एक सार्वजनिक स्थान पर वी डी सावरकर का पोस्टर लगाने को लेकर हिंसक घटना हुई थी। एक कपड़ा स्टोर के कर्मचारी प्रेम सिंह को चाकू मार दिया गया था। इस मामले में पुलिस ने चार लोगों (नदीम, रहमान, अहमद और मोहम्मद जबीउल्लाह) को गिरफ्तार किया था। 

NIA को सौंपा जाएगा केस
अरागा ज्ञानेंद्र ने मीडिया से कहा कि जबीउल्लाह का बैकग्राउंड डरावना है। हमें जानकारी मिल रही है कि उसके पाकिस्तान स्थित विभिन्न आतंकवादी समूहों के साथ संबंध हैं। हमें सबूत भी मिल रहे हैं। जल्द ही यह मामला राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) को सौंप दिया जाएगा। ज्ञानेंद्र ने कहा, "क्या हम ऐसे लोगों से हमारे देश को बचाने की उम्मीद कर सकते हैं, जिनके आतंकवादी समूहों से संबंध हैं? ऐसे लोगों के साथ शांति बनाए रखने की उम्मीद कैसे करें? उनके खिलाफ विशेष जांच हो रही है।"

जैश-ए-मोहम्मद से जुड़ा है जबीउल्लाह 
वहीं, पुलिस सूत्रों ने कहा कि जब जबीउल्लाह के मोबाइल फोन की जांच की गई तो पता चला कि उसके संबंध आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद से हैं। उसके खिलाफ UAPA (Unlawful Activities Prevention Act) के तहत केस दर्ज किया गया है। पुलिस यह पता लगा रही है कि जबीउल्लाह कितने समय से आतंकी संगठन से जुड़ा हुआ है। आगे की जांच में इस संबंध में और जानकारी सामने आ सकती है। 

यह भी पढ़ें- लोन के नाम पर लोगों को लूटने वाली चीनी कंपनियों पर ED ने कसा शिकंजा; रेजरपे, पेटीएम और कैशफ्री पर पड़ा छापा

क्या है मामला?
गौरतलब है कि 15 अगस्त को दक्षिणपंथी संगठनों ने शिवमोग्गा के आमिर अहमद सर्कल में सावरकर और दीनदयाल उपाध्याय के पोस्टर लगाए थे। इसका विरोध करते हुए कुछ मुस्लिम युवकों ने मांग की कि उन्हें उसी स्थान पर 18वीं सदी के मैसूर शासक टीपू सुल्तान का पोस्टर लगाने की अनुमति दी जानी चाहिए। इसी बात को लेकर दो गुटों में मारपीट हो गई थी। इसी दौरान प्रेम सिंह को चाकू मार दिया गया था।

यह भी पढ़ें- अशोक गहलोत ने महिलाओं के स्वाभिमान को ठेस पहुंचाया, कांग्रेस को माफी मांगनी चाहिए: संबित पात्रा

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios