Kaal Bhairav  

(Search results - 11)
  • varanasi police takes action against cricketer shikhar dhawan and sailors to feed bird in ganga dva

    CricketJan 25, 2021, 8:01 AM IST

    इस वजह से बुरी तरह फंसे भारतीय टीम के 'गब्बर', सख्त कार्रवाई के मूड में प्रशासन

    स्पोर्ट्स डेस्क : भारतीय क्रिकेट टीम के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन (shikhar dhawan ) मुसीबत में फंसते नजर आ रहे हैं। वाराणासी में नौका विहार के दौरान पक्षियों को खाना खिलाने के कारण उनके ऊपर प्रशासन कार्रवई करने के मूड में है। दरअसल, पूरी दुनिया में बर्ड फ्लू (Bird Flu) का खतरा बढ़ता जा रहा है, ऐसे में पक्षियों को दाना डालने पर प्रतिबंध लगा दिया है। इस बीच शिखर धवन का वीडियो जिसमें वो पक्षियों को दाना खिला रहे हैं, उसकी वजह से वो फंसते दिख रहे हैं। वहीं, नाविक (sailor) के ऊपर भी प्रशासन ने सख्त कार्रवाई की है।

  • Shikhar Dhawan went to kaal bhairav mandir varanasi, dedicates Instagram post for Team India dva

    CricketJan 20, 2021, 12:11 PM IST

    ओंकारा बने भारतीय टीम के गब्बर, इस तरह जीत के बाद दी खिलाड़ियों को बधाई

    स्पोर्ट्स डेस्क : गाबा में भारतीय टीम की ऐतिहासिक (Team india's victory) जीत के बाद हर कोई अपने तरीके से खिलाड़ियों को बधाई दे रहा है। लेकिन जिस तरह से शिखर धवन (Shikhar Dhawan) ने टीम इंडिया को बधाई दी, वो देखने लायक है। दरअसल, भारतीय क्रिकेट के गब्बर टीम की जीत के बाद वाराणसी के काल भैरव मंदिर में दर्शन करने के लिए पहुंचे और भगवान का शुक्रिया अदा किया। वहीं, इंडियन प्लेयर्स के लिए गब्बर ओंकारा बन गए और एक शानदार वीडियो शेयर कर उन्हें सलाम किया। आइए आपको भी दिखाते हैं धवन का ये धांसू अंदाज...

  • Lord Kaal Bhairav knows the Tantra-mantra, why did Lord Shiva have to take this avatar? KPI

    Aisa KyunDec 7, 2020, 10:27 AM IST

    तंत्र-मंत्र के ज्ञाता है भगवान कालभैरव, भगवान शिव को क्यों लेना पड़ा ये अवतार?

    मार्गशीर्ष मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को काल भैरवाष्टमी का पर्व मनाया जाता है। इस दिन भगवान काल भैरव की पूजा की जाती है। धर्म शास्त्रों के अनुसार, इसी दिन भगवान शिव ने काल भैरव अवतार लिया था। इस बार काल भैरवाष्टमी का पर्व 7 दिसंबर, सोमवार को है।

  • Kalabhairava Ashtami today: These are the main Bhairav temples of the country, all are associated with different beliefs KPI

    Aisa KyunDec 7, 2020, 10:17 AM IST

    कालभैरव अष्टमी आज: ये हैं देश के प्रमुख भैरव मंदिर, सभी से जुड़ी है अलग-अलग मान्यताएं

    उज्जैन. आज (7 दिसंबर) अगहन मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि है। इसे कालभैरव अष्टमी कहते हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, इसी तिथि पर भगवान शिव ने कालभैरव के रूप में अवतार लिया था। कालभैरव अष्टमी पर प्रमुख भैरव मंदिरों में भक्तों की भीड़ उमड़ती है। इस मौके पर हम आपको प्रमुख भैरव मंदिरों के बारे में बता रहे हैं, जो इस प्रकार है…

  • Kaal Bhairav Ashtami on 7th December, know the puja vidhi and offerings of Lord Kaal Bhairav KPI

    Aisa KyunDec 6, 2020, 1:24 AM IST

    7 दिसंबर को इस विधि से करें भगवान काल भैरव की पूजा, लगाएं दही बड़े का भोग

    उज्जैन. मार्गशीर्ष मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को कालभैरव अष्टमी कहते हैं। इस दिन भगवान कालभैरव की पूजा की जाती है। धर्म शास्त्रों के अनुसार, भगवान शिव ने इसी दिन कालभैरव अवतार लिया था। इस बार कालभैरव अष्टमी 7 दिसंबर, सोमवार को है। इस दिन भगवान कालभैरव की विधि-विधान से पूजा करने पर भक्तों को सभी सुखों की प्राप्ति होती है।

  • Kaal Bhairav Ashtami on 7th December, do any 1 of these 7 remedies for auspicious result KPI

    UpayDec 6, 2020, 1:16 AM IST

    काल भैरव अष्टमी 7 दिसंबर को, शुभ फल पाने के लिए इस दिन करें इन 7 में से कोई 1 उपाय

    उज्जैन. इस बार 7 दिसंबर, सोमवार को मार्गशीर्ष मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि है। इस दिन कालभैरव अष्टमी का पर्व मनाया जाता है। मान्यता है कि इसी दिन भगवान शिव ने कालभैरव का अवतार लिया था। भगवान कालभैरव को तंत्र का देवता माना गया है। इनकी कृपा के बिना तंत्र साधना अधूरी रहती है। इनके 52 रूप माने जाते हैं। भगवान कालभैरव को प्रसन्न करने के लिए इस दिन कुछ आसान काम करने चाहिए। ये काम इस प्रकार हैं...

  • This temple is amazing in Bihar, dogs were involved in aarti for 20 years ASA

    BiharSep 21, 2020, 6:58 PM IST

    हैरान कर देने वाला है ये मंदिर, यहां 20 साल से कुत्ते होते हैं आरती में शामिल,आदमी लगाते हैं भोग

    बक्सर (Bihar)। चरित्रवन श्मशान घाट परिसर में स्थित श्मशामवासिनी मां काली मंदिर से रोजाना सुबह-शाम 20 साल से हैरान कर देने वाली तस्वीर सामने आ रही है। दरअसल यहां मंदिर के भक्तों में इंसानों के साथ कुत्ते भी सुबह-शाम मंदिर की आरती में झुंड बनाकर शरीक होते हैं। इंसार आरती करते हैं तो ये कुत्ते एक स्वर में भौंकते हैं। आरती के बाद ये भी प्रसाद के रूप में मिलने वाले मिश्री को खाते हैं, जबकि सप्ताह में दो बार कुत्तों को आरती के बाद भोग भी लगाया जाता है। जिसे खाकर वे चले जाते हैं। मान्यता है कि यहां की पूजा करने से काल-विपदा टल जाती है।

  • This incarnation of Lord Shiva had cut off the fifth head of Brahma, here he was liberated for this sin KPI

    Aisa KyunJul 12, 2020, 11:05 AM IST

    भगवान शिव के इस अवतार ने काटा था ब्रहमा का पांचवा सिर, यहां मिली थी ब्रह्महत्या के पाप से मुक्ति

    शिवपुराण के अनुसार, भैरव भी भगवान शंकर के ही अवतार हैं। भैरव के बारे में प्रचलित है कि ये अति क्रोधी, तामसिक गुणों वाले तथा मदिरा के सेवन करने वाले हैं।

  • People are writing letter to God for the elimination of Corona kpl

    Uttar PradeshJun 1, 2020, 2:18 PM IST

    जनता की भलाई के लिए खत्म करो महामारी, कोरोना के खात्मे के लिए लोग भगवान को लिख रहे चिट्ठी

    कहते हैं जब इंसान हर जगह से हार जाता है तब वह भगवान की शरण में जाता है। उसे उम्मीद होती है कि भगवान के ही दरबार से उसे मदद मिल सकेगी। कुछ ऐसा ही नजारा इस समय बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी में देखने को मिल रहा है। काशी में इन दिनों काल भैरव के मंदिर में रोजाना सैकड़ों चिट्ठियां मिल रही हैं। काल भैरव के मंदिर के बन्द कपाट पर सैकड़ों अर्जियां हर हर रोज मिल रही हैं। लोगों में आस्था है कि मंदिर के कपाट भले ही बन्द हो लेकिन भक्तों के पीड़ा का पत्र भगवान जरूर पढ़ेंगे।उनके पत्र को पढ़कर भगवान इस कोरोना महामारी को दूर करेंगे।

  • kaal bhairav ashtami Maharashtra video
    Video Icon

    RashifalNov 18, 2019, 6:46 PM IST

    5 उपाय: नीले फूल, सिंदूर और रोटी से कालभैरव को कर सकते हैं खुश

    इस बार 19 नवंबर मंगलवार को मार्गशीर्ष मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि है। इस दिन कालभैरव अष्टमी का पर्व मनाया जाता है। मान्यता है कि इसी दिन भगवान शिव ने कालभैरव का अवतार लिया था। भगवान कालभैरव को तंत्र का देवता माना गया है। इनकी कृपा के बिना तंत्र साधना अधूरी रहती है। कालभैरव को प्रसन्न करने के लिए इस दिन कुछ आसान काम करने चाहिए।

  • Know about Bhairav, one of Lord Shiva's avataar

    Aisa KyunJul 24, 2019, 6:36 PM IST

    सावन : भगवान शिव के इस अवतार ने काटा था ब्रहमा का पांचवा सिर

    भैरव के बारे में प्रचलित है कि ये अति क्रोधी, तामसिक गुणों वाले तथा मदिरा के सेवन करने वाले हैं। इस अवतार का मूल उद्देश्य है कि मनुष्य अपने सारे अवगुण जैसे- मदिरापान, तामसिक भोजन, क्रोधी स्वभाव आदि भैरव को समर्पित कर पूर्णत: धर्ममय आचरण करें।