Asianet News HindiAsianet News Hindi

सीकर में तीन परिवार पालने वाले के साथ बदमाशों ने की वारदात, चौकीदारी के समय धारदार हथियार से गोदकर ली जान

सीकर जिले के नीमकाथाना क्षेत्र में एक अधेड़ व्यक्ति की गोदाम में चौकीदारी के समय हमला कर मर्डर कर दिया है। मृतक अकेले ही तीन परिवार को पालने वाला था। वह दिन में ऑटो चलाकर तो रात चौकीदारी करता था। मंगलवार 30 अगस्त की देर रात धारदार हथियार की मदद से घटना को दिया अंजाम।

Sikar news man killed in godown where he was a watchman asc
Author
First Published Aug 31, 2022, 2:33 PM IST

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले के नीमकाथाना में भूदोली रोड स्थित कबाड़ के गोदाम में सो रहे चौकीदार की बीती रात धारदार हथियार से हमला कर हत्या कर दी गई। मृतक भूदोली निवासी 50 वर्षीय रणजीत सिंह रात को खाना खाकर चौकीदारी के लिए गोदाम के अंदर सोया था। देर रात को अज्ञात हमलावर गोदाम की दीवार फांदकर अंदर घुसगए और धारदार हथियार से उसके मुंह पर हमला कर दिया। आज सुबह जब वह नहीं उठा तो दीवार फांदकर देखने पर वह मृत अवस्था में बेड पर पड़ा मिला। जिसकी सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर जांच शुरू की। एफएसएल व डॉग स्कवाड को मौके पर बुलाकर साक्ष्य जुटाए गए हैं। इधर, घटना के विरोध में भूदोली के गा्रमीणों के साथ परिजनों ने घटना स्थल के बाहर ही धरना देकर प्रदर्शन शुरू कर दिया है। प्रदर्शनकारी हत्यारों की गिरफ्तारी व मृतक के परिजनों के लिए मुआवजे की मांग कर रहे हैं।

दूध वाले के जगाने पर भी नहीं जागा
चौकीदार की हत्या की जानकारी सुबह दूध विक्रेता के पहुंचने पर हुई। जानकारी के अनुसार दूध लेने के लिए वह रोजाना गोदाम का दरवाजा खोलकर बाहर आता था लेकिन आज जब दूध विक्रेता आया तो वह नहीं जागा। गेट खुलवाने पर भी उसने नहीं खोला। इस पर शक होने पर दूध विक्रेता ने पास से ही गोदाम के मालिक को बुलाया। जिसके बाद गोदाम की दीवार कूदकर देखा तो रणजीत मृत अवस्था में मिला। जिसके मुंह पर हथियार के वार के निशान थे। इसे देख उन्होंने कोतवाली पुलिस को इसकी सूचना दी। जिसके बाद कोतवाली पुलिस और बाद में एएसपी रतन भार्गव, कोतवाल लक्ष्मी नारायण भी मौके पर पहुंचे। 

दिन में चलता था ऑटो, रात को करता चौकीदारी
जानकारी के अनुसार मृतक रणजीत सिंह की आर्थिक हालत खराब होने की वजह से वह दिन में ऑटो चलाकर रात को चौकीदारी करता था। तीन भाइयों में  बड़े भाई की पहले ही मौत हो चुकी है। छोटा भाई मानसिक बीमार है। ऐसे में अपने तीन बच्चों सहित दोनों भाइयों के परिवार का जिम्मा भी उसके ऊपर ही था। ऐसे में वह दिन रात काम कर परिवार पाल रहा था। पर अब हत्या के बाद उसके परिवार पर गंभीर संकट गहरा गया है। 

धरने पर बैठे ग्रामीण
घटना की सूचना के बाद से ही भूदोली व आसपास के लोगों की मौके पर भीड़ जुटना शुरू हो गई। जो बाद में धरने पर बैठकर घटना का विरोध करने लगे। प्रदर्शनकारी अब भी परिजनों के लिए मुआवजे तथा  हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं।

यह भी पढ़े- सफल होना हैं तो पढ़ें सिपाही की बेटी की कहानी: पति और सास-ससुर सबको खो दिया, 17 साल मेहनत के बाद बनीं अफसर

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios