Asianet News HindiAsianet News Hindi

जयकारों के बीच मातम की चीखें: दुर्गा मां की विदाई में गए थे, देखते ही देखते एक ही परिवार के 5 लोगों की मौत

राजस्थान के धौलपुर से एक दुखद खबर सामने आई है। जहां मां दुर्गा की प्रतिमा का विसर्जन करने आए एक ही परिवार के 5 युवकों की नदी में डूबने से मौत हो गई। करीब देर रात तक 3 घंटे चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद शवों को बाहर निकाला गया। 

rajasthan news big accident on dussehra 2021  5 youths died due  to drowning durga idol immersion
Author
Dholpur, First Published Oct 16, 2021, 8:10 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

धौलपुर (राजस्थान). पूरे देश में दशहरे का त्यौहार धूमधाम से मनाया गया। लेकिन राजस्थान के धौलपुर से एक दुखद खबर सामने आई है। जहां मां दुर्गा की प्रतिमा का विसर्जन करने आए एक ही परिवार के 5 युवकों की नदी में डूबने से मौत हो गई। करीब देर रात तक 3 घंटे चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद शवों को बाहर निकाला गया। मृतकों के परिवार में मातम बिखरा हुआ है, कहां वह कुछ देर पहले माता रानी के जयकारे लगा रहे थे, अब वही बिलख रहे हैं।

देखते ही देखते एक के बाद एक पांचों ही डूब गए
दरअसल. यह दर्दनाक हादसा  धौलपुर के बसेड़ी गांव में पार्वती नदी में शुक्रवार रात को हुआ। जहां आगरा के भवनपुरा गांव के रहने वाले लोग  मां दुर्गा की प्रतिमा का विसर्जन करने आए थे। वह नदी की गहराई में प्रतिमा को लेकर पहुंचे और मूर्ति ज्यादा वजनी होने के कारण इनका बैलेंस बिगड़ गया। देखते ही देखते एक के बाद एक पांचों लोग डूबते चले गए।

यह भी पढ़ें-मौत का खौफनाक मंजर : देवी दर्शन के लिए जा रहे श्रद्धालुओं से भरी ट्रॉली पलटी, 11 मौत, कई घायल

सभी की उम्र 22 से 24 साल के बीच थी
घटना की जानकारी लगते ही आगरा पुलिस मौके पर पहुंची और करीद तीन घंटे सर्च ऑपरेशन चलाने के बाद शव बरामद किए। मृतकों में राजेश और रणवीर दोनों सगे भाई थे। वहीं सत्यपाल, संजय और कृष्णा भी इन्ही के परिवार से थे। सभी की उम्र 22 से 24 साल के बीच है। पुलिस ने पांचों के शव परिजनों को सौंप दिए गए हैं।

यह भी पढ़ें-छत्तीसगढ़ में लखीमपुर जैसी घटना: तेज रफ्तार कार ने सड़क पर चल रही भीड़ को रौंदा, एक की मौत, 26 घायल

एक महीने बाद शादी थी..अब दूल्हा बनने से पहले निकलेगी अर्थी
बता दें कि हादसे में मारे गए राजेश की एक महीने बाद शादी थी। परिवार बेटे की शादी की तैयारियों में लगा हुआ था। पिता कालीचरण का कहना है कि विवाह का अधिकतर काम हो चुका था। खाने से लेकर गहने और कपड़ों की खरीददारी हो चुकी थी। लेकिन दुखों का जो पहाड़ टूटा है उससे सारी खुशियां बिख गईं। मां अपने बेटो को देखकर बिलख रही हैं वह बार-बार यही कह रही हैं कि देवी मां तूने यह क्या कर दिया।, तो पिता भी परिजनों को संभालते-संभालते रो रहे हैं।
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios