प्रदेश के दिव्यांग खिलाड़ियों को सीएम गहलोत का बड़ा तोहफा, 7 करोड़ का पुरस्कार दिए जाने का ऐलान

| Nov 26 2022, 12:55 PM IST

प्रदेश के दिव्यांग खिलाड़ियों को सीएम गहलोत का बड़ा तोहफा, 7 करोड़ का पुरस्कार दिए जाने का ऐलान

सार

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश के तीन दिव्यांग खिलाड़ियों को बड़ी सौगात दी है।

जयपुर( Rajasthan). राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश के तीन दिव्यांग खिलाड़ियों को बड़ी सौगात दी है। गहलोत सरकार ने डेफ ओलंपिक पदक विजेताओं को लगभग 7 करोड़ रूपए की सहायता राशि पुरस्कृत करने का ऐलान किया है।

ग़ौरतलब है कि गहलोत सरकार के प्रस्ताव के अनुसार डेफ ओलंपिक 2022 में डेफ बैडमिंटन में स्वर्ण पदक विजेता अभिनव शर्मा और गौरांशी शर्मा को 3-3 करोड़ रुपए दिए जाएंगे। तो वहीं डेफ राइफल शूटिंग में कांस्य पदक विजेता वेदिका शर्मा को 1 करोड़ रुपए की पुरस्कार राशि देने का ऐलान किया गया है।

Subscribe to get breaking news alerts

स्वर्ण, रजत और कांस्य पदक विजेताओं के लिए ऐलान
बता दें कि सरकार की ओर से खिलाडि़यों के प्रोत्साहन के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर स्वर्ण, रजत और कांस्य पदक विजेताओं को क्रमशः तीन करोड़, दो करोड़ के साथ ही एक करोड़ रुपए की पुरस्कार राशि दी जाती है। इसी के तहत मुख्यमंत्री गहलोत की ओर से राजस्थान क्रीडा सहायता अनुदान नियम-2022 में शिथिलन प्रदान करते हुए तीनों खिलाडि़यों को यह पुरस्कार राशि का ऐलान किया गया है। इस ऐलान से खिलाड़ियों को आर्थिक संबल के साथ ही प्रदेश के सभी खिलाडि़यों को उत्कृष्ट प्रदर्शन करने के लिए प्रेरणा मिलेगी।

अनुकम्पा नियुक्ति के लिए आवेदन के भी 38 मामले निस्तारित
सीएम गहलोत ने राजकीय कार्मिक की मृत्यु के उपरांत आश्रित की ओर से अनुकम्पा नियुक्ति के लिए आवेदन के भी 38 मामले निस्तारण किये गए है। सीएम के इस संवेदनशील निर्णय से मृतक आश्रित परिवारों को संबल मिल सकेगा। सीएम ने कार्मिक की मृत्यु उपरान्त निर्धारित अवधि निकलने के बाद बालिग होने के उपरांत तीन वर्ष तक की विलम्ब अवधि में 31 प्रकरण, आवेदक के 18 वर्ष की आयु पूर्ण नहीं करने के 4 प्रकरण, विलम्ब अवधि/प्रथम नियुक्ति आदेश की कार्यग्रहण अवधि को बढ़ाने के 1 प्रकरण और अधिआयु सीमा में शिथिलन के 2 प्रकरणों में सहानुभूतिपूर्वक विचार करते हुए उन्हें राहत दी है।

लगभग 3749 मृतक आश्रितों को अनुकम्पा नियुक्तियां
बता दें कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की ओर से बीते करीब 4 साल में अनुकम्पा नियुक्ति के 1320 प्रकरणों में शिथिलता प्रदान कर आवेदकों को राहत प्रदान की जा चुकी है। इस अवधि में लगभग 3749 मृतक आश्रितों को अनुकम्पा नियुक्तियां भी दी जा चुकी है।