17 साल के लड़के ने बनाई ऐसी टेक्नोलॉजी कि मोदी भी हो गए फैन, जानें इस नई तकनीक के बारे में

| Jan 25 2023, 11:56 AM IST

Rashtriya Bal Puraskar

सार

पीएम मोदी ने पुरस्कार विजेताओं को जीवन में आगे बढ़ने के टिप्स दिए। उन्होंने कहा कि जीवन में आगे बढ़ने के लिए छोटी-छोटी समस्याओं को हल करने की शुरुआत अभी से करें। अपनी क्षमता को बढ़ाएं और आत्मविश्वास को विकसित करें।

टेक डेस्क : 'प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार' (PMRBP) के विजेताओं से पीएम मोदी (Narendra Modi) ने मंगलवार को मुलाकात की। इन बच्चों के टैलेंट से वे इतने प्रभावित हुए कि काफी देर तक उनसे बातचीत करते रहे। उन्हें भविष्य में आगे बढ़ने का मंत्र भी दिया। इसके साथ ही उनकी उपलब्धि पर उन्हें बधाई भी दी। पीएम ने एक-एक कर सभी 11 बच्चों की स्टोरी अपने सोशल मीडिया पर शेयर की। इन बाल पुरस्कार विजेताओं में छत्तीसगढ़ के आदित्य प्रताप सिंह चौहान (Aditya Pratap Singh) से पीएम मोदी काफी प्रभावित दिखाई दिए। उन्होंने ट्वीट कर उनकी कहानी बताई और खास तकनीकी के लिए शुभकामनाएं दी।

छोटी उम्र, बड़ा अचीवमेंट

Subscribe to get breaking news alerts

बता दें कि छत्तीसगढ़ के आदित्य प्रताप सिंह ने पानी में माइक्रो प्लास्टिक का पता लगाया है। उनकी यह खोज बेहद खास है। यह खोज उस वक्त की गई है, जब देश-दुनिया में साफ पानी की काफी किल्लत है। 17 साल के आदित्य ने पानी में सूक्ष्म प्लास्टिक का पता लगाने के लिए 'माइक्रोपा' नाम एक अनूठी तकनीक विकसित की है। जो बेहद ही अलग और खास है। इस टेक्नोलॉजी की मदद से पानी को फिल्टर किया जाता है। इससे पानी के साथ ही पर्यावरण को भी स्वच्छ रखा जा सकता है।

आदित्य की खोज पर्यावरण को पहुंचाएगा फायदा

आदित्य प्रताप सिंह ने जो प्रोजेक्ट बनाया है, वह पर्यावरण के लिए काफी फायदेमंद साबित होगा। इस प्रोजेक्ट से पर्यावरण को प्‍लास्टिक से सुरक्षित रखा जा सकता है। पीएम मोदी ने अपने ट्वीट में लिखा है- आदित्य प्रताप सिंह को 'प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार' से सम्मानित किया गया है। उन्होंने पानी को साफ रखने के लिए जो तकनीक विकसित की है, वह कमाल की है।

इसे भी पढ़ें

राष्ट्रीय बाल पुरस्कार विजेताओं से पीएम मोदी ने की मुलाकात, बोले-जीवन में आगे बढ़ना है तो समस्याओं से डरे नहीं समाधान निकालें...

 

National Tourism Day : 75 साल पहले पहली बार मनाया गया था नेशनल टूरिज्म-डे, ऐसा रहा इतिहास