Asianet News HindiAsianet News Hindi

भांग पीने का कंपटीशन: जीतने वाला इतनी पी गया कि सब रह गए हक्के बक्के, 2 हजार लोग आए देखने

राजस्थान के जैसलमेर में हो रहे बाबा रामदेव मेले में  मंगलवार 6 सितंबर के दिन भांग पीने का कंपटीशन हुआ। इसमें  शामिल होने के लिए चेन्नई ,पश्चिम बंगाल तक से आए थे लोग। पहले सबसे ज्यादा भांग पीने पर मिलता था ईनाम, अब बात हार जीत तक सीमित।

jaisalmer news baba ramdev fair at rajasthan people came there to drink bhang to win competition asc
Author
First Published Sep 6, 2022, 7:24 PM IST

जैसलमेर. राजस्थान के जैसलमेर में इन दिनों लोक देवता बाबा रामदेव का मेला जारी है।  देश, दुनिया से लोग इस मेले में शामिल होने और बाबा की समाधि के दर्शन करने पहुंच रहे हैं। पिछले सप्ताह खुद मुख्यमंत्री भी वहां समाधि के दर्शन करने के लिए आए थे। बाबा की समाधि के दर्शन के अलावा रामदेवरा मेला एक और बड़े आयोजन के लिए प्रसिद्ध है ,वह आयोजन है भांग पीने का आयोजन।

42 सालों से हो रही प्रतियोगिता
रामदेवरा मेले में एक ट्रस्ट की ओर से पिछले 42 साल से भांग पीने की प्रतियोगिता आयोजित की जा रही है। पहले जीतने वाले को इनाम दिया जाता था लेकिन अब यह प्रतियोगिता सिर्फ हार जीत पर ही रह गई है। 2 साल तक कोरोनावायरस के  कारण न मेला भर सका ने इस प्रतियोगिता का आयोजन हुआ। इस बार सोमवार शाम को जब इस प्रतियोगिता का आयोजन किया गया तो भांग पीने वालों को देखने के लिए हजारों लोग जमा हो गए।  भांग पीने वालों की संख्या ही करीब 2000 के पार पहुंच गई थी।

जीतने वाला बड़ी मुश्किल से खड़ा हो पाया
मेले में जारी भांग प्रतियोगिता में 200 किलो से भी ज्यादा भांग घोटी गई थी और जो व्यक्ति भांग पीने में विजेता रहा वह आदमी आधी बाल्टी के करीब भांग पी गया। हालांकि इतनी भांग पी लेने के बाद में उसे बड़ी मुश्किल से घर जाने के लिए रवाना किया गया।

भोलेनाथ और रामदेव बाबा के जयकारों के बीच गटकते रहे भांग 
भांग स्नेह मिलन के आयोजन में भल्ला फाउंडेशन के बैनर तले अखिल भारतीय भांग स्नेह मिलन का 42 वा आयोजन किया गया था। इसमें चेन्नई ,पश्चिम बंगाल समेत राजस्थान से भांग पीने वाले शामिल हुए थे। करीब 2 हजार लोग भांग पीने के लिए आए थे। भांग घोटने के लिए कई घंटे का समय लगा। 150 लीटर से ज्यादा दूध में 15 किलो मिश्री ,15 किलो बदाम, 11 किलो भांग और 11 किलो पिस्ता डाला गया था । इसके अलावा करीब 15 ग्राम केसर भी भांग में डालकर घोटी गई थी।  4 से 5 घंटे लगातार भांग घोटने के बाद भांग पीने का कॉन्पिटिशन शुरू हुआ जो देर शाम तक चलता रहा । 

अकेले पी गया 7 लीटर भांग
भांग पीने के लिए वहां करीब 15 लीटर की एक बाल्टी रखी गई थी। पूरी बाल्टी पीने वाले को विजेता घोषित किया जाना था, लेकिन लोग पूरी बाल्टी नहीं पी सके।  जोधपुर से इस मेले में पहुंचे विष्णु कुमार ने आधी बाल्टी भांग पी।  उन्होंने करीब 7 लीटर भांग का सेवन किया। भांग पीने वालों को वहां मौजूद हजारों की संख्या में लोग भोलेनाथ और बाबा रामदेव के जयकारे सुना कर उनका उत्साह बढ़ा रहे थे। अपने तरह के इस आयोजन को देखने के लिए भारी भीड़ मौके पर थी। 7 लीटर से ज्यादा भांग पीने वाले विष्णु कुमार  कुछ देर तक बैठे रहे, लेकिन जैसे ही उठे वैसे ही लुढ़क गए।  बाद में उनको उनके साथ आए लोगों के हवाले किया गया। वे लोग उन्हें जैसे तैसे लेकर घर के लिए रवाना हुए।

आयोजकों ने कहा कोरोना के बाद जब यह आयोजन इस साल किया गया है तो पहली बार इस आयोजन में अब तक की सबसे ज्यादा भीड़ पहुंची है । अगले साल इस आयोजन को और बड़ा करने की तैयारी है।

यह भी पढ़े- राजस्थान में चोरी करते पकड़ा गया चोर: गुस्साए लोगों ने थप्पड़ और लाते मार कर कर दिया अधमरा

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios