Asianet News HindiAsianet News Hindi

राजस्थान में पुजारी ने मंदिर में लगाई फांसी, लिखा गया-मरते समय झूठ नहीं बोलूंगा मैं बेगुनाह हूं...

राजस्थान के बाड़मेर से एक दुखद मामला सामने आया है, जहां एक पुजारी ने मंदिर में फंदे पर लटकर जान दे दी। वह जिस गांव के मंदिर में दस साल से पूजा करते थे वहीं के लोगों ने उन पर चोरी का आरोप लगा दिया। पुजारी बेगुनाही का सबूत देते रहे, लेकिन किसी ने यकीन नहीं किया। आखिर में दुखी होकर सुसाइड कर लिया।

barmer news pujari committed suicide in  temple before death written suicide note kpr
Author
First Published Sep 7, 2022, 6:18 PM IST

बाड़मेर (राजस्थान). बाड़मेर  जिले के समदड़ी कस्बे में स्थित एक मंदिर में पूजा पाठ करने वाले पुजारी भीम दास ने बुधवार सुबह सुसाइड कर लिया। करीब 10 साल से पुजारी जिस मंदिर में पूजा पाठ का काम कर रहे थे उसी मंदिर में उनका शव बरामद हुआ। दरअसल, मंदिर से 7 किलो चांदी और करीब ₹10000 कैश चोरी हो गया था। इसका आरोप समाज के लोग पुजारी  पर लगा रहे थे ,लेकिन पुजारी लगातार अपनी बेगुनाही साबित करने की कोशिश करते रहे । जब वह बेगुनाही साबित नहीं कर सके तो  अपनी जान दे दी। 

मरने से पहले पुजारी ने लिखा सुसाइड नोट
शव के पास से पुलिस को तीन से चार अलग-अलग सुसाइड नोट भी मिला है।  पुजारी ने अपनी बेटी  बेटा, भाई और समाज के लिए यह सुसाइड नोट छोड़ा था।  पुलिस अब इस पूरे घटनाक्रम की जांच कर रही है और उन लोगों से पूछताछ कर रही है जो लगातार भीमदास के ऊपर दबाव बना रहे थे । 

लिखा- मैं मरना नहीं चाहता था, लेकिन समाज के लोग जीने नहीं देंगे...
पुलिस ने बताया कि हिंगलाज माता और रघुनाथ महाराज का मंदिर बावड़ी चौक में स्थित है। यहीं पर पुजारी भीम दास करीब 10 साल से पूजा पाठ कर रहे थे । पूजा-पाठ के अलावा वे गाड़ी चलाने का काम भी करते थे । उनका बेटा और बेटी दोनों की शादी हो गई थी । वह परिवार में बड़े भाई के साथ रह रहे थे । खत्री समाज से ताल्लुक रखने वाले पुजारी  ने अपने बेटे विवेक और बेटी रवीना के लिए सुसाइड नोट में लिखा कि वे अपने परिवार का पोते का और पत्नी का ध्यान रखें।भाई के लिए लिखा कि वह मरना नहीं चाहता था लेकिन समाज के लोग उसे जीने नहीं देंगे ,सारी मेहनत खराब कर दी सारा विश्वास खत्म कर दिया ।

बेटा बोला-पिताजी 10 साल से मंदिर की सेवा कर रहे थे...जिसका फल उन्हें ये मिला
55 साल के पुजारी भीमदास का शव मिलने के बाद अब पुलिस ने नए सिरे से इस पूरे घटनाक्रम की जांच कर दी है।  समदड़ी थाना पुलिस का कहना है कि मंदिर से 7 किलो चांदी और ₹10000 कैश चोरी हुआ था।  लेकिन न तो मंदिर का ताला तोड़ा गया और नहीं मंदिर की कोई खिड़की को ही नष्ट कर चोरी की गई । चोर मंदिर का ताला खोलकर चांदी और कैश चुरा ले गए । पूरे घटनाक्रम की गंभीरता से जांच की जा रही है लेकिन मंदिर में हुए इस सुसाइड के बाद परिवार में कोहराम मचा हुआ है । मृतक के बेटे विवेक का कहना है कि पिताजी 10 साल से मंदिर की सेवा कर रहे थे लेकिन समाज के कुछ  लोगों के कारण उन्हें अपनी जान देनी पड़ गई।

यह भी पढ़ें-गुजरात में पुलिसवाले ने परिवार के साथ किया सुसाइड, पति-पत्नी 3 साल की बेटी को गोद में लिए 12वीं मंजिल कूद गए

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios