Asianet News HindiAsianet News Hindi

खिलाड़ियों का हौंसला बढ़ा रहे पीएम मोदी, अमेरिकी एथलीट ने इस सपोर्ट को बताया गोल्ड मेडल से भी बड़ा

शरद कुमार ने कहा कि यूएसए के एथलीट ने भारत सरकार द्वारा किए जा रहे काम की सराहना करते हुए कहा कि इस तरह की मान्यता और प्रयास स्वर्ण पदक जीतने से भी बड़ा है।

Paralympics 2020: Sharad Kumar said US athlete described PM Modi support even bigger than gold medal
Author
New Delhi, First Published Sep 4, 2021, 4:01 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

स्पोर्ट्स डेस्क. भारत ने टोक्यो पैरालिंपिक-2020 में अभी तक बड़ी सफलता हासिल की है। अभी तक इंडिया के खाते में मेडल आ चुके हैं। वहीं, 2016 के रियो ओलंपिक में बारत को केवल 4 पदक मिले थे। पिछले 5 वर्षों में पैरा-स्पोर्ट्स के संबंध में बहुत कुछ बदल गया है क्योंकि सरकार एथलीटों के प्रशिक्षण पर बहुत अधिक ध्यान दे रही है। जहां पैरा-स्पोर्ट्स की बात आती है, तो प्राइवेट इक्विटीज लगातार हिचकिचाते रहे हैं, लेकिन भारत सरकार ने यह सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास किया कि खिलाड़ियों को उनकी जरूरत का पूरा समर्थन मिले। पीएम मोदी भी खिलाड़ियों से लगातार बात करते हैं। मेडल जीतने वाले खिलाड़ी का जहां प्रोत्साहन करते हैं वहीं हारने वाले खिलाड़ी को भविष्य में बेहतर करने की प्रेरणा देते हैं।

इसे भी पढे़ं- Paralympics 2020: शूटिंग में मनीष ने गोल्ड और सिंहराज ने जीता सिल्वर, PM बोले-भारत खुश हुआ


Times Now को दिए इंटरव्यू में पदक विजेता शरद कुमार ने कहा कि यूएसए के एथलीट ने भारत सरकार द्वारा किए जा रहे काम की सराहना करते हुए कहा कि इस तरह की मान्यता और प्रयास स्वर्ण पदक जीतने से भी बड़ा है। उन्होंने बताया कि टोक्यो 2020 को देखिए जापान सरकार पैरालंपिक को ओलंपिक से बड़ा आयोजन बनाना चाहती थी। भारत में कोई भी निजी शेयर बाजार हमारी मदद के लिए आगे नहीं आया। तभी, सरकार ने कदम बढ़ाया, हमें महंगे उपकरण और हमारी जो भी ज़रूरतें थीं, उनकी मदद की।

सरकार द्वारा शारीरिक रूप से अक्षम लोगों की अधिक सराहना की जा रही है। देवेंद्र एथेंस खेलों में अपने खर्चे पर गए थे। अब, प्रधान मंत्री हमें विदा कर रहे हैं और हमें हमारी उपलब्धियों के बारे में बता रहे हैं। यहां तक कि मेरे इवेंट में गोल्ड मेडल जीतने वाले यूएसए एथलीट ने भी कहा 'इससे बड़ा कुछ नहीं हो सकता, यहां तक कि गोल्ड मेडल भी नहीं'। विश्व की 15% जनसंख्या शारीरिक/मानसिक रूप से दिव्यांग है। अब, भारत सरकार इसे देख रही है और हमें समान रूप से लाने की कोशिश कर रही है। सरकार आपकी आवश्यकताओं का पालन करती है, चाहे वह उपकरणों की हो या अन्य सुविधाओं की, उनका विश्लेषण करें और उन्हें मंजूरी दें। वे एथलीटों को प्रेरित करते हैं और चीजों को पेशेवर रूप से देखते हैं और इससे पैरा-स्पोर्ट्स में बदलाव आ रहा है। शरद ने टी-63 जंप में ब्रॉन्ज मेडल जीता था।

इसे भी पढे़ं- ऐसी है गोल्डन बॉय मनीष नरवाल की कहानी: बनना चाहते थे फुटबॉलर, एक हादसे ने बदली जिंदगी

सुमित अंतिल ने क्या कहा
जैवलिन थ्रो में गोल्ड जीतने वाले सुमित ने कहा- मैं जो महसूस कर रहा हूं, उसे शब्दों में बयां करना मुश्किल है। हर एथलीट का सपना होता है कि वह अपने देश के लिए मेडल लाए और मेरा वह सपना पूरा हो गया। मुझे खुद पर गर्व है और मैं देश को धन्यवाद देता हूं। मैदान पर जाते ही मुझे एक अलग ऊर्जा का अनुभव हुआ। पूरे देश की दुआएं मेरे साथ थीं। जिस तरह से लोगों ने एयरपोर्ट पर मेरा स्वागत किया, मुझे लगा कि मैंने कुछ बड़ा किया है। इस तरह की भीड़ ने मुझे भविष्य में अपना ही रिकॉर्ड तोड़ने के लिए प्रेरित किया है।


योगेश कथुनिया ने कहा- मेरा अनुभव बहुत अच्छा रहा
योगेश कथुनिया ने डिस्कस थ्रोअर में सिल्वर मेडल जीता है। उन्होंने कहा - मेरा अनुभव बहुत अच्छा रहा मुझे खुद से गोल्ड मिलने की उम्मीद थी लेकिन दुर्भाग्य से ऐसा नहीं हो सका। बहुत कुछ सीखा है। सुमित मेरा रूम पार्टनर था। वह कमरे में अपनी हरकतों से मुझे डराता था। मैंने उसे गोल्ड लाने को कहा था क्योंकि मैं नहीं कर सकता था।

इसे भी पढे़ं- Tokyo Paralympics: पीएम मोदी ने मेडल जीतने वाले मरियप्पन व शरद कुमार से बात कर दी बधाई

देवेंद्र झाझरिया ने कहा- सपना पूरा किया
देवेंद्र झाझरिया ने जैवलिन थ्रो में सिल्वर मेडल जीता है। उन्होंने कहा- हर एथलीट का सपना होता है ओलंपिक/पैरालंपिक मेडल। मैंने पदकों की हैट्रिक का सपना देखा था जिसे मैंने पूरा किया। मैंने अपने थ्रो में जो ताकत लगाई थी, उसके कारण मेरी पीठ में दर्द होता है। देश के लिए तीन पदक जीतकर सम्मानित महसूस किया। मेरी बेटी 5 साल की थी जब मैंने 2016 के रियो खेलों में गोल्ड मेडल जीता था। वह अब चीजों को समझती है। जब से मैंने टोक्यो में मेडल जीता है, वह मुझसे पूछती है मैं कब वापस आ रहा हूं।
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios