Ips Exam  

(Search results - 8)
  • these are the 10 tricky question which is asked in UPSC exam KPZthese are the 10 tricky question which is asked in UPSC exam KPZ
    Video Icon

    CareersSep 12, 2020, 5:09 PM IST

    कौन सी चीज है जो गर्म करने पर जम जाती है.. जानें UPSC इंटरव्यू का दिमाग चकरा देने वाला जवाब

    वीडियो डेस्क। यूपीएससी इंटरव्यू (UPSC Interview) में अधिकतर पूछे जाने वाले सवाल इतने अजीब होते हैं कि कैंडिडेट का दिमाग चकरा जाता है। इंटरव्यू में पर्सनैलिटी टेस्ट के लिए ट्रिकी सवाल घुमा-फिराकर पूछे गए होते हैं लेकिन जवाब तक पहुंचने में लोग सोचते रह जाते हैं। 

  • UPSC exam success story, This youth is not happy with IPS job, now becomes IAS kpaUPSC exam success story, This youth is not happy with IPS job, now becomes IAS kpa

    JharkhandAug 4, 2020, 5:16 PM IST

    IPS बनकर खुश नहीं था यह युवा...ट्रेनिंग के दौरान करता रहा तैयारी और अब IAS बनकर किया ड्रीम पूरा

    जिंदगी में जो ड्रीम सोचा है, उसे पूरा करने हमेशा कोशिशें जारी रखें। आज नहीं तो कल, आपको अपनी मनमुताबिक मंजिल अवश्य मिलेगी। झारखंड के गढ़वा के रहने वाले शिवेंदु भूषण इसका सशक्त उदाहरण हैं। यूपीएससी-2018 में इन्हें 120वीं रैंक मिली थी। लिहाजा, इन्हें IPS के लिए चुना गया था। शिवेंदु खुश नहीं थे। वे IAS बनना चाहते थे। उन्होंने कोशिश जारी रखी और इस बार वे IAS बनकर ही मानें। बता दें कि 4 अगस्त को UPSC-2019 का रिजल्ट घोषित किया गया है।

  • MPSC results: Success Story of Wasima Sheikh, third topper in Maharashtra Public Service Commission kpaMPSC results: Success Story of Wasima Sheikh, third topper in Maharashtra Public Service Commission kpa

    MaharashtraJun 24, 2020, 5:06 PM IST

    भाई अफसर नहीं बन सका, तो उसने रिक्शा चलाकर बहन को डिप्टी कलेक्टर बनवा दिया, इसी कच्चे घर में रहता है परिवार

    नांदेड़, महाराष्ट्र. कहते हैं कि 'मुश्किल नहीं है कुछ भी, बस आग दिल में चाहिए..हो तनिक विश्वास मन में, जोशो-जुनून चाहिए!' इस लड़की ने यही साबित किया। तस्वीर में इसका घर देख सकते हैं। इस कच्चे घर में रहता है उसका परिवार। पिता मानसिक विकलांग होने से कोई काम नहीं करते। मां खेतों में मेहनत-मजदूरी करती है। बड़ा भाई रिक्शा चलाकर घर-परिवार की गाड़ी खींच रहा है। लेकिन बिटिया ने सबका सपना पूरा कर दिया।  इसी हफ्ते घोषित हुए MPSC के रिजल्ट की टॉपर लिस्ट में तीसर नंबर पाने वालीं वसीमा शेख डिप्टी कलेक्टर के लिए चुनी गई हैं। हालांकि वे 2018 में सेल्स टैक्स इंस्पेक्टर की पोस्ट पर चयनित हो चुकी थीं। लेकिन उनका सपना डिप्टी कलेक्टर बनना था। उनका भाई भी अफसर बनना चाहता था, लेकिन आर्थिक तंगी के कारण उसने अपने सपने को तिलांजलि दे दी। वो रिक्शा चलाता है। उसने रिक्शे की कमाई से छोटी बहन की पढ़ाई जारी रखवाई। भाई भी  MPSC की तैयारी कर चुका है, लेकिन पैसे न होने से एग्जाम नहीं दे सका। वसीमा शादीशुदा हैं। 3 जून, 2015 में उनका निकाह हुआ था। उनके पति हैदर भी MPSC के एग्जाम की तैयारी कर रहे हैं। पढ़िए गरीब घर की बिटिया के अफसर बनने की कहानी....

  • Lady IPS Bharti Arora's action against the Criminals kpaLady IPS Bharti Arora's action against the Criminals kpa

    HaryanaJun 10, 2020, 6:04 PM IST

    हरियाणा के वर्तमान होम मिनिस्टर से पंगा लेने वालीं लेडी दबंग IPS फिर एक्शन में, लेकिन इस बार साथ है खुद सरकार

    करनाल, हरियाणा. यह हैं करनाल की पुलिस महानिरीक्षक(IG) भारती अरोड़ा। अपनी कार्यशैली के कारण हमेशा मीडिया की सुर्खियों में रहने वालीं भारती के एक्शन ने कबूतरबाजों की हालत खराब कर दी है। बता दें कि विदेश भेजने के नाम पर धोखाधड़ी करने वालों के खिलाफ सरकार ने कड़े कदम उठाए है। ऐसे गिरोह पर शिकंजा कसने हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने एक विशेष जांच दल (SIT) का गठन किया है। इसके तहत धड़ाधड़ 139 FIR दर्ज की जा चुकी हैं। इस टीम का नेतृत्व कर रही हैं भारती अरोड़ा। बता दें कि इसी IPS ने 2009 में प्रदर्शन के दौरान सड़क जाम करने पर अनिल विज को अरेस्ट करा दिया था। भारती ने गुड़गांव के पुलिस आयुक्त रहे नवदीप सिंह विर्क पर भी प्रताड़ना का आरोप लगाकर सनसनी फैला दी थी। हालांकि भारती की कार्यशैली जनता को पसंद है।

  • Mumbai Corona, Good and bad news related to infection and Maharashtra, see photos kpaMumbai Corona, Good and bad news related to infection and Maharashtra, see photos kpa

    MaharashtraJun 10, 2020, 11:20 AM IST

    इस तस्वीर में खुद को फिट करके देखिए और जानिए मुंबई की एक चौंकाने वाली बस्ती के बारे में

    मुंबई. देश में सबसे अधिक कोरोना संक्रमित हैं, तो वो है महाराष्ट्र। यहां करीब 83 हजार संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से 37 हजार से ज्यादा रिकवर कर चुके हैं। लेकिन 2900 से ज्यादा की मौत हो चुकी है। अगर पूरे भारत का आंकड़ा देखें, तो संक्रमितों की संख्या 2.77 लाख हो चुकी है। हालांकि इनमें से 1.35 लाख ठीक हो चुके हैं, लेकिन 7745 की मौत हो चुकी है। इन सबके बीच मुंबई की धारावी से एक अच्छी खबर भी आ रही है। यहां अब संक्रमितों की संख्या कम हो रही है। देश में अनलॉक-फेज एक होने के बाद लापरवाहियां भी सामने आ रही हैं। मुंबई जैसे महानगर में लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने में लापरवाही कर रहे हैं। ये तस्वीरें दिखाती हैं कि भीड़ में चंद लोग ही कोरोना गाइडलाइन का पालन कर रहे हैं, बाकी अपनी और दूसरों की जिंदगी खतरे में डाल रहे हैं। आइए पहले जानते हैं मुंबई की धारावी की स्थिति..

  • Ranchi News, cricketer Mahendra Singh Dhoni's daughter saved the life of a bird kpaRanchi News, cricketer Mahendra Singh Dhoni's daughter saved the life of a bird kpa

    JharkhandJun 10, 2020, 10:22 AM IST

    फॉर्म हाउस में टहल रही थी धोनी की बेटी, तभी अचेत होकर चिड़िया नीचे गिरी..यह देखकर जीवा चिल्ला पड़ी-'पापा-पापा'

    रांची, झारखंड. भारतीय टीम के धुरंधर क्रिकेटरों में शुमार रहे महेंद्र सिंह धोनी मीडिया की सुर्खियों में बने रहते हैं। खासकर इन दिनों वे अपनी बेटी जीवा के संग काफी फोटोज सोशल प्लेटफॉर्म पर शेयर करते हैं। लेकिन यहां मामला कुछ अलग है। धोनी और उनकी पत्नी साक्षी अपनी बेटी जीवा की एक कोशिश से बहुत खुश हैं। दरअसल, जीवा की समझदारी से एक चिड़िया की जान बच गई। उसने जैसे ही चिड़िया को अचेत होकर जमीन पर गिरते देखा, वो दौड़कर मम्मी-पापा के पास गई और यह बात बताई। धोनी और साक्षी ने चिड़िया को पानी पिलाया। चिड़िया को होश आते ही जीवा भी चहक उठी। यह घटना मंगलवार को धोनी के फॉर्म हाउस में घटी। साक्षी ने चिड़िया का यह फोटो अपने इंस्टाग्राम पर शेयर किया है।
     

  • Lockdown and poverty, emotional stories of poor families kpaLockdown and poverty, emotional stories of poor families kpa

    ChhattisgarhJun 9, 2020, 5:31 PM IST

    लकवाग्रस्त पति भूख से न मर जाए, इसलिए महिला ने दिल पर पत्थर रखकर बेच दिया मंगलसूत्र

    रायपुर/भोपाल. पहली तस्वीर अमृतसर से छत्तीसगढ़ के लिए निकली एक प्रवासी महिला मजदूर की है। उसने जिंदगी में कभी नहीं सोचा था कि मेहनत-मजदूरी करने वालों के साथ भगवान ऐसा कुछ करेगा? दूसरी तस्वीर मध्य प्रदेश के भोपाल में रहने वाली एक लाचार महिला की है। इसका पति लकवाग्रस्त है। यह महिला एक मंदिर के बाहर प्रसाद बेचकर अपने परिवार चला रही थी। बेटा किसी पेट्रोल पंप पर काम करता है। वो उतना नहीं कमाता कि घर और पिता की दवाइयों का खर्चा चल सके। बावजूद यह फैमिली जैसे-तैसे अपना काम चला रही थी कि लॉकडाउन ने उनकी जिंदगी पर जैसे पहाड़ तोड़ दिया। घर में खाने को कुछ नहीं बचा और पति की दवाइयों का इंतजाम नहीं हो पा रहा था, तो महिला ने दु:खी होकर 5000 रुपए में अपना मंगलसूत्र बेच दिया। लॉकडाउन में गरीबों की बेबसी दिखातीं तस्वीरें..

  • Lockdown and job, inspiring story of young IAS Ansar Sheikh kpaLockdown and job, inspiring story of young IAS Ansar Sheikh kpa

    MaharashtraJun 9, 2020, 4:17 PM IST

    कभी मिड डे मील खाकर मिटाते थे भूख, होटल में पोछे मारे, पढ़िए 21 साल में IAS बने ऑटो ड्राइवर के बेटे की कहानी

    पुणे, महाराष्ट्र. मराठवाड़ा के एक छोटे से गांव शेलगांव में पैदा हुए अंसार शेख की संघर्ष गाथा हर युवाओं के लिए प्रेरणा का स्त्रोत है। बेहद गरीब परिवार में पले-पढ़े अंसार शेख 2015 में IAS बने थे। तब ये महज 23 साल के थे। अंसार यूपीएससी की परीक्षा पास करने वाले देश के सबसे छोटी उम्र के IAS थे। यह कोई चमत्कार नहीं था, बल्कि उनके संघर्ष का परिणाम था। उनके पिता ने चार शादियां की थीं। पिता ऑटो चलाकर परिवार पाल रहे थे। इतने पैसे नहीं थे कि बेटे को कॉलेज भेज सकें। कई बार उन्होंने बेटे को पढ़ाई छोड़कर कोई काम-धंधा शुरू करने को कहा। लेकिन बेटे को जैसे पता था कि उसकी मंजिल क्या है। स्कूल में मिड डे मील खाकर अपना पेट भरने वाले अंसार जब कॉलेज में पहुंचे, तो उनके पास सिर्फ एक जोड़ी चप्पल थीं और दो जोड़ी कपड़े। लेकिन लगन ऐसी कि तमाम कठिनाइयों को पार करके यूपीएसएसी का एग्जाम पास किया। अंसार की मां खेतों में काम करती थीं, ताकि परिवार चलाने में कुछ मदद हो सके। लेकिन संघर्ष देखिए.यह परिवार ऐसे गांव में रहता था, जो अकसर सूखे की मार झेलता है। मगर कोई भी जिंदगी से हार मानने को तैयार नहीं था। एक बार अंसारी ने कहा था कि उनके पिता 100-200 रुपए रोज कमाते थे। ऐसे में कई बार एक टाइम का खाना ही नसीब होता था। लेकिन कुछ बनना था, इसलिए कोशिशों में कमी नहीं आने दी। अंसारी को पश्चिम बंगाल कैडर मिला था। पढ़िए संघर्ष की अनूठी कहानी...