राजस्थान के गौ भक्तों का जवाब नहीं : गौशाला के लिए 1 घंटे में जुटा लिए 32 लाख, लाखों रुपए की जमीन भी मिली

| Nov 27 2022, 04:20 PM IST

 राजस्थान के गौ भक्तों का जवाब नहीं : गौशाला के लिए 1 घंटे में जुटा लिए 32 लाख, लाखों रुपए की जमीन भी मिली

सार

राजस्थान के झुंझुनू जिले में गौ भक्तों जो कामल कर दिखाया वह सैल्यूट करने वाला है। यहां लोगों ने गौशाला के लिए चंदा किया और 1 घंटे में ही  करीब 32 लाख रुपए जुटा लिए है। साथ ही इस गौशाला के लिए लाखों रुपए की कीमत वालीजमीन भी मिली है।

झुंझुनू (राजस्थान). हम तो कल हम देखते हैं कि जब भी कोई गौशाला का निर्माण किया जाता है या अन्य कोई पशु चारागाह बनाया जाता है तो उसके निर्माण के लिए चंदा जुटाने में काफी समय लग जाता है। लेकिन अब राजस्थान के झुंझुनू जिले में एक गौशाला ऐसी बनने जा रही है। जहां इस गौशाला के लिए चंदा महेश 1 घंटे में ही इकट्ठा हो गया। यह चंदा हजारों में नहीं बल्कि करीब 32 लाख रुपए है। साथ ही इस गौशाला के लिए लाखों रुपए की कीमत वाली 12 बीघा जमीन भी मिली है।

गौशाल के लिए जमीन दान देंगे यह दो शख्स
यह गौशाला झुंझुनू जिले के जाखल गांव में बनेगी। फिलहाल अभी भी इसके लिए लोगों की तरफ से चंदा मिलता जा रहा है। 30 नवंबर को गौशाला का शिलान्यास होगा। खास बात तो यह है कि इस गौशाला के निर्माण के लिए जमीन देने वाले राजेंद्र प्रसाद सोनी और रामजीलाल मूंड हैं तो झुंझुनू के ही। लेकिन वह पिछले काफी समय से व्यापार के सिलसिले में झुंझुनू से बाहर ही रहते हैं। लेकिन अब इतने समय बाहर रहने के बाद भी उन्होंने यहां गायों के लिए यह बेड़ा उठाया है।

Subscribe to get breaking news alerts

जानिए क्या होगा इस गौशाला का नाम
इस गौशाला का नाम श्री बाबा सुंदर दास गोपाल गौशाला होगा। इसके लिए एक कार्यकारिणी भी बनाई गई है। 30 नवंबर को इस गौशाला का शिलान्यास होने के बाद काम शुरू हो जाएगा। करीब 6 महीने तक गौशाला बनकर तैयार हो जाएगी। इसके बाद अगले तीन से चार महीने में इसका सुचारू रूप से संचालन होगा।

गौ प्रेम का राजस्थान का ऐसा पहला मामला है यह
राजस्थान में यह गौ प्रेम का ऐसा पहला मामला नहीं है। इससे पहले राजस्थान के एक करोड़पति उद्यमी ने अपनी गाय के लिए करोड़ों रुपए का बंगला बनवाया था। उस बंगले में केवल गाय ही रहती है। साथ ही काय की सेवा और सुरक्षा के लिए करीब आधा दर्जन से ज्यादा कर्मचारियों को भी लगाया गया है।

यह भी पढ़ें-रिटायर्ड हो चुके 2 बेटों ने अपने पिता की याद में बनवाया मंदिर: एक SP तो दूसरा भी बड़ा अफसर, दिलचस्प है कहानी