Human Rights  

(Search results - 49)
  • VHP condemned the incidents of attacks on temples of Hindus in BangladeshVHP condemned the incidents of attacks on temples of Hindus in Bangladesh

    NationalOct 14, 2021, 8:04 PM IST

    बांग्लादेश में मंदिरों पर हमले पर विहिप ने जताई चिंता, हिंदुओं की रक्षा और जिहादियों पर कार्रवाई की मांग

    रात के अंधेरे में चटगांव मंडल के कोमिला क्षेत्र में हमलावरों ने विभिन्न स्थानों पर दुर्गा पूजा पंडालों को तोड़ दिया और पूजा मंडपों में उनके प्रतीकों के इस तरह के विनाश से हिंदू समाज बहुत आहत है। 

  • PM modi to participate in 28th Foundation Day program of National Human Rights CommissionPM modi to participate in 28th Foundation Day program of National Human Rights Commission

    NationalOct 12, 2021, 7:28 AM IST

    NHRC के स्थापना दिवस पर PM: 'कुछ लोग ह्यूमन राइट्स की आड़ में Politics करके देश की छवि को नुकसान पहुंचा रहे'

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने आज राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग( National Human Rights Commission) के 28वें स्थापना दिवस कार्यक्रम को संबोधित किया। कार्यक्रम वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये हुआ।

  • story of NUN Gloria Cecilia Narvaez  she released from the prison of terrorist organization Al Qaedastory of NUN Gloria Cecilia Narvaez  she released from the prison of terrorist organization Al Qaeda

    WorldOct 11, 2021, 8:49 AM IST

    बहादुर NUN:5 साल जिहादियों की कैद में रही; जिंदगी बचाने कुरान सीखी, अंतत: पिघल गए 'शैतानों' के दिल

    बोगोटा(Bogot).यह कहानी कोलंबिया (Colombia) की नन ग्लोरिया सेसिलिया नारवेज ( NUN Gloria Cecilia Narvaez) की है, जो कोई चार-छह महीने नहीं; बल्कि 4 साल और 8 महीने तक जिहादियों की कैद में रही। उसे यातनाएं दी गईं। जिहादियों ने अल्टीमेट दिया कि अगर जिंदा रहना है, तो कुरान सीखो। ग्लोरिया ने कुरान को एक पवित्र ग्रंथ जानकर पढ़ा और काफी कुछ सीखा। आखिरकार जिहादी इन नन की हिम्मत के आगे हार गए और उसे मुक्त कर दिया। रविवार को जब कैथोलिक ईसाइयों के सर्वोच्च धार्मिक नेता पोप फ्रांसिस ग्लोरिया से मिले, तो भावुक हो उठे। पढ़िए पूरी कहानी...

  • UN Commissioner for Human rights worried for Myanmar Civilians after military Junta activitiesUN Commissioner for Human rights worried for Myanmar Civilians after military Junta activities

    WorldOct 8, 2021, 9:25 PM IST

    अपने ही नागरिकों पर एयर स्ट्राइक और बमबारी कर रही जुंटा सेना, UN ने नागरिकों की सुरक्षा पर चिंता जताई

    फरवरी में म्यांमार सेना द्वारा आंग सान सू की सरकार को हटाने के बाद से यह देश संकट में है। म्यांमार में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन हुए तो विभत्स खूनी कार्रवाई भी हुई।

  • nobel peace prize to maria ressa and dmitry muratov for freedom of expressionnobel peace prize to maria ressa and dmitry muratov for freedom of expression

    WorldOct 8, 2021, 3:26 PM IST

    'अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता' की आवाज बुलंद करने वाले जर्नलिस्ट मारिया और दिमित्री को मिला 'शांति का नोबेल'

    अलग-अलग क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने वालों के लिए नोबेल पुरस्कारों(nobel prize) की घोषणा की जा रही है। शुक्रवार को मारिया रेसा और दिमित्री मुराटोव को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की रक्षा(freedom of expression) के लिए नोबेल पुरस्कार की घोषणा की गई है।

  • Afghanistan conflict, Taliban inhuman treatment of minoritiesAfghanistan conflict, Taliban inhuman treatment of minorities

    WorldOct 6, 2021, 8:30 AM IST

    अफगानिस्तान के इस गुरुद्वारे में सिख-मुसलमानों की 'संगत' Taliban को नहीं आई रास, दिखाई अपनी नफरत

    काबुल. 15 अगस्त को काबुल पर कब्जा करने के बाद जैसे Taliban अफगानिस्तान में रहने वाले अल्पसंख्यकों(minorities) के लिए 'यमराज' बनकर प्रकट हुआ है। यहां रहने वाले सिखों पर तालिबान का लगातार अत्याचार बढ़ता जा रहा है। मंगलवार को तालिबान ने काबुल के प्रसिद्ध कर्ते परवान गुरुद्वारे में गदर मचाया। ये वो गुरुद्वारा है, जहां मुसलमान भी आकर अपना सिर झुकाते रहे हैं। लेकिन कट्टर तालिबान को यही रास नहीं आ रहा है। बता दें कि मंगलवार को हथियारों से लैस तालिबानी लड़ाके गुरुद्वारे में घुसे और तलाशी ली। इस दौरान वहां मौजूद लोगों से बदसलूकी भी की। CCTV में यह घटना कैप्चर हुई है। गुरुद्वारे के प्रमुख भाई गुरनाम सिंह ने इसकी जानकारी दी। तालिबानी लड़ाके मंगलवार शाम करीब 4 बजे गुरुद्वारे में घुसे थे। जानिए अफगानिस्तान में सिखों की स्थिति..
     

  • Afghanistan conflict, Shocking case of human rights violation of Hazara communityAfghanistan conflict, Shocking case of human rights violation of Hazara community

    WorldOct 5, 2021, 11:12 AM IST

    Shocking: हजारा समुदाय के खून का प्यासा हुआ तालिबान, फिर 13 लोगों की बेरहमी से हत्या, ISI-K अलग से दुश्मन

    काबुल. 20 साल बाद Afghanistan से अमेरिका के सैन्य अभियान(military operation) के खात्मे के साथ ही तालिबान की क्रूरता की घटनाएं सामने आने लगी हैं। तालिबान ने दायकुंदी प्रांत में रहने वाले हजारा समुदाय पर जुल्म ढाना शुरू कर दिया है। वैश्विक मानवाधिकार संगठन एमनेस्टी इंटरनेशनल(Global human rights organization Amnesty International) ने एक रिपोर्ट दी है। इसमें कहा गया है कि तालिबान हजारा समुदाय के नरसंहार पर उतर आया है। उसने हाल में इस समुदाय के 13 लोगों को मार डाला। इसमें एक 17 साल की लड़की भी थी। तालिबान के 300 लड़ाकों का एक काफिला 30 अगस्त को खिद्र जिले में गया था, यहां उसने अफगान नेशनल सिक्योरिटी फोर्स(ANSF) के 11 पूर्व सैनिकों को भी मार डाला था।
     

  • Afghanistan conflict, Women protesting courageously against TalibanAfghanistan conflict, Women protesting courageously against Taliban

    WorldOct 1, 2021, 3:15 PM IST

    और तालिबान लड़ाकों से अकेले भिड़ गई ये लड़की; यह जानते हुए भी कि उसे मौत के घाट उतारा जा सकता है

    काबुल. 15 अगस्त के बाद से जैसे अफगानिस्तान की महिलाओं की जिंदगी पूरी तरह से बदल गई है। इस दिन तालिबान ने काबुल पर कब्जा कर लिया था। अफगानिस्तान में अपनी सरकार बनाकर Taliban के शरिया कानून लागू कर दिया है। पुरुषों को दाढ़ी-मूंछे कटवाने की मनाही है। लेकिन सबसे अधिक दिक्कत महिलाओं को हो रही है। उन्हें 5वीं के बाद आगे स्कूल जाने पर पाबंदी लगा दी गई है। वहीं, फैशन, जॉब आदि की भी मनाही है। इसे लेकर महिलाएं अब खुलकर विरोध करने लगी हैं। 

  • Afghanistan  pictures showing Taliban terror in countryAfghanistan  pictures showing Taliban terror in country

    WorldSep 29, 2021, 11:00 AM IST

    TERROR IS BACK: अफगानिस्तान में फिर दिखने लगा 90 के दशक का 'तालिबानी खौफ'

    काबुल. अफगानिस्तान में Taliban की वापसी के साथ ही फिर से 90 के दशक जैसा खौफ लौट आया है। तालिबान दकियानूसी शरिया कानून की आड़ में लोगों को टॉर्चर करने लगा है। 15 अगस्त को अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद से तालिबान लगातार लोगों को क्रूरता से सजा दे रहा है। नाइयों को लोगों की दाढ़ी-मूंढ न काटने की हिदायत दी गई है। लड़कियों को पांचवीं के बाद स्कूल जाने की मनाही है। इस पूरे घटनाक्रम में पाकिस्तान की भूमिका को लेकर अमेरिका सख्ती दिखाने लगा है। यह हैरान करने वाली बात है कि जनवरी में जब से जो बाइडेन(Joe Biden) ने अमेरिकी राष्ट्रपति का पद संभाला है, तब से उन्होंने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान(Imran Khan) का एक भी बार कॉल रिसीव नहीं किया। सोमवार को व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने नियमित प्रेस वार्ता के दौरान साफ कहा कि बाइडेन कब इमरान को कॉल करेंगे या नहीं करेंगे, इस बारे में नहीं बता सकती हैं। आइए देखते हैं अफगानिस्तान की कुछ तस्वीरें और मौजूदा घटनाक्रम...

  • Some pictures showing human rights and women safety in AfghanistanSome pictures showing human rights and women safety in Afghanistan

    WorldSep 28, 2021, 10:05 AM IST

    Shocking pictures:अगर पाकिस्तान पर कब्जा कर लेगा क्रूर Taliban, तो दुनिया के सामने होगा एक भयंकर खतरा

    काबुल. अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद Taliban की हिम्मत बढ़ती जा रही है। अफगानिस्तान में शरिया कानून को लागू कराने वो आमजनों का टॉर्चर(torture) करने लगा है। इस्लामिक कट्टरपंथी तालिबान ने लड़कियों की एजुकेशन पर पांचवीं के बाद पाबंदी लगा दी है। नाइयों को दाढ़ी-मूंछ न काटने की हिदायत दी है। हजारा समुदाय को प्रताड़ित किया जा रहा है। इस बीच अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप(Donald Trump) के सुरक्षा सलाहकार रह चुके जॉन बोल्टन(John Bolton) ने आशंका जताई है कि अमेरिकी सेना की वापसी के बाद तालिबान पाकिस्तान के 150 परमाणु बमों(nuclear bombs) पर कब्जा कर सकता है। यह भी आशंका जताई जा रही है कि इसस्लामिक कट्टरपंथी अगर पाकिस्तान पर कब्जा कर लेते हैं, तो वे परमाणु बम हथिया लेंगे।
     

  • Afghanistan conflict, Some Shocking and Emotional Pictures of Hunger, Poverty and WarAfghanistan conflict, Some Shocking and Emotional Pictures of Hunger, Poverty and War

    WorldSep 16, 2021, 10:16 AM IST

    बड़ी खूबसूरत थी वो ज़िंदगानी: क्या से क्या हुआ Afghanistan, तालिबान के आने के बाद सबकुछ तबाह

    काबुल. Afghanistan में Taliban की वापसी के साथ जैसे पूरा मुल्क बर्बादी के रास्ते पर चल पड़ा है। किसी के पास कोई रोजगार नहीं है। लोग भूख मिटाने घर का सामान बेच रहे हैं। जो बच्चे पढ़-लिखकर अपना भविष्य बनाना चाहते थे, उनका स्कूल छूट गया है। लोगों के पास रोजगार नहीं है। वहीं, पंजशीर में अभी भी लड़ाई जारी है, इससे भी हजारों लोग घरबार छोड़कर भागने को मजबूर हैं। इस बीच तालिबान सरकार का डिप्टी प्रधानमंत्री अब्दुल गनी बरादर बुधवार को एक टीवी इंटरव्यू में नजर आया। इसके बारे में कहा जा रहा था कि वो आपसी झगड़े में घायल हुआ है या मारा गया। समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, दोहा स्थित तालिबान के राजनीति दफ्तर की ओर से यह वीडियो जारी किया गया है। हालांकि वीडियो के ओरिजनल होने पर भी शक है। खैर, ये तस्वीरें अफगानिस्तान की मौजूदा स्थिति को बयां करती हैं। 

     

  • Unique online campaign for the safety and rights of women in AfghanistanUnique online campaign for the safety and rights of women in Afghanistan

    WorldSep 13, 2021, 12:13 PM IST

    Taliban के टॉर्चर के खिलाफ अफगानी महिलाओं ने चलाया 'फैशनवाला' ऑनलाइन कैम्पेन, यूनिक Pictures

    काबुल. Afghanistan में Taliban की सरकार बनने के बाद महिलाओं के टॉर्चर के मामले बढ़ते जा रहे हैं। सरकार में महिलाओं की भागीदारी जीरो है। वहीं, उन्हें शरिया कानून का पालन करने के लिए प्रताड़ित किया जा रहा है। उनके लिए बुर्का पहनना अनिवार्य कर दिया गया है। फैशन की मनाही है। इसके विरोध में महिलाओं ने सोशल मीडिया( twitter) पर अनूठा अभियान (Unique online campaign) छेड़ दिया है। इसमें अफगानी महिलाओं की पुरानी तस्वीरें शेयर करके उनके फैशन या कपड़ों पर तालिबान की आपत्ति को लेकर आवाज उठाई जा रही है।

  • Taliban government, Videos of women safety and human rights violations in AfghanistanTaliban government, Videos of women safety and human rights violations in Afghanistan

    WorldSep 13, 2021, 10:30 AM IST

    Taliban Is Back: महिला को सरेआम कोड़े मार-मारकर किया लहूलुहान, सामने आया वीडियो

    Afghanistan में Taliban की कार्यवाहक सरकार(caretaker government) बनने के साथ ही शरिया कानून का सख्ती से पालन कराने महिलाओं का टॉर्चर शुरू हो गया है। 

  • Afghanistan Crisis, massive human rights violations by TalibanAfghanistan Crisis, massive human rights violations by Taliban

    WorldSep 11, 2021, 2:07 PM IST

    पंजशीर में नरसंहार पर उतरा Taliban, घर छोड़ भाग रहे लोग, सच दिखाने पर Journalist के साथ किया Shocking

    काबुल. Afghanistan में Taliban की सरकार बनने के बाद नागरिकों का विद्रोह तेज होता जा रहा है। सरकार में महिलाओं की भागीदारी नहीं होने को लेकर जगह-जगह प्रदर्शन हो रहे हैं। वहीं, अब तक पूरी तरह पंजशीर प्रांत नहीं नहीं जीत पाने का गुस्सा तालिबान वहां के लोगों पर निकाल रहा है। आरोप लगाए जा रहे हैं कि यहां तालिबान नरसंहार पर उतर आया है। यहां की एक पूर्व जर्नलिस्ट(Former ToloNews reporter) अनीशा शहीद(Anisa shaheed) के घर पर तालिबानियों ने कब्जा कर लिया है। वहीं,नेशनल रेजिस्टेंस फोर्स(NRF)को लीड कर रहे अहमद मसूद ने एक tweet किया है। इसमें लिखा है कि क्या आप अफगानिस्तान के पंजशीर प्रांत में हो रहे नरसंहार के बारे में जानते हैं ? कृपया उनकी(पंजशीर के लोगों की) मदद करें।

  • Afghanistan crisis, the shocking picture of the human right violation  in the Taliban governmentAfghanistan crisis, the shocking picture of the human right violation  in the Taliban government

    WorldSep 10, 2021, 9:27 AM IST

    Picture बाकी है: गांव-गांव विरोधियों को ढूंढकर उतारा जा रहा मौत के घाट; ऐसे चलेगी Taliban की सरकार

    काबुल. Afghanistan में Taliban की सरकार अपने विरोधियों को सख्ती से कुचल रही है। गांव-गांव जाकर विरोधियों को ढूंढकर मौत के घाट उतारा जा रहा है। ऐसा नेशनल रेजिस्टेंस फोर्स(NRF) का सपोर्ट करने वाले twitter पेज ने बयां किया है। जबकि taliban के समर्थन में बना पेज talib Times कहता है कि लड़कियों को पढ़ने की पूरी आजादी है, लेकिन उन्हें इस्लाम के हिसाब से हिजाब पहनना होगा। इस बीच विरोधियों की न्यूज कवर वाले दो मीडियाकर्मियों को बेरहमी से टॉर्चर करने का मामला दुनियाभर में तूल पकड़ गया है। सोशल मीडिया पर उनकी तस्वीरें शेयर करके तालिबानी सरकार की असलियत दिखाई जा रही है।