राजसमंद से इस वक्त की बड़ी खबर: जिंदगी की जंग हारा जला हुआ पुजारी, 7 दिन बाद सांसों ने छोड़ दिया दामन

| Nov 26 2022, 01:49 PM IST

राजसमंद से इस वक्त की बड़ी खबर: जिंदगी की जंग हारा जला हुआ पुजारी, 7 दिन बाद सांसों ने छोड़ दिया दामन

सार

राजस्थान के राजसमंद जिले में पुजारी दंपति को जिंदा जलाने वाले मामले में बड़ा अपडेट सामने आया है। 7 दिनों से जारी इलाज के दौरान पीड़ित पुजारी ने आज यानि शनिवार के दिन जयपुर के MB हॉस्पिटल में तोड़ा दम। डॉक्टरों ने बचाने का पूरा प्रयास किया पर नहीं लौटा पाए सांसे।

राजसमंद (rajsamand). राजस्थान के राजसमंद जिले के देवगढ़ थाना इलाके में स्थित हीरा की बस्ती गांव में पुजारी दंपति को जिंदा जलाने के प्रयास मामले में बड़ा अपडेट सामने आया है। बता दें कि पुजारी का पिछले 7 दिन से उदयपुर के एमबी हॉस्पिटल में उपचार चल रहा था। डॉक्टरों ने पुजारी को बचाने का काफी पूरा प्रयास किया लेकिन पुजारी को नहीं बचा सके। शनिवार के दिन उन्होंने अपनी अंतिम सांस ली। वहीं पत्नी का गंभीर हालत में इलाज जारी है। पुलिस ने केस में अभी तक 7 लोगो को अरेस्ट किया है।

80 प्रतिशत तक झुलस गए थे पुजारी, सांस लेने में होती थी तकलीफ
जानकारी के अनुसार पुजारी नवरत्नलाल  के ऊपर हुए हमले में वे 80 प्रतिशत तक झुलस गए थे तब से ही उनका बर्न वार्ड में उपचार चल रहा था। बताया जा रहा है कि ज्यादा झुलसने के कारण पुजारी नवरत्नलाल को सांस लेने में काफी परेशानी हो रही थी उन्हें वेंटीलेटर पर भी रखा गया था लेकिन उन्हें नहीं बचाया जा सका। बता दें कि बदमाशों ने खाना खाते वक्त पुजारी दंपति को जलाने का प्रयास किया था। इस हादसे में पुजारी नवरत्नलाल ने आज दम तोड़ दिया तो वहीं पुजारी की पत्नी का अभी भी हॉस्पिटल में उपचार जारी है।

Subscribe to get breaking news alerts

यह था पूरा मामला
बता दें कि राजसमंद जिले के देवगढ़ के पास हीरा की बस्सी गांव में गत 20 नवंबर की रात संत और उसका परिवार भोजन करने बैठा था तभी आरोपियों ने घर में घुसकर उनपर पेट्रोल बम से हमला कर दिया था। जिसकी जानकारी पुलिस को दी गई थी। वारदात में झुलसे पुजारी मामले में राजसमंद जिला पुलिस प्रशासन ने त्वरित कार्रवाई की थी। इस पूरे मामले की जांच राजसमंद डिप्टी बेनीप्रसाद मीणा कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि यह पूरा मामला जमीन विवाद से जुड़ा है। इस घटना को लेकर परिवार व समाज के लोगों में आक्रोश व्याप्त है। 

थानाधिकारी और चौकी प्रभारी हुए सस्पेंड
राजसमंद कलेक्टर नीलाभ सक्सेना ने उस वक्त मामले को गंभीरता से लेते हुए देवगढ़ तहसलीदार पर विभागीय कार्रवाई करने हेतु आरोप पत्र तैयार किया था तो वहीं राजसमंद पुलिस अधीक्षक सुधीर चौधरी ने आईजी उदयपुर रेंज के निर्देश पर देवगढ़ थानाधिकारी और कामलीघाट चौकी प्रभारी को मामले में लापरवाही बरतने पर सस्पेंड किया था। और इस मामले में कार्रवाई करते हुए कुल 7 बदमाशों को गिरफ्तार किया जा चुका है तो वहीं अन्य बदमाशों की तलाश जारी है। तो वहीं इस मामले के मास्टर माइंड सुपारी किलर जितेंद्र को हैदराबाद से गिरफ्तार किया गया है जिससे पुलिस की पूछताछ जारी है। बता दें कि पुजारी के बेहतर उपचार के लिए उस दौरान राजसमंद कलेक्टर और एसपी दो से तीन बार उदयपुर के हॉस्पिटल पहुंचे थे।

यह भी पढ़े- राजस्थान में पुजारी दंपति को जिंदा जलाया: हैदराबाद से हायर किए थे मास्टर माइंड, सिर्फ 20 हजार में हुई थी डील