Chandrayaan 2 Mission  

(Search results - 8)
  • Government told Parliament why hard landing of mission Chandrayaan-2 lander Vikram took place

    NationalNov 21, 2019, 12:57 PM IST

    सरकार ने संसद को बताया, क्यों हुई थी मिशन चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम की हार्ड लैंडिंग

    मिशन चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम की हार्ड लैंडिंग को लेकर संसद में केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने एक लिखित प्रश्न का जवाब दिया। जिसमें उन्होंने विक्रम लैडर को लेकर हुए घटनाक्रम के बारे में जानकारी दी। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि लैंडिंग कराए जाने के पहले फेज में विक्रम के चंद्रमा से 30 किमी से 7.4 किमी ऊंचाई पर आने तक सब कुछ सामान्य था।

  • Varanasi: A DurgaPuja pandal has been made with the theme of Chandrayaan 2 mission

    NationalOct 5, 2019, 9:00 AM IST

    कहीं चंद्रयान 2 तो कहीं 50 किलो सोने से निर्मित प्रतिमा, नवरात्रि में देखें मां दुर्गा के भव्य रूप

    पूरा देश नवात्रि के चलते भक्तिमय हो गया है। जगह-जगह सजे पंडालों ने भक्तों का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित किया है। कहीं सोने से जड़ी मां दुर्गा की प्रतिमा की स्थापना की गई है तो कहीं मोबाइल टॉवर से निकलने वाली UV rays के दुष्परिणाम बताने वाली झांकी सजाई है। इसी कड़ी में वाराणसी में चंद्रयान 2 मिशन की थीम पर पंडाल को सजाया गया है।  विषय के साथ एक दुर्गापूजा पंडाल बनाया गया है। पंडाल में इसरो प्रमुख के सिवन का मॉडल भी है। पूजा समिति के राजेश जायसवाल कहते हैं, "हम इसरो के मानवयुक्त अंतरिक्ष मिशन को भी चित्रित करना चाहते थे, इसलिए हमने अंतरिक्ष यात्रियों के मॉडल भी स्थापित किए।
     

  • Chandrayaan 2 mission, Last hope of contacting lander Vikram

    NationalSep 19, 2019, 12:35 PM IST

    कुछ ही घंटों में खत्म हो जाएगी लैंडर से संपर्क की उम्मीद, नासा तस्वीर लेने में क्यों हुआ फेल

    चंद्रयान-2 के तहत लॉन्च लैंडर विक्रम से संपर्क की उम्मीद लगभग खत्म होने वाली है। चांद पर रात हो रही है, जिससे लैंडर की सौर उर्जा से चलने वाली बैटरी बंद हो जाएगी। लैंडर विक्रम का 7 सितंबर को चांद की सतह पर पहुंचने से 2 किमी पहले संपर्क टूट गया था। इसके बाद से इसरो लगातार लैंडर विक्रम से संपर्क साधने की कोशिश में लगा है। हाल ही में नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन  (नासा) ने  भी विक्रम के साथ संपर्क साधने की कोशिश में लगे हैं।
     

  • Chandrayaan 2: ISRO Chief's big statement, may contact Lander Vikram in next 14 days

    NationalSep 8, 2019, 8:03 AM IST

    चंद्रयान 2: इसरो चीफ का बड़ा बयान, 'अगले 14 दिनों में हो सकता है लैंडर विक्रम से संपर्क'

    चंद्रयान-2 से संपर्क टूटने के बाद इसरो चीफ के सिवन का बड़ा बयान सामने आया है। सिवन ने कहा कि "अगले 14 दिनों तक लैंडर विक्रम से संपर्क बनाने के हमारे प्रयास जारी रहेगें" उन्होंने बताया कि मिशन 95% सफल रहा

  • mayawati praises isro scientists for mission chandrayaan 2

    Uttar PradeshSep 7, 2019, 11:59 AM IST

    वह बच्चा क्या गिरे जो घुटनों के बल चले...चन्द्रयान-2 मिशन के लिए मायवती ने वैज्ञानिकों के लिए कही ये बात

    बसपा प्रमुख मायावती ने शनिवार को ट्वीट कर चन्द्रयान-2 मिशन के लिए इसरो वैज्ञानिकों की सराहना की।

  • Chandrayaan 2 Budget lesser than Avengers Endgame movie

    HollywoodJul 22, 2019, 4:03 PM IST

    फिल्म ‘एवेंजर्स एंडगेम’ के आधे से भी कम है चंद्रयान-2 का बजट

    मुंबई। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) का स्पेसक्राफ्ट चंद्रयान-2 चांद पर जाने के लिए तैयार है। 22 जुलाई को दोपहर 2.43 बजे देश के सबसे ताकतवर बाहुबली रॉकेट GSLV-MK3 से इसे लॉन्च किया जाएगा। इसके बाद चांद के दक्षिणी ध्रुव तक पहुंचने के लिए चंद्रयान-2 की 48 दिन की यात्रा शुरू हो जाएगी। भारत के चंद्रयान-2 मिशन का बजट 978 करोड़ रुपए है। वैसे, देखा जाए तो हॉलीवुड में इससे करीब 3 गुना ज्यादा बजट वाली फिल्में बन चुकी हैं। हालांकि भारत के इस मिशन का बजट भले ही इन फिल्मों से सस्ता है लेकिन कई मायनों में यह इनसे ज्यादा महत्वपूर्ण है।
     
    भारत ही नहीं, दुनिया के लिए भी खास…
    दरअसल, इस मिशन के साथ कुल 13 पेलोड भेजे जा रहे हैं,  जिनमें पांच भारत के, तीन यूरोप, दो अमेरिका और एक बुल्गारिया के हैं। आठ पेलोड ऑर्बिटर में, तीन लैंडर विक्रम में जबकि दो रोवर प्रज्ञान में मौजूद रहेंगे। इस मिशन के जरिए चंद्रमा से जुड़ी खोज और जानकारियां जुटाने में मदद मिलेगी, जिससे न सिर्फ भारत को बल्कि पूरी दुनिया को फायदा होगा। 

    चंद्रयान-2 से दुनिया को मिलेगी ये अहम जानकारी…
    इसरो, चंद्रमा के साउथ पोल पर चंद्रयान-2 को उतारेगा। चांद के इस हिस्से के बारे में दुनिया को ज्यादा जानकारी नहीं है। इसरो के मुताबिक, चंद्रयान-2 चांद के भौगोलिक वातावरण, खनिज तत्वों, उसके वायुमंडल की बाहरी परत और पानी की उपलब्धता की जानकारी इकट्ठी करेगा। इसरो का सबसे जटिल और अब तक का सबसे प्रतिष्ठित मिशन माने जाने वाले 'चंद्रयान-2' के साथ भारत, रूस, अमेरिका और चीन के बाद चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग कराने वाला चौथा देश बन जाएगा। हालांकि कोई भी देश अब तक चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास यान नहीं उतार पाया है।

  • Chandrayaan 2 Mission Launch GSLV MK 3

    NationalJul 22, 2019, 3:26 PM IST

    ‘बाहुबली’ से लॉन्च हुआ चंद्रयान-2, ये है रोबोटिक रोवर को चांद पर ले जाने वाले रॉकेट की खासियत

    श्रीहरिकोटा। भारतीय अंतिरक्ष अनुसंधान संगठन  (ISRO) ने इतिहास रचते हुए चंद्रयान-2 को लॉन्च कर दिया है। आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन स्पेस सेंटर से दोपहर 2:43 मिनट पर चंद्रयान-2 को लॉन्च किया गया। चंद्रयान-2 को भारत के 'बाहुबली रॉकेट' GSLV मार्क III-M1 से लॉन्च किया गया। इसरो के वैज्ञानिकों ने इस बाहुबली रॉकेट को यह नाम उसके विशालकाय आकार की वजह से दिया है। दरअसल इसका नाम जियोसिंक्रोनस स्टैडिंग सेटेलाइट लॉन्च व्हिकल मार्क 3 है। जानते हैं चंद्रयान-2 को लॉन्च करने वाले रॉकेट GSLV मार्क III-M1 की खासियत…

  • Indian Space Research Institute, Chandrayaan-2 will be launched on July 15

    Other StatesJul 8, 2019, 2:14 PM IST

    इसरो ने शेयर कीं चंद्रयान-2 की तस्वीरें, 15 जुलाई को लांच होगा 1000 करोड़ रुपए की लागत वाला यह यान

    चंद्रयान-2 15 जुलाई को लांच किया जाएगा। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (इसरो) ने इसकी घोषणा कर दी है। लॉन्चिंग के पहले इसरो ने वेबसाइट पर चंद्रयान की तस्वीरें शेयर की हैं। करीब 1000 करोड़ रु. लागत के इस मिशन को जीएसएलवी एमके-3 रॉकेट से लॉन्च किया जाएगा।