Asianet News HindiAsianet News Hindi

पीएम मोदी की बड़ी घोषणा- अब मेजर ध्यानचंद के नाम से होगा खेल रत्न पुरस्कार

मेजर ध्यानचंद का जन्म इलाहाबाद में 29 अगस्त 1905 में हुआ था। वो भारतीय फील्ड हॉकी के भूतपूर्व खिलाड़ी एवं कप्तान थे। अभी देश में  खेल रत्न पुरस्कार को पूर्व पीएम राजीव गांधी के नाम से जाना जाता है। 

PM Modi announces Khel Ratna award to be renamed to Major Dhyanchand Khel Ratna Award
Author
New Delhi, First Published Aug 6, 2021, 12:41 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. टोक्यो ओलंपिक 2020 में भारतीय महिला और पुरूष हॉकी टीम के शानदार प्रदर्शन के बाद पीएम मोदी ने शुक्रवार को बड़ी घोषणा की। पीएम मोदी ने राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार को नाम बदलकर मेजर ध्यानचंद (Major Dhyan Chand) के नाम से करने की घोषणा की।  

 

 

पीएम ने कहा-मेजर ध्यानचंद भारत के उन अग्रणी खिलाड़ियों में से थे जिन्होंने भारत के लिए सम्मान और गौरव लाया। यह सही है कि हमारे देश का सर्वोच्च खेल सम्मान उन्हीं के नाम पर रखा जाएगा। पीएम ने कहा- ओलंपिक खेलों में भारतीय खिलाड़ियों के शानदार प्रयासों से हम सभी अभिभूत हैं। विशेषकर हॉकी में हमारे बेटे-बेटियों ने जो इच्छाशक्ति दिखाई है, जीत के प्रति जो ललक दिखाई है, वो वर्तमान और आने वाली पीढ़ियों के लिए बहुत बड़ी प्रेरणा है।

इसे भी पढ़ें- हारकर भी महिला हॉकी टीम ने जीता दिल, हरियाणा के CM ने कहा-प्रदर्शन ब्रॉन्ज से कम नहीं, 50-50 लाख देंगे

देश को गर्वित कर देने वाले पलों के बीच अनेक देशवासियों का ये आग्रह भी सामने आया है कि खेल रत्न पुरस्कार का नाम मेजर ध्यानचंद जी को समर्पित किया जाए। लोगों की भावनाओं को देखते हुए, इसका नाम अब मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार किया जा रहा है। 

किसे दिया जाता है सम्मान
खेल रत्न भारत में दिया जाने वाला सबसे बड़ा खेल पुरस्कार है। इस पुरस्कार को भारत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के नाम पर रखा गया था। यह पुरस्कार हर साल खेल एवं युवा मंत्रालय द्वारा दिया जाता है। इस पुरस्कार  की स्थापना 1991 में हुई थी।


कौन हैं मेजर ध्यानचंद
मेजर ध्यानचंद का जन्म इलाहाबाद में 29 अगस्त 1905 में हुआ था। वो भारतीय फील्ड हॉकी के भूतपूर्व खिलाड़ी एवं कप्तान थे। उन्हें हॉकी के जादूगर के नाम से भी जाना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि जब वो मैदान में खेलने को उतरते थे तो गेंद उनकी हॉकी स्टिक से चिपक सी जाती थी। उन्हें 1956 में भारत के प्रतिष्ठित नागरिक सम्मान पद्मभूषण से सम्मानित किया गया था।
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios