Asianet News HindiAsianet News Hindi

Notbandi का आइडिया देने वाले शख्स की कहानी, 9 मिनट का समय मिला-पीएम मोदी 2 घंटे तक सुनते रहे

नोटबंदी (Demonetisation) का आइडिया देने के लिए पीएम मोदी (PM Modi) और अनिल बोकिल (Anil Bokil) के बीच 9 मिनट की मीटिंग तय की गई, लेकिन जब बोकिल ने बोलना शुरू किया तो पीएम मोदी 2 घंटे तक सुनते रहे। 

Anil Bokil who gave the idea of Demonetisation to PM Modi kpn
Author
New Delhi, First Published Nov 8, 2021, 9:52 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. देश में नोटबंदी (Notbandi) के 5 साल पूरे हो चुके हैं। सरकार का ये फैसला कितना सफल रहा, इसका विश्लेषण अलग से किया जा सकता है, लेकिन पीएम मोदी (PM Modi) के दिमाग में ये आइडिया कहां से आया, ये जानना ज्यादा दिलचस्प है। दरअसल, पीएम मोदी के पास नोटबंदी का आइडिया लेकर आने वाले अनिल बोकिल (Anil Bokil) थे। अर्थक्रांति प्रतिष्ठान के अनिल बोकिल पेशे से इंजीनियर हैं और मुंबई में कुछ महीनों तक डिफेंस सर्विस से जुड़े रहे। एक इंटरव्यू में अनिल ने बताया था कि नोटबंदी का आइडिया लेकर वे पीएम मोदी के पास पहुंचे थे। तब उन्हें मुलाकात के लिए सिर्फ 9 मिनट का समय दिया गया था, लेकिन जब चर्चा शुरू हुई तो 2 घंटे तक चली। 

अनिल बोकिल ने नोटबंदी से क्या फायदा बताया था?
अर्थक्रांति संस्थान की तरफ से अनिल बोकिल ने नोटबंदी (Demonetisation) के फायदे बताए थे। उन्होंने कहा था कि नोटबंदी लागू करने से वस्तुओं के दाम कम होंगे। इसके अलावा सामान की मांग बढ़ेगी, जिससे प्रोडक्शन बढ़ाना पड़ेगा। प्रोडक्शन के लिए लोगों की जरूरत पड़ेगी। यानी रोजगार बढ़ेगा। इतना ही नहीं। बैंकों से आसान और सस्ता लोन मिल सकेगा। इसके अलावा जमीन और प्रॉपर्टी की कीमत कम होगी। 

नोटबंदी से आतंकवाद-नक्सलवाद पर क्या फर्क पड़ा?
एक मीडिया संस्थान ने अनिल से सवाल किया कि नोटबंदी से टेररिज्म और नक्सलवाद (Terrorism-Naxalism) पर क्या फर्क पड़ा। जवाब में अनिल ने कहा कि नोटबंदी के बाद नक्सलवाद और आतंकवाद पर नकेल कसी गई है। पहले इन्हें आसानी से फंडिंग मिल जाती थी। लेकिन अब ऐसा नहीं होता है। कश्मीर में बड़ा असर देखने को मिला है। 

क्या नोटबंदी करने से ब्लैक मनी पर लगाम लग गई?
नोटबंदी के बाद कालेधन पर क्या फर्क पड़ा, इस सवाल के जवाब में अनिल ने कहा, नोटबंदी के बाद लेन-देन में ट्रांसपेरैंसी बढ़ी है। लोगों को ट्रैक करना आसान हो गया है। वाइट मनी का सर्कुलेशन बढ़ा है। कम ब्याज दर पर बैंकों से लोन मिल रहा है। महाराष्ट्र की बात करें तो डिजिटाइजेशन की वजह से हर दि यहां रेड हो रही है। बेनामी संपत्तियों को जब्त किया जा रहा है।

नोटबंदी का आइडिया देने वाले अनिल बोकिल कौन हैं?
अनिल बोकिल पेशे से मैकेनिकल इंजीनियर हैं और पुणे में थिंक टैंक अर्थक्रांति के संस्थापक हैं। वे महाराष्ट्र के लातूर के रहने वाले हैं। उन्होंने साल 1999 में अर्थक्रांति को लेकर काम करना शुरू किया और 2004 में अर्थक्रांति को एक संगठन के रूप में रजिस्टर करा लिया। बोकिल कई सामाजिक आर्थिक परियोजनाओं में शामिल है। जैसे कि टिनी इंडस्ट्रीज कॉप इंडस्ट्रियल एस्टेट। ये 75 छोटो Entrepreneurs का एक ग्रुप है, जिसे बोकिल ने ही शुरू किया। 

ये भी पढ़ें

तुमने जो पहना है, उन कपड़ों में मेरे पास मत आ जाना, रेप हो जाएगा..इस मैसेज को पढ़ लड़की का हुआ बुरा हाल

संबंध बनाने के दौरान बैंकर ने कर दी थी लड़की की हत्या, चौंकाने वाली हैं Escort के मौत की कहानी

निर्भया जैसी अजरा की कहानी! मां ने बताया, मुर्दाघर में बेटी की लाश के साथ 3 बार बलात्कार किया गया

लड़की ने पूरी पीठ पर गुदवा लिया बॉयफ्रेंड का नाम, लेकिन एक हफ्ते बाद ऐसा कुछ हुआ, बर्बाद हो गई पूरी जिंदगी

दुनिया में इस जगह 'हनुमान जी' ने लिया जन्म, बच्चे को देखकर माता-पिता के साथ डॉक्टर भी रह गए दंग

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios