Asianet News HindiAsianet News Hindi

मोबाइल ने 8 महीने की बच्ची की ले ली जान, पूरी कहानी जान कलेजा कांप जाएगा

मोबाइल फोन की वजह से राह चलते होने वाले हादसों के बारे में अक्सर कोई न कोई खबर आती रहती है। पर बरेली में एक मोबाइल कैसे बन गया मासूम का हत्यारा, यह जानकर आपके रूह कांप उठेगी।

uttar pradesh eight month old girl scorched to death due to mobile explosion NTP
Author
First Published Sep 13, 2022, 7:31 PM IST

रिलेशनशिप डेस्क.रात में सोते वक्त मोबाइल को चार्जिंग पर लगाकर भूल जाना या सो जाना आम बात है। रोजमर्रा की जिंदगी में दिनभर फोन पर बात करने के बाद हम रात में फोन को चार्ज में इसलिए लगा देते हैं ताकि सुबह मोबाइल की बैट्री फुल मिले। पर आपकी जरा सी लापरवाही आपके अपनों की  मौत की वजह बन सकती है।  उत्तर प्रदेश के बरेली में जो हादसा हुआ वह इसकी ताजा मिसाल है।

आधी रात में मोबाइल ब्लास्ट ने दहलाया

घटना बरेली के फरीदपुर थाना क्षेत्र की है जहां पचौमी गांव में एक मोबाइल ने मासूम बच्ची की जान ले ली। हुआ यूं कि खेत में काम करने के बाद सुनील नाम का शख्स शाम को जब घर लौटा तो खाना खाने के बाद अपने मोबाइल फोन को चार्जिंग पर लगाकर सो गया। उसने फोन को घर की छप्पर से लटका दिया था जिसके ठीक नीचे चारपाई पर उसकी 8 महीने की बच्ची नेहा सोई हुई थी। आधी रात को अचानक मोबाइल फोन में एक धमाका हुआ और वह नीचे बिस्तर पर गिर पड़ा। देखते ही देखते बिस्तर में आग लग गई और मासूम नेहा बुरी तरह झुलस गई।

हादसे के बाद मचा हाहाकार

धमाके की आवाज सुनकर घर के लोग दौड़े। बिस्तर पर आग लग चुकी थी और बच्ची बुरी तरह चीख रही थी। किसी तरह आग को बुझाया गया और परिजन बच्ची को लेकर जिला अस्पताल भागे। इस हादसे में नेहा की पूरी पीठ और दोनों हाथ झुलस चुके थे। डॉक्टरों ने उसे बचाने की बहुत कोशिश की लेकिन मासूम ने दम तोड़ दिया।

हादसे के बाद परिवार में मातम

8 महीने की नेहा की मौत से पूरा परिवार सदमे में है। पिता सुनील उस पल को कोस रहे हैं जब मोबाइल को चार्जिंग पर लगाया था। मां कुसुम भी हादसे के वक्त कमरे में नहीं थी। कुसुम का कहना है कि अगर उसे जरा भी अंदेशा होता कि ऐसी कोई घटना हो सकती है तो वह अपनी बेटी को वहां कभी नहीं सुलाती। 

बच्चों को लेकर रहिए सावधान

अनहोनी तो हो चुकी लेकिन यह घटना सबक है उन सभी मोबाइल यूजर्स के लिए जो चार्जिंग को लेकर लापरवाही बरतते हैं। जरूरत है इससे सबक सीखने की ताकि हमें ऐसी किसी अनहोनी का सामना न करना पड़े। इतना ही नहीं घर में जब बच्चे हो तो इसे लेकर और भी ज्यादा सतर्कता बरतने की जरूरत होती है। माता-पिता को अपने बच्चों की देखभाल के लिए ज्यादा सावधान रहने की जरूरत हैं। 

और पढ़ें:

प्रेंग्नेट महिला से इश्क कर बैठा शख्स, इसके बाद की कहानी बेहद ही दिलचस्प है

मिल जाएगा सपनों का राजकुमार, नवरात्रि में वृंदावन के इस मंदिर में जाकर करें पूजा

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios