Asianet News HindiAsianet News Hindi

6 लाख रुपए में हुआ सौदा: राजस्थान में नकल का शॉकिंग मामला, नहीं देखी होगी ऐसी हाईटेक चीटिंग

राजस्थान के बीकानेर जिले में बिजली विभाग की टेक्निकल असिस्टेंट परीक्षा में नकल का प्रकरण सामने आया है। एसओजी सूत्रों के अनुसार परीक्षा में बहुत हाईटेक तरीके से नकल कराई गई है।  स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने कई जिलों में दबिश दी है।

Bikaner news Hi tech copying case in technical assistant exam of electricity department pwt
Author
First Published Aug 28, 2022, 9:37 AM IST

बीकानेर. रीट परीक्षा घोटाले के बाद राजस्थान में अब बिजली विभाग की टेक्निकल असिस्टेंट परीक्षा में हाईटेक तरीके से नकल का मामला सामने आया है। ऑनलाइन हुई इस परीक्षा में कंप्यूटर हैक कर पूरा प्रश्न पत्र ही हल करने की बात सामने आ रही है। जिसकी भनक पर स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने कई जिलों में दबिश दी है। ये दबिश अब तक राजधानी जयपुर के अलावा अजमेर, अलवर, बीकानेर व कोटा जिलों में दिया जाना सामने आया है। मामले में एसओजी अभी कोई भी बयान देने से बच रही है। सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार टेक्निकल असिस्टेंट परीक्षा में हाईटेक  नकल करवाने में एक बड़े गिरोह की सूचना  एसओजी को मिली थी। जिसके बाद एसओजी कई जगहों पर गुपचुप कार्रवाई कर रही है। 

कंप्यूटर हैक कर पूरा पेपर हल करवा रहा था गिरोह
एसओजी सूत्रों के अनुसार परीक्षा में बहुत हाईटेक तरीके से नकल कराई गई है। जिसमें परीक्षार्थी को पास करवाने के लिए वह जिस कंप्यूटर पर ऑनलाइन परीक्षा दे रहा था उसे ही हैक कर लिया गया। उसके बाद उनके गिरोह के लोगों ने ही वह प्रश्न पत्र हल कर दिया। 

प्राइवेट कॉलेज संचालक सहित कईयों को पकड़ा
एसओजी ने मामले में बीकानेर के एक निजी कॉलेज संचालक को हिरासत में लिया है। इसके अलावा जयपुर, जोधपुर, कोटा सहित अन्य जिलों से भी अलग- अलग लोगों को पकड़े जाने की सूचना है। जिन्हें अब तक गिरफ्तार नहीं किया गया है, लेकिन सूत्रों के अनुसार जल्द ही उनकी गिरफ्तारी दिखाई जा सकती है। बीकानेर के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अमित कुमार बुड़ानिया ने केवल इतना बताया कि जिले में बिजली विभाग की परीक्षा में नकल की सूचना पर एसओजी ने निजी कॉलेज के खिलाफ कार्रवाई की है। इससे ज्यादा जानकारी उनके पास नहीं है। 

छह-छह लाख में सौदा
जानकारी के अनुसार परीक्षा में पास करवाने के नाम पर नकल गिरोह ने  हर अभ्यर्थी से छह- छह लाख रुपये में सौदा किया था। जिन अभ्यर्थियों ने भी यह रकम गिरोह तक पहुंचाई उसी के कंप्यूटर ऑनलाइन परीक्षा के दौरान हैक कर लिए गए। जिसके बाद परीक्षार्थी को परीक्षा ही नहीं देनी पड़ी।

इसे भी पढ़ें- राजस्थान में सरकार दरकिनार, सबसे बड़े छात्र संगठन NSUI की मिट्टी पलीत, नहीं बना एक भी प्रत्याशी अध्यक्ष

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios